Sunday, March 7, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 'जिन्ना वाली आज़ादी' बेटी ने भी नहीं की कबूल, अपने ही Pak में बुरी...

‘जिन्ना वाली आज़ादी’ बेटी ने भी नहीं की कबूल, अपने ही Pak में बुरी मौत मरा ‘कायदे आजम’

जहाँ 'हिन्दुओं से आज़ादी' के नारे लगते हों, वहाँ 'जिन्ना से आज़ादी' वाली बात तो छोटी सी ही है। फिर भी ऐसे लोगों एक बार जाकर जिन्ना का पाकिस्तान देखना चाहिए। जिन्ना की बहन की मौत के बारे में जानना चाहिए। शायद तब वे जान सकें कि 'जिन्ना वाली आज़ादी' का क्या परिणाम निकलता है।

दिल्ली के शाहीन बाग़ में एक नारा लगता है- जिन्ना वाली आज़ादी। जिन्ना वो शख्स था, जिसने देश को दो हिस्सों में बाँटने के लिए मुहिम चलाई और ख़ुद कहीं का न रहा। मोहम्मद अली जिन्ना ने मजहब के आधार पर पाकिस्तान तो ले लिया, लेकिन उसी पाकिस्तान में ‘क़ायदे आज़म’ एक भिखारी से भी बदतर मौत मरा। वो सितम्बर 11, 1948 का दिन था, पाकिस्तान के जन्म के एक साल बाद का समय। क्वेटा से एक प्लेन पाकिस्तान की तत्कालीन राजधानी कराची पहुँचा। उस फ्लाइट में एक टीबी का मरीज पड़ा हुआ था। वही मोहम्मद अली जिन्ना था, जिसे अपने ही बनाए मुल्क़ में किसी नेता ने पूछा तक नहीं

उसे डॉक्टरों ने क्वेटा की पहाड़ियों में भेजा था, ताकि वहाँ के मौसम से स्मोकिंग के आदी रहे जिन्ना को टीबी से कुछ राहत मिले। जब वहाँ भी उसकी बीमारी ठीक नहीं हुई तो उसे कराची भेज दिया गया। अबकी डॉक्टरों को लगा कि समुद्र किनारे हवाओं में नमी होने के कारण उसकी हालत ठीक हो जाए। इस बारे में एयर मार्शल असगर ख़ान की बातें गौर करने लायक है। जब वो एक बार अपनी पत्नी के साथ सड़क पार कर रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि एक ख़राब एम्बुलेंस में जिन्ना का मृत शरीर पड़ा हुआ है और उसकी बहन फातिमा भी बैठी हुई है।

उन दोनों ने जिन्ना के बहन की मदद करनी चाही लेकिन ब्रिटिश सिक्योरिटी वालों के कारण ऐसा नहीं कर पाए। यहाँ तक कि मरने के बाद जिन्ना को वापस ले जाने के लिए एक बैकअप एम्बुलेंस की व्यवस्था भी नहीं की गई। वो भी उस पाकिस्तान में, जिसकी नींव उसने ही रखी थी। बाद में एक अंग्रेज सैन्य अधिकारी ने आकर जिन्ना के मृत शरीर को दूसरे एम्बुलेंस में शिफ्ट किया। यहाँ भारत में जो लोग ‘जिन्ना वाली आज़ादी’ जैसे नारे लगाते हैं और एएमयू में जिन्ना की तस्वीर लगाने की वकालत करते हैं, क्या उन्हें पता भी है कि जिन्ना के पाकिस्तान में जिन्ना की मौत गुमनामी में हुई थी।

इन वामपंथी उपद्रवियों को ये पता नहीं है कि जब पाकिस्तान अपने मुल्क़ के ‘क़ायदे आज़म’ को ही उचित सम्मान नहीं दे पाया। अगर जिन्ना के पाकिस्तान में ‘जिन्ना वाली आज़ादी’ होती तो जिन्ना का परिवार भारत में आकर न रहता। जिन्ना की बेटी दीना वाडिया की शादी मुंबई के एक पारसी खानदान में हुई। जिन्ना की एकमात्र संतान ने अपनी बाकी ज़िंदगी भारत में गुजारी और उनका पूरा परिवार भी आज भारत में ही व्यापार कर रहा है। दीना के पोते नेस वाडिया का कारोबार मुंबई से लेकर ब्रिटेन तक फैला हुआ है और आईपीएल टीम ‘किंग्स इलेवन पंजाब’ में भी उनका मालिकाना हिस्सा है।

वाडिया परिवार मूलतः सूरत का है, जो कारोबार के सिलसिले में मुंबई में ही जा बसा। टेक्सटाइल, शिपिंग, आभूषण और कई अन्य कारोबार में धाक रखने वाले वाडिया परिवार के लोग राजनीति और प्रशासन से भी जुड़े हुए हैं। दीना जिन्ना के बेटे नुस्ली वाडिया ने अपने परिवार की विरासत को आगे बढ़ाया। नेस वाडिया उनके ही बेटे हैं। इस तरह से जिन्ना, नुस्ली के नाना हुए। वाडिया परिवार सदियों से गुजरात और महाराष्ट्र में एक प्रभावशाली उद्योगपति खानदान रहा है। सत्रहवीं शताब्दी से ही उनके व्यापार लगातार फलते-फूलते रहे हैं।

ऐसे में इस सवाल का उठना जायज है कि अगर जिन्ना के पाकिस्तान में सच में आज़ादी रहती तो क्या उनका परिवार वहाँ जाकर अपने कारोबार नहीं चलाता? अगर जिन्ना के पाकिस्तान में ‘जिन्ना वाली आज़ादी’ होती तो क्या उनकी बहन की वहाँ संदिग्ध परिस्थितियों में मौत होती। फातिमा जिन्ना ने 1965 में तानाशाह जनरल अयूब ख़ान के ख़िलाफ़ चुनावी ताल ठोकी थी। फातिमा की मौत के बाद परिवार ने जाँच की लाख माँग की, पाकिस्तान सरकार ने सब ठुकरा दिया। जिन्ना के पाकिस्तान में तो उनकी बहन ‘मदर-ई-मिल्लत’ को ही इंसाफ नहीं मिला, आज़ादी ख़ाक मिलेगी।

जिस व्यक्ति ने ‘डायरेक्ट एक्शन’ की बात कर के इस देश को दो हिस्सों में बाँट दिया, उस व्यक्ति का नाम लेकर आज़ादी की माँग करने वालों को समझना चाहिए कि अगर उन्हें ऐसी ‘आज़ादी’ मिल गई तो वो उससे अच्छा भारत के किसी क़ैदख़ाने में ज़िंदगी बिताना ज़्यादा सुरक्षित महसूस करेंगे। आप सोचिए, किसी महिला के पिता एक पूरे के पूरे मुल्क़ के ‘बाबा-ए-क़ौम’ अर्थात राष्ट्रपिता कहे जाते हैं, संस्थापक हैं, फिर भी वो महिला या उसका परिवार पाकिस्तान नहीं जाता। क्यों?

ऐसा इसीलिए, क्योंकि उन्हें पाकिस्तान जाने का अंजाम पता है। बँटवारे के बाद जहाँ एक तरफ़ जिन्ना ये कहते रहे कि पाकिस्तान में सभी मजहब के लोगों का स्वागत है, वहाँ से लाखों हिन्दुओं व सिखों को भगा दिया गया। महिलाओं के साथ बलात्कार हुए, लोगों की हत्या की गई और कत्लेआम मचाया गया। वहीं भारत में विभिन्न शिविरों में घूम-घूम कर जवाहरलाल नेहरू और मौलाना आज़ाद मुस्लिमों को समझाते रहे कि उन्हें देश नहीं छोड़ना चाहिए, क्योंकि भारत में उनके पास वही सारे अधिकार होंगे, जो किसी अन्य धर्म के लोगों के पास होंगे।

जहाँ ‘हिन्दुओं से आज़ादी’ के नारे लगते हों, वहाँ ‘जिन्ना से आज़ादी’ वाली बात तो छोटी सी ही है। जिनलोगों को सच में जिन्ना वाली आज़ादी चाहिए, वो दिखावा न करें और एक बार जिन्ना के बनाए पाकिस्तान में जाकर देखें। वो जिन्ना की बहन के बारे में पढ़ें। उनकी बेटी के बारे में पढ़ें। जिन्ना की बेटी के परिवार के बारे में पढ़ें। इतिहास पढ़ें, वर्तमान देखें। यूएन की रिपोर्ट पढ़ें, जिसमें पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की स्थिति के बारे में बताया गया है। उन्हें पता चल जाएगा कि ‘जिन्ना वाली आज़ादी’ का क्या परिणाम निकलता है?

‘जिन्ना वाली आजादी’ के नारे से गूँजा शाहीन बाग: CAA के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन का पर्दाफाश, Video Viral

कमाल ‘अतातुर्क’ का ख़ूनी जुनून था जिन्ना के सर पर: अभिजित चावड़ा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ का शुभारंभ: CM योगी ने कहा – ‘जय श्री राम पूरे देश में चलेगा’

“जय श्री राम उत्तर प्रदेश में भी चलेगा, बंगाल में भी चलेगा और पूरे देश में भी चलेगा।” - UP कॉन्क्लेव शो में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि...

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,967FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe