Thursday, October 22, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे ...जब RSS के मंच से प्रणब मुखर्जी ने भरी थी ‘राष्ट्रवाद’ की हुँकार

…जब RSS के मंच से प्रणब मुखर्जी ने भरी थी ‘राष्ट्रवाद’ की हुँकार

सत्य यही है कि अपना जीवन एक विचारधारा को समर्पित कर देने के बाद अंत में एकदम उलट विचारों वाले लोगों के बीच आकर ऐसी बातें कहना अद्भुत निर्णय था। किसी और नेता के लिए ऐसा कल्पना करना भी असम्भव है।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार (31 अगस्त 2020) को देहांत हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक भावुक संदेश में उन्हें कद्दावर स्टेट्समैन बताते हुए कहा है कि उन्होंने देश की विकास यात्रा में अपनी अमिट छाप छोड़ी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने इसे अपूरणीय क्षति बताया है।

भारत रत्न प्रणब मुखर्जी ने 2018 में संघ के एक कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की थी। ‘संघ शिक्षा वर्ग-तृतीय’ नामक यह कार्यक्रम 7 जून 2018 को नागपुर के संघ मुख्यालय में हुआ था। प्रणब मुखर्जी के इस फैसले ने कॉन्ग्रेस को भी असहज कर दिया था। लेकिन उस दिन देश के प्राचीन इतिहास से लेकर उसकी संस्कृति तक प्रणब मुखर्जी ने जो कुछ कहा, वह बीते कल में भी प्रासंगिक था और आने वाले कल में भी प्रासंगिक रहेगा।  

प्रणब मुखर्जी की संघ के कार्यक्रम में उपस्थिति और भाषण ने देश को एक बड़ी बहस की ठोस ज़मीन दी थी। लोगों के लिए यह हैरान करने वाला था कि आखिर ऐसा हुआ कैसे? उन्होंने अपनी विचारधारा के विपरीत इतना बड़ा फैसला कैसे लिया? कुछ का मानना था कि वह इतिहास के प्राचीन पन्नों में इंगित धुँधली गाथाओं में उलझे रह गए। इसके उलट कुछ का कहना था कि वह मात्र भारत की गौरवगाथा का व्याख्यान था। इस प्रकार की तमाम प्रतिक्रियाएँ नज़र आईं लेकिन जो नहीं नज़र आया वह था उनकी मौजूदगी और बातों के असल मायने।

प्रणब मुखर्जी ने अपने संबोधन में भारत शब्द का उल्लेख कुल 27 बार किया। तीन बार हिन्दी में भारत कहा और 24 बार India। 12 बार Nationalism यानी राष्ट्रवाद का जिक्र किया। 9 बार Nation यानी देश और 5 बार Patriotism अर्थात देशभक्ति की बात की।

इनसे स्पष्ट होता है कि सम्पूर्ण भाषण में उनके विचारों की प्राथमिकता किस ओर थी? सीधा सा अर्थ है यदि देश के पहले पहले नागरिक को राष्ट्रवाद शब्द पर इतना ज़ोर देना पड़ा तो अब तक हम वाकई में इस शब्द के अर्थ के दायरे से कोसों दूर थे और हैं भी। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या राष्ट्रवाद को समझने के हमारे पैमाने सही हैं? यह ऐसा शब्द है जिसकी परिभाषा देने का प्रयास अनेक लोगों ने किया, लेकिन सवाल यह है कि उनमें से कितने सफल रहे? प्रणब मुखर्जी ने इस शब्द की अहमियत समझते हुए सुनने और समझने वालों को निराश नहीं किया। इसलिए उन्होंने सर्वप्रथम उन दार्शनिकों का उल्लेख किया जिन्होंने भारत की समृद्धता को समझने के शुरुआती क़दम उठाए।

इसके बाद उन्होंने देश के प्राचीन शिक्षण संस्थानों तक्षशिला, नालंदा और विक्रमशिला का उल्लेख किया और कहा कि इस प्राचीन विश्वविद्यालय व्यवस्था का 1800 वर्षों से अधिक समय तक विश्व में वर्चस्व था। इतने दुर्लभ तथ्यों का अर्थ मात्र इतना सा था कि हम हमेशा से सम्पन्न, प्रबुद्ध, अखंड और प्रबल रहे हैं। जहाँ चंद्रगुप्त मौर्य और चक्रवर्ती सम्राट अशोक सरीखे राजाओं के हाथ में कमान रही। ‘राष्ट्रवाद’ हमारी संस्कृति का अटूट हिस्सा है।  

उन्होंने कहा कि बारहवीं शताब्दी में तरायण का युद्ध हार कर इस देश ने 600 वर्षों का आततायी मुग़ल शासन झेला। उसके बाद भी उस संस्कृति की तमाम अच्छाइयाँ इस देश ने स्वयं में समाहित की। इतना ही नहीं अंग्रेजों के देश को तबाह करने के प्रयास के बावजूद इस देश ने अपना असल स्वरूप नहीं खोया।

प्रणब मुखर्जी ने कहा था कि सबके लिए ज़रूरी है कि लोगों का लोगों से “संवाद” बना रहे। इसलिए कहा गया है “to the people, for the people, by the people”। एक सौ बीस करोड़ से अधिक आबादी, 122 भाषाओं और 7 मुख्य धर्मों वाले इस देश की अखंडता हमेशा बनी रहनी चाहिए।

सत्य यही है कि अपना जीवन एक विचारधारा को समर्पित कर देने के बाद अंत में एकदम उलट विचारों वाले लोगों के बीच आकर ऐसी बातें कहना अद्भुत निर्णय था। किसी और नेता के लिए ऐसा कल्पना करना भी असम्भव है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पैगंबर मोहम्मद के ढेर सारे कार्टून… वो भी सरकारी बिल्डिंग पर: फ्रांस में टीचर के गला काटने के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

गला काटे गए शिक्षक सैम्युएल पैटी को याद करते हुए और अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने के लिए पैगम्बर मोहम्मद के कार्टूनों का...

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

मुंबई: पूर्व असिस्टेंट कमिश्नर इकबाल शेख ने ‘फेक TRP स्कैम’ में रिपब्लिक टीवी की रिपोर्टिंग रोकने के लिए अदालत की ली शरण

मुंबई पुलिस के पूर्व असिस्टेंट कमिश्नर इकबाल शेख ने मुंबई के एक कोर्ट में याचिका दायर कर रिपब्लिक टीवी, आर भारत और अर्नब गोस्वामी पर कथित TRP घोटाले की रिपोर्टिंग से रोक लगाने की माँग की है।

‘अर्नब इतने हताश हो जाएँगे कि उन्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी’: स्टिंग में NCP नेता और उद्धव के मंत्री नवाब मलिक का दावा

NCP मुंबई के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अर्नब इसमें स्पष्ट रूप से फँस चुके हैं और इसका असर उनकी मानसिक अवस्था पर पड़ेगा।
- विज्ञापन -

पैगंबर मोहम्मद के ढेर सारे कार्टून… वो भी सरकारी बिल्डिंग पर: फ्रांस में टीचर के गला काटने के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

गला काटे गए शिक्षक सैम्युएल पैटी को याद करते हुए और अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने के लिए पैगम्बर मोहम्मद के कार्टूनों का...

मुनव्वर राणा की बेटी उरूसा ने थामा कॉन्ग्रेस का हाथ, CAA विरोध प्रदर्शन से आई थी चर्चा में

शायर मुनव्वर राणा की बेटी उरूसा कॉन्ग्रेस में शामिल हो गई हैं। इससे पहले उरूसा लखनऊ में हुए CAA विरोध प्रदर्शनों के कारण चर्चा में आई थी।

यूथ कॉन्ग्रेस प्रमुख ने मोदी सरकार के बिहार पैकेज पर फैलाई फर्जी सूचना, BJP अध्यक्ष के बयान में घुसाई अपनी गणित

यूथ कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष ने मोदी सरकार द्वारा स्वीकृत कुल पैकेज के रूप में स्वास्थ्य, शिक्षा और किसानों पर होने वाले खर्च को झूठा मानते हुए आरएसएस की शाखाओं पर कटाक्ष करने की कोशिश की।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,946FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe