Friday, January 22, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे वाकई मुसलमान भारत में अल्पसंख्यक हैं, अलग-थलग हैं?

वाकई मुसलमान भारत में अल्पसंख्यक हैं, अलग-थलग हैं?

इतिहास के अनुभव बताते हैं कि मुसलमान कहीं और कभी अलग-थलग हो ही नहीं सकता। लोकतंत्र तो बहुत बाद में उड़ी हुई एक चिड़िया का नाम है। 14 सौ साल के इतिहास की गवाही हर उस देश में दर्ज है, जहाँ इस्लाम ने पैर पसारे।

पुरानी आदतें जड़ जमा चुके बुरे नशे की तरह होती हैं। मुश्किल से ही छूटती हैं। अव्वल तो प्राण छूट जाएँ, आदतें नहीं छूटती। पत्रकार शेखर गुप्ता की एक टिप्पणी मुझे ऐसी ही आदतों की याद दिला रही है। दैनिक भास्कर में छपने वाले अपने कॉलम में उन्होंने 29 दिसंबर को लिखा- “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘खुद को अलग-थलग महसूस कर रहे भारतीय मुसलमान अल्पसंख्यकों’ की ओर पहली बार हाथ बढ़ाया है।”

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की वर्षगाँठ के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण को सुनकर शेखर गुप्ता को मुस्लिमों के बारे में ‘भाजपा से अलग’ मोदी का रवैया दिखाई दिया है। मुसलमानों के संदर्भ में गहरी चिंता जाहिर करते हुए उन्होंने ‘नाराज, हताश और उपेक्षित’ शब्दों के प्रयोग किए हैं।

यह बेहद गंभीर है कि भारत में कोई समुदाय अपने आपको किसी भी राज्य में अलग-थलग, नाराज, हताश और उपेक्षित महसूस करे। किसी भी स्वस्थ लोकतंत्र का लक्षण यह नहीं है। सबके साथ बराबरी का व्यवहार ही लोकतंत्र में सत्ताधीशों से अपेक्षित है और ऐसी अपेक्षा बुरी बात नहीं है।

इसके लिए अड़ने और आंदोलन करने के साथ ही अदालतों के रास्ते भी खुले हुए हैं। लेकिन भारतीय मुसलमानों के संदर्भ में क्या यह तोहमत सही है कि वे खुद को अलग-थलग महसूस कर रहे हैं? क्या यह दूषित और विकलांग सेक्युलर सोच से उपजी एक गलत व्याख्या नहीं है?

भारतीय मुसलमानों का जिक्र करते हुए उन्हें ‘अल्पसंख्यक’ लिखना ही दोषपूर्ण है। जाने-माने वकील अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में बाकायदा एक याचिका लगाकर अल्पसंख्यक की परिभाषा स्पष्ट करने की गुहार लगाई थी।

इसका आधार वे नौ राज्य थे, जहाँ हिंदू अल्पसंख्यक हो चुके हैं, लेकिन अल्पसंख्यकों के नाम पर बँटने वाली सारी सरकारी खैरात स्थानीय बहुसंख्यक ही हड़प रहे हैं। अल्पसंख्यक की प्रचलित ठोस परिभाषा में भी सबसे पहले मुसलमान हैं, जो बाकी सब अल्पसंख्यकों के जोड़ से भी ज्यादा हैं।

किस मुल्क में 20 करोड़ की आबादी अल्पसंख्यक के रूप में मान्य हो सकती है? लेकिन सत्तर साल तक दूषित और एकपक्षीय सेक्युलर तंत्र में पली-पनपी सोच में जब भी मुसलमानों का जिक्र होगा, उनके आगे अल्पसंख्यक लिखा जाना ऐसे जरूरी हाेगा, जैसे वह उन्हें प्रदत्त काेई सम्मान हो।

नदीम एक कारपेंटर है। वह हमेशा की तरह अपने काम में लगा है। अब्दुल अपने गैराज में बराबर मेहनत कर रहा है। कोई मुसलमान जज है तो वह रोज की तरफ फैसले सुना रहा है। अफसर है तो अफसरी कर रहा है। वे पहले की तरह दफ्तर का काम छोड़कर दिन की नमाजें पूरी करने जा रहे हैं।

शिक्षक है तो पढ़ा रहा है। छात्र है तो पढ़ रहा है। जो सरकारी योजनाओं के पात्र हैं, उन्हें बराबर सब तरह की योजनाओं का भरपूर फायदा मिल रहा है। कश्मीर में तो पहली बार वोट डालने के लिए बेखौफ होकर लोग कतारों में खड़े देखे गए हैं। वे अलग-थलग होकर कहीं पहाड़ों में नहीं गए। कहीं कोई अलग-थलग नहीं है।

कोई स्कूल-काॅलेज, दफ्तर, अदालत, गैराज और अपना हुनर छोड़कर मायूस घर में नहीं पड़ा है, जहाँ झाँक-झाँक कर शेखर गुप्ता जैसे पत्रकार अखबारों में ऐसा लिख रहे हैं। यह मुसलमानों को एक पीड़ित पक्ष की तरह प्रस्तुत करने वाले विक्टिम कार्ड पर मुहर लगाने का घृणित काम है।

पाकिस्तान की पूरी आबादी के बराबर यही भारतीय मुसलमान (जो कि अल्पसंख्यक भी हैं), क्या तब भी अलग-थलग महसूस कर रहे थे या डरे हुए थे, जब सच्चर कमेटी की रिपोर्ट ने उनकी नारकीय बदहाली पर चंद अशआर लिखे थे?

सच्चर कमेटी की रिपोर्ट एक तरह से आजादी के बाद से लेकर सच्चर साहब के टेबल पर बैठने तक रही सब सरकारों की पोल ही खोल रही थी। वह उन सब सेक्युलर सरकारों के गालों पर पड़े एक तमाचे की तरह थी, जिन्होंने साठ साल तक मुसलमानों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया था और मुसलमानों की जमीनी असलियत सच्चर साहब अपनी रिपोर्ट में लिख रहे थे।

इतिहास के अनुभव बताते हैं कि मुसलमान कहीं और कभी अलग-थलग हो ही नहीं सकता। लोकतंत्र तो बहुत बाद में उड़ी हुई एक चिड़िया का नाम है। 14 सौ साल के इतिहास की गवाही हर उस देश में दर्ज है, जहाँ इस्लाम ने पैर पसारे।

इस्लाम की आक्रामक वैचारिक और दार्शनिक ताकत अपने अनुयायियों को कहीं अलग-थलग बर्दाश्त नहीं कर सकती। वह एक किस्म का असंतोष तब तक गर्भ में पालकर रखती है जब तक उनका परचम सत्ता के शिखरों पर फहराने लायक संख्या का पशुबल पैदा नहीं होता।

वही कृत्रिम असंतोष और नाराजगी सियासी मंचों पर विक्टिम कार्ड बनकर प्रकट होती रहती है, जो हवाओं के रुख, सूरज की रोशनी और धरती की गति तक में अपने खिलाफ एक साजिश देखती है।

वे सेक्युलर नाव में तब तक दम साधे रहते हैं जब तक कि कोई मजहबी पोत पास में न आ जाए। जैसे ही कोई इस्लामी विकल्प सामने आता है, वे कूदकर उस पर सवार होने में एक सेकंड नहीं लगाएँगे और तब सारा लोकतंत्र दो कौड़ी का हो जाएगा। हर समय और हर जगह भरसक कोशिश यही कि जिस झपट्‌टे में जितना झपट लें।

पहले पाकिस्तान, फिर कश्मीर, फिर विक्टिम कार्ड के साथ कहीं तीस फीसदी और कहीं चालीस फीसदी का वोट बैंक। जैसे ही कोई ओवैसी आया, बिहार के मध्यांचल वालों ने कॉन्ग्रेस, आरजेडी समेत सारी सेक्युलर नावों को डूबने के लिए पीछे छोड़ दिया और तकबीर का नारा बुलंद हो गया। एक बार ताकत में आए तो अलग-थलग होना दूसरे शुरू हो जाते हैं। उदाहरण भरे पड़े हैं।

शेखर गुप्ता अकेले नहीं हैं। यह एक पूरी जमात है, जिनके सोचने के तरीके पुरानी आदतों जैसे हैं। इस हरी-भरी जमात में राजदीप सरदेसाई, सागरिका घोष, बरखा दत्त, प्रीतीश नंदी और बेशक रवीश कुमारों और पुण्य प्रसून वाजपेयियों की भरमार है।

इनके लिए अल्पसंख्यक के नाम पर मुस्लिमपरस्ती की बातें एक ऐसा फैशन हैं, जिसका रंग दुनिया भर में उड़ चुका है। ये बेरौनक बाजार में खड़े कारोबारी हैं, जिनके मख्खियाँ भिनभिनाते उत्पाद सेहत के लिए हानिकारक सिद्ध हो चुके हैं। घाटी से निकाले गए हिंदुओं को छोड़ दीजिए, हाल के वर्षों में जम्मू-कश्मीर में ‘रोशनी एक्ट’ में उन्हें अल्लाह का नूर नजर आएगा।

सीएए के खिलाफ शाहीनबाग मुसलमानों की नाराजगी का प्रतीक नहीं था, वह यह बताने की एक जोरदार कोशिश थी कि हम अलग-थलग नहीं हैं। कोई ऐसा मानने की भूल भी न करे। हम अब असम को बाकी हिंदुस्तान से काटने का इरादा रखते हैं। दिल्ली के बाद बेंगलुरू में ठीक से बताया गया कि किसी शहर में आग लगानी हो तो मसले पैदा करना भी काेई हमसे सीखे।

पाकिस्तान से दो ताजा खबरें हैं। खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के करक जिले में जमीयत उलमा-ए-इस्लाम नाम की सियासी पार्टी की एक रैली में भड़काऊ भाषण सुनकर निकली भीड़ ने एक पुराने हिंदू मंदिर पर हमला कर दिया। मंदिर को तोड़-फोड़ कर आग के हवाले कर दिया गया।

दूसरी खबर इस्लामाबाद से है। तीन स्वयंसेवी संगठनों ने एक स्टडी के आधार पर बताया है कि हर साल करीब एक हजार से ज्यादा हिंदू, सिख, ईसाई लड़कियों को उठा लिया जाता है और उनके निकाह करके धर्मांतरण जारी है।

पुलिस का रवैया मामलों को रफा-दफा करने का पाया गया। सिंध में अब भी गुलामी की प्रथा है और ये गुलाम कोई और नहीं असल अल्पसंख्यक हिंदू हैं, जो खत्म होने की कगार पर हैं और आखिरी साँसें ले रहे हैं। ये खबरें ताजा भले ही हैं, लेकिन पाकिस्तान की आम खबरें हैं।

यह एक मनोवृत्ति को दर्शाती हैं, जो दुनिया भर में बहुत साफ देखी जा रही है। अलबत्ता भारत में एक तबका पुरानी आदतों में ही ठहरा हुआ है, जो नशे की बुरी लत की तरह उनका पीछा नहीं छोड़ रहीं। उनकी नजर में मुसलमान ‘अल्पसंख्यक’ भी हैं। ‘अलग-थलग’ भी, ‘नाराज’ भी, ‘उपेक्षित’ भी। क्या मजाक है!

यह लेख विजय मनोहर तिवारी द्वारा लिखा गया है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

आज हुए चुनाव तो NDA को 321 सीटें: अपने ही चैनल के सर्वे से राजदीप परेशान, ट्विटर पर निकाली भड़ास

राजदीप ने सर्वेक्षण पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वह सर्वे पर विश्वास ही नहीं कर पा रहे क्योंकि लगभग 85% लोग लॉकडाउन में अपनी आजीविका के अवसरों को खोने के बावजूद मोदी सरकार की सराहना कर रहे हैं।

हमने रिस्क लिया, आलोचना झेली तभी स्वदेशी वैक्सीन आज दुनिया को सुरक्षा कवच दे रही है: दीक्षांत समारोह में PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्धाटन किया।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"पाकिस्तान आर्मी ने शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती में गिराया गया।"
- विज्ञापन -

 

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले में पार्टी के ही अल्पसंख्यक सेल का प्रमुख हुसैन गिरफ्तार

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास पर हुए हमले में पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रमुख जॉयदुल हुसैन को गिरफ्तार किया गया है।

कोरोना वैक्सीन के लिए बुजुर्गों को ड्रग अथॉरिटी से कॉल, माँग रहे OTP-आधार: Fact Check

कोरोना वैक्सीन के नाम पर जालसाज वरिष्ठ नागरिकों को फोन कर खुद को ड्रग अथॉरिटी का बताकर आधार और ओटीपी माँग रहे हैं।

अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

गुजरात की एक अदालत ने अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

बॉलीवुड पर मुंबई पुलिस मेहरबान, यूपी पुलिस को फरहान अख्तर से नहीं करने दी पूछताछ

मिर्जापुर को लेकर दर्ज एफआईआर के संबंध में फरहान अख्तर से पूछताछ करने पहुॅंची यूपी पुलिस की टीम को मुंबई पुलिस ने इसकी अनुमति नहीं दी।

भारत ने UN में उठाया पाकिस्तान में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा- ‘मुस्लिम’ भीड़ के आगे मूक दर्शक बनी रही सरकार

भारत ने कहा कि शांति की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव से पाकिस्तान जुड़ा हुआ है। इसके बावजूद भीड़ ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक ऐतिहासिक मंदिर में तोड़फोड़ की और पाकिस्तानी सरकार मूकदर्शक बनकर देखती रही।

3 महीने की प्लानिंग, 15 दिन की छुट्टी, 25 किलो सोना… दिल्ली पुलिस को चकमा नहीं दे पाया शेख नूर

दिल्ली के कालकाजी स्थित अंजलि ज्वैलर्स में करोड़ों की चोरी की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने शेख नूर रहमान को गिरफ्तार किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
384,000SubscribersSubscribe