Monday, September 28, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 'वसुधैव कुटुम्बकम' अच्छी चीज... लेकिन स्थानीय पहचान को समाप्त करके नहीं: NRC है देश...

‘वसुधैव कुटुम्बकम’ अच्छी चीज… लेकिन स्थानीय पहचान को समाप्त करके नहीं: NRC है देश व समय की माँग

अपने घर में क्लेश करके पड़ोसियों को रोटी खिलाना किस स्थिति में अच्छा माना गया है? मंदिर में दिया जलने से पहले घर में दिया जलाया जाता है। अत: ‘ग्लोबलाइजेशन’ या ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ अच्छी चीज हो सकती है, लेकिन स्थानीय पहचान को समाप्त करके नहीं।

NRC को लेकर देश के कई हिस्सों में लोग गुट बनाकर विरोध में उतर रहे हैं, प्रदर्शन कर रहे हैं। दरअसल वो प्रदर्शन कर रहे हैं हिंसा का, वो प्रदर्शन कर रहे हैं संख्या बल का। वो दिखा रहे हैं कि “देखो, जहाँ-जहाँ हम जैसे लोगों की संख्या थोड़ी भी अधिक है वहाँ-वहाँ हम तोड़-फोड़ कर सकते हैं, सार्वजनिक संपत्तियों में आग लगा सकते हैं, पुलिसकर्मी को मार सकते हैं, परिवहन और यातायात को रोक सकते हैं, जान-माल को नुकसान पहुँचा सकते हैं।” कुल मिलकर उनका स्पष्ट संदेश यह कि वो अगर संख्या बल में कहीं भी अधिक हैं तो उस स्थान पर पुलिस और लोक व्यवस्था को बर्बाद कर सकते हैं।

अव्वल तो इनका कोई नेता नहीं है फिर भी छिटपुट, सड़क छाप नेताओं की भी बात करें, जो इन हिंसक प्रदर्शनों को सपोर्ट कर रहे हैं तो आपको इसमें सबसे पहले बुद्धिजीवियों का वो धड़ा दिखेगा, जिनकी दुकान सरकार बदलने के साथ ही बंद होने के कगार पर पहुँच चुकी है। इसको समझने में बहुत मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। जैसा कि पूरा देश जानता है कॉन्ग्रेस और सपा जैसी पार्टियाँ पारिवारिक पार्टियाँ हैं, यहाँ उन्ही लोगों को पद या प्रतिष्ठा (?) मिलती है जो चाटुकार किस्म के होते हैं, जो राजा द्वारा दिन को रात कहने पर खुद भी ‘रात है, रात है’ की माला जपने लगने हैं।

अफ़सोस कि बीजेपी ‘नेपोटिज्म’ को सपोर्ट नहीं करती इसलिए बीजेपी की सरकार बनने के कारण उनकी चाटुकारिता की दुकान बंद होने लगी, सरकारी खर्चों पर पलना ख़त्म हो गया, उनके बेटे-बेटियों, सगे-संबंधियों को लाभ मिलना बंद हो गया और कोई व्यक्ति कब तक अपने लाभों से समझौता करते हुए अपने घर मुँह बंद करके बैठा रहे! लेकिन इनकी मजबूरी यह कि सरकार ऐसा कोई मौका दे नहीं रही जिसकी आड़ में ये अपना फ्रस्ट्रेशन निकाल पाएँ। तो इस बार इन्होंने अपने लिए मौका बनाया और NRC के बहाने लोगों में गलत प्रचार कर, चालाकी से सिर्फ एक पक्ष दिखाकर और दूसरे पक्ष को छुपा कर उन्हें भड़काना शुरू किया। न सिर्फ रियल लाइफ में बल्कि सोशल मीडिया पर भी इनका यह एक सूत्री कार्यक्रम चलता रहता है। इनके भड़काने की प्रक्रिया कुछ ऐसी है कि ये लोग गुट बनाकर दो धड़ों में बँट जाते हैं। जहाँ एक गुट सोशल मीडिया पर NRC/ CAB या अन्य बेहतर क़दमों पर सरकार के साथ दिखने वाले लोगों के बारे में झूठी बातें फैलाकर चरित्र हनन करते हैं, उन पर व्यक्तिगत आरोप लगाते हैं, उन्हें कुंठित, भक्त, आईटी सेल वाले, भाड़े पर बिकने वाले कहकर उनकी गरिमा को धूमिल करते हैं तो वहीं दूसरा धड़ा लोगों को मुद्दे के बारे में झूठी बातें गढ़कर भड़काने में लग जाते हैं। जब एक साथ इतने सियार मिलकर हुआ-हुआ करने लग जाएँ तो आम जनता जिन्हें कमाने-खाने से वक़्त नहीं मिल पाता, वो धीरे-धीरे इनकी बातों में आने लगते हैं।

अब दूसरे प्रकार के सपोर्टर पर आते हैं। ये वो हैं, जो इन हिंसक प्रदर्शनों को जनांदोलन का नाम देकर अपनी बुझ चुकी राजनीतिक करियर की राख में चिंगारी खोजते रहते हैं। ये वो लोग हैं जिनको राजनीति की मुख्यधारा में वापस लौटने के लिए किसी कंधे की जरुरत है क्योंकि ये अपनी योगता से खुद को कहीं स्थापित करने में कामयाब नहीं हो सके तो आम लोगों को गलत बातें बताकर सरकार के खिलाफ भड़का रहे हैं।

- विज्ञापन -

तीसरे तरह के सपोर्टर को देखें तो ये आपको एक धर्म विशेष के नज़र आएँगे और वो धर्म है- ‘इस्लाम’। लगभग सारे मुसलमान NRC का विरोध कर रहे हैं और ये उपरोक्त दोनों प्रकार के लोगों से संख्या में कहीं ज्यादा हैं। मुसलमान ही इन हिंसक प्रदर्शनों के फ्यूल हैं। मुसलमान क्यों इस रजिस्टर का विरोध कर रहे हैं इसके लिए उनके पास कोई तर्क नहीं है। उनके पास है तो केवल एक अंधी दौड़, एक झूठा डर, जो उपरोक्त दोनों प्रकार के लोगों द्वारा उनके मन में भरा गया है और निरंतर ये डर बेबुनियादी बातों और गलत तर्कों की सहायता से बढ़ाया जा रहा है। कुछ छद्म बुद्धिजीवी तो अयोध्या विवाद को हल करने और तीन तलाक जैसे स्त्री विरोधी एवं दकियानूसी प्रथाओं पर प्रतिबंध लगाने के नाम पर भी मुसलमानों को भड़का रहे हैं। इसमें सिर्फ भड़काने वालों की ही गलती नहीं है बल्कि भड़कने वालों की भी गलती है। अगर आपसे कोई कहे कि कौवा तुम्हारा कान लेकर उड़ रहा है तो पहले अपना कान देखें न कि कौवे को गुलेल मारने में लग जाएँ।

अब फिर ये सवाल उठ जाएगा यहाँ कि NRC है क्या? कैसे ये मुसलमानों के विरुद्ध नहीं है? तो इस तरह के सारे सवालों के लिए हमारा ये लेख पढ़ें और फैसला करें कि NRC कितना मुसलमानों के खिलाफ है!

NRC को लेकर सरकार बार-बार बता रही है कि यह एक रजिस्टर मात्र है, जिसमें राष्ट्र के वैध नागरिकों के नाम दर्ज होंगे। ये सबसे पहले और अब तक सिर्फ असम में इसलिए लागू हुआ है क्योंकि पूर्वोत्तर में स्वतंत्रता प्राप्ति के समय, पाकिस्तान-बांग्लादेश (तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान) युद्ध के समय बड़ी संख्या में शरणार्थी तो आते ही रहे, साथ ही शरणार्थियों की आड़ में अवैध घुसपैठिए भी आते रहे। जिस कारण वहाँ की ‘डेमोग्राफी’ यानी आबादी के प्रकार में काफी बदलाव आता गया। पूर्वोत्तर में यही घुसपैठिए बहुसंख्यक बनते जा रहे हैं जबकि वहाँ के मूल निवासी अल्पसंख्यक होते जा रहे हैं, उदाहरण के तौर पर- त्रिपुरा।

ये समझने की कोशिश कीजिए कि भारत जैसे देश में जहाँ पहले से ही विश्व की करीब 17.71 प्रतिशत जनसंख्या निवास कर रही है, जबकि भारत के पास विश्व की भूमि का केवल 2.4 प्रतिशत है वहाँ घुसपैठियों को या अवैध नागरिकों को जगह नहीं दी जा सकती। और तो और, भारत इस समस्या के कारण जब पहले ही एक युद्ध (पाकिस्तान-बांग्लादेश युद्ध, 1971) में भाग ले चुका है फिर क्यों भारत उसी समस्या को बेताल की तरह ढोते रहे? एक युद्ध के बाद भी ये समस्या अगर मौजूद है तो इससे निपटने के लिए भारत जैसे देश को कोई तो कदम उठाना ही पड़ता और यह सबसे बेहतर कदम इसलिए है क्योंकि NRC अपने नेचर में पूरी तरह से सेक्युलर है। दिसम्बर 2014 में सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद इसे तैयार करने की प्रक्रिया शुरू की गई थी। भारत के वैध नागरिकों को चाहे वो किसी भी जाति, धर्म, संप्रदाय के हों, NRC से कोई दिक्कत नहीं होने वाली है।

इस चीज को हमेशा याद रखा जाए कि मंदिर में दिया जलने से पहले घर में दिया जलाया जाता है। अत: ‘ग्लोबलाइजेशन’ या ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ अच्छी चीज हो सकती है, लेकिन स्थानीय पहचान को समाप्त करके नहीं। अपने घर में क्लेश करके पड़ोसियों को रोटी खिलाना किस स्थिति में अच्छा माना गया है? उस पर भी तब तो बिलकुल भी नहीं जब ये अवैध प्रवासी अपने हितों की पूर्ति के लिए स्थानीय लोगों को उनके धर्म, जाति, वर्ग के आधार पर भड़काना शुरू करे, बाँटना शुरू करे और सुरक्षा की दृष्टि से देश के लिए खतरा उत्पन्न करे, कुछ इस तरह से अपना तंत्र फैलाए कि जगह-जगह हिंसा होने लगे और जान-माल को हानि पहुँचे। इसलिए NRC का लागू होना देश के लिए, खासकर पूर्वोत्तर भारत के लिए बेहद जरूरी है। क्योंकि पूर्वोत्तर भारत सुरक्षा और सामरिक दृष्टि से भारत का महत्त्वपूर्ण भाग है।

लिबरपंथियो, आँकड़े चाहिए हिन्दुओं पर हुए अत्याचार के? ये लो – रेप, हत्या, मंदिर सब का डेटा है यहाँ

CAA और NRC पर फरहान गैंग के हर झूठ का पर्दाफाश: साज़िश का जवाब देने के लिए जानिए सच्चाई

कहानी एक अब्दुल की जिसे टीवी एंकर दंगाई बनाता है… उसकी मौत से फायदा किसको?

याकूब समर्थक आयशा और जिहाद का ऐलान करने वाली लदीदा: पहले से तैयार है जामिया का स्क्रिप्ट?

क्या नागरिकता बिल मुसलमानों को भगाने के लिए लाया गया है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब भारत गुलाम था, तब हम स्वतंत्र थे: नेपाली राजदूत ने कहा- चीन नहीं, भारत ने हमारी जमीन पर किया कब्जा

भारत के बारे में नेपाली राजदूत ने कहा कि पड़ोसियों को पड़ोसियों से डरना नहीं चाहिए। उन्होंने तिब्बत, हॉन्गकॉन्ग और ताइवान को चीन का हिस्सा करार दिया।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

जिसने जसवंत सिंह को रुलाया, वो उन्हीं के नाम पर BJP-मोदी को कोस रहा: सुधींद्र कुलकर्णी की वरिष्ठ पत्रकार ने खोली पोल

सुधींद्र कुलकर्णी ने जसवंत सिंह के लिए आपत्तिजनक विशेषणों का इस्तेमाल करते हुए कहा था, "मूर्ख! आपको गिनती तक गिनने नहीं आती है।"

75 सालों से एक पेड़ के नीचे बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षक: नहीं लेते कोई सरकारी सहायता, देते हैं गीता का ज्ञान भी

ओडिशा के जाजपुर में नंदा प्रस्टी नामक एक ऐसे बुजुर्ग शिक्षक हैं, जो 75 वर्षों से क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा दे रहे, बिना एक भी रुपया लिए।

भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया था… वो ऐलान, जिसे ‘शहीद’ ने जिंदगी भर निभाया

“मिस्टर मजिस्ट्रेट, आप भाग्यशाली हैं कि आपको यह देखने को मिल रहा। भारत के क्रांतिकारी किस तरह अपने आदर्शों के लिए फाँसी पर भी झूल जाते हैं।”

ट्रक में ट्रैक्टर लाया, सड़क पर पटक के जला डाला: कॉन्ग्रेसी नेताओं ने लगाए ‘भगत सिंह’ के नारे, देखें वीडियो

विरोध प्रदर्शन के नाम पर दिल्ली के इंडिया गेट पहुँचे पंजाब यूथ कॉन्ग्रेस के नेताओं ने एक ट्रैक्टर को पलट कर उसे आग के हवाले कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

ड्रग्स स्कैंडल: रकुल प्रीत ने उगले 4 बड़े बॉलीवुड सितारों के नाम, करण जौह​र ने क्षितिज रवि से पल्ला झाड़ा

NCB आज दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से पूछताछ करने वाली है। उससे पहले रकुल प्रीत ने क्षितिज का नाम लिया है, जो करण जौहर के करीबी बताए जाते हैं।

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

जब भारत गुलाम था, तब हम स्वतंत्र थे: नेपाली राजदूत ने कहा- चीन नहीं, भारत ने हमारी जमीन पर किया कब्जा

भारत के बारे में नेपाली राजदूत ने कहा कि पड़ोसियों को पड़ोसियों से डरना नहीं चाहिए। उन्होंने तिब्बत, हॉन्गकॉन्ग और ताइवान को चीन का हिस्सा करार दिया।

मध्य प्रदेश: परस्त्री से कथित संबंध पर पत्नी ने उठाई आवाज, स्पेशल DG ने पीटा, सरकार ने ड्यूटी से हटाया

वीडियो में मध्य प्रदेश के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा अपनी पत्नी प्रिया शर्मा के साथ बेरहमी से मारपीट करते देखे जा सकते हैं।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

अनिल अंबानी के खिलाफ चीन के 3 बैंको ने शुरू की कार्रवाई: 5276 करोड़ रुपए का है मामला

बैंक ने कहा है कि वह क्रॉस एग्जामिनेशन के जरिए अपने अधिकारों के बचाव हेतु हर कानूनी कार्रवाई करेंगे और अंबानी से अपना लोन वापस लेंगे।

जिसने जसवंत सिंह को रुलाया, वो उन्हीं के नाम पर BJP-मोदी को कोस रहा: सुधींद्र कुलकर्णी की वरिष्ठ पत्रकार ने खोली पोल

सुधींद्र कुलकर्णी ने जसवंत सिंह के लिए आपत्तिजनक विशेषणों का इस्तेमाल करते हुए कहा था, "मूर्ख! आपको गिनती तक गिनने नहीं आती है।"

नाम कफील लेकिन फेसबुक पर ‘करण’… लड़कियों को भेजता था अश्लील मैसेज, हुआ गिरफ्तार

वो खुद को जिम ट्रेनर बताता था। उसने फेसबुक पर करण नाम से फर्जी प्रोफाइल तैयार की थी और उसी से वह महिलाओं को अश्लील मैसेज भेजता था।

75 सालों से एक पेड़ के नीचे बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षक: नहीं लेते कोई सरकारी सहायता, देते हैं गीता का ज्ञान भी

ओडिशा के जाजपुर में नंदा प्रस्टी नामक एक ऐसे बुजुर्ग शिक्षक हैं, जो 75 वर्षों से क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा दे रहे, बिना एक भी रुपया लिए।

‘मुझे गोली तो नहीं मारोगे बाबू जी’ – गुंडा नईम UP पुलिस के पैरों में गिर कर रोया, गले में एक तख्ती लटका किया...

"मुझे गोली तो नहीं मारोगे बाबू जी। मुझे गिरफ्तार कर लो, घर में मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं।" - नईम पर गोकशी, गैंगस्टर एक्ट में कई मामले दर्ज।

भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया था… वो ऐलान, जिसे ‘शहीद’ ने जिंदगी भर निभाया

“मिस्टर मजिस्ट्रेट, आप भाग्यशाली हैं कि आपको यह देखने को मिल रहा। भारत के क्रांतिकारी किस तरह अपने आदर्शों के लिए फाँसी पर भी झूल जाते हैं।”

किसान होंगे खुशहाल, उत्पादन में भी होगा सुधार: अमूल MD ने नए कृषि कानूनों के बताए फायदे

अमूल नाम से मशहूर गुजरात कॉपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड के मैनेजिंग डॉयरेक्टर आरएस सोढ़ी ने ट्विटर पर किसानों के लिए मुक्त बाजार के फायदे बताए हैं।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,070FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements