Friday, June 5, 2020
होम बड़ी ख़बर रवीश जी गालियाँ आपके पत्रकारिता से तंग जनता का आक्रोश है, इसे भारत-माँ के...

रवीश जी गालियाँ आपके पत्रकारिता से तंग जनता का आक्रोश है, इसे भारत-माँ के नाम मत कीजिए

'ज़िंदा गाड़ दूँगा', 'आँखे निकाल लूँगा', यहाँ तक कि खीझी माँ भी अपने बच्चे को बोल देती है कि 'मर क्यों नहीं जाते'! इनमें से जो भी ऐसा बोलता है, वो ऐसा चाहता नहीं सर और न ही करता है बल्कि वो खीझा हुआ है, तंग है, ऐसा करने का मक़सद सिर्फ़ ये जताना होता है कि कुछ तो गड़बड़ है, अन्याय पूर्ण है जो नहीं होना चाहिए।

ये भी पढ़ें

रवि अग्रहरि
तबियत से मस्त-मौला, तरबियत से बनारसी हूँ, बस यूँ समझिए कि ज़िन्दगी के नाटक का अहम किरदार हूँ मैं.... राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी परम्परा का विशेषज्ञ नहीं....

परम आदरणीय रवीश जी,

आज आपकी फिर बहुत जोर से याद आयी, यूँ ही नहीं, मैंने कल आपका राष्ट्र के नाम सन्देश पढ़ा तो ख़ुद को आपको याद करने से नहीं रोक पाया। आपको तो पता ही होगा कि आप एक ‘महान’ पत्रकार हैं। पर रवीश जी, आपको जो महानता हासिल हुई है क्या उसका सर्टिफिकेट आपने ख़ुद छापा या इस देश के लोगों ने आपको इतना सम्मान दिया कि आप पत्रकारिता के एक पर्याय बने? बहुतों ने आपको देखकर आपके जैसा बनना चाहा। ऐसे कई लोगों से तो मैं मिला भी हूँ। जो लोग आपके प्राइम टाइम का बेसब्री से इंतज़ार करते थे।

वो आज आपका नाम सुनते ही कंटेंट ख़ुद बताने लगते हैं कि आपने क्या लिखा होगा? आज हम उस दौर में जी रहे हैं जब ख़ुद आपको ही ये अपील करनी पड़ रही है दर्शकों से कि ‘आप टीवी से दूर रहें। हमारी तो नौकरी है, हमें तो प्राइम टाइम करना ही होगा लेकिन अब यहाँ भी आपके देखने-जानने-समझने लायक कुछ भी नहीं है।’ इसलिए अब मुझसे उम्मीदे न रखें। सोचिए ना आज-कल आपने प्राइम टाइम का क्या हाल कर दिया है। आपने तो एक तरह से हथियार ही डाल दिया कि अब हमसे पत्रकारिता नहीं हो पाएगा। अब जो कर रहा हूँ बस यही मुझमें शेष है। आपके अंदर इतना खोखलापन देखकर सच में बहुत दुःख हो रहा है रवीश जी।

ख़ैर, कल रवीश जी आपने लिखा कि लोग आपको गालियाँ दे रहे हैं। सच में यह जानकर बहुत दुःख हुआ। पर सर, क्या आपने सोचा कभी कि क्यों दे रहे हैं? ऐसा आप क्या कर रहे हैं जो आपको पत्रकारिता के सिरमौर बनाने वाले दर्शक आज आपसे ख़फ़ा हैं। क्या आपने ये भी सोचा कि कौन लोग हैं ये, जो आपको गालियाँ दे रहे हैं? आपने तो बड़ी आसानी से इनके लिए एक वर्ग चुना ‘देश भक्त’। क्या आपके हिसाब से देश भक्ति की यही परिभाषा है। क्या जो आपको गालियाँ नहीं दे रहे वो देश भक्त नहीं, कुछ और हैं?

रवीश जी, आपने गौर किया कि आप पिछले कुछ सालों से पत्रकारिता के नाम पर जो कर रहे हैं वो क्या है? पूरे देश को काला-सफ़ेद दो वर्गों में बाँटने का पराक्रम करके भी आपके हाथ कुछ नहीं लगा। आपको भी मालूम है कि इनके बीच भी कई शेड हैं। जानते हैं सर, यह वही शेड हैं, जो अब उभर कर सामने आ रहे हैं। जो पहले आपको ठीक से नहीं समझ पा रहे थे। जब वो खुल कर बोलने लगे तो आपने उन्हें ‘भक्त’ कहा, सम्मान वश नहीं बल्कि गाली के रूप में ही जबकि आपको अच्छी तरह पता है कि आप जो कर रहे हैं वह भी वही है बस आपका तारणहार अलग है या आप खुद ही भगवान बनने की लालसा में किसी का तारणहार बनने के लिए जी जान से लगे हैं?

आपने पहले इस देश के युवाओं को ललकारा कि तो थोड़ा पढ़ लिख लिया करो। यही गलती कॉन्ग्रेस ने केज़रीवाल को राजनीति के लिए ललकार कर और मोदी को गाली देकर की थी। एक ने ऐसी राजनीति की कि लोग कहते हैं इसे देखकर गिरगिट भी रंग बदलना छोड़ दिया है। और जब मोदी को ललकारा तो उन्होंने विकास को आगे कर कॉन्ग्रेस को पीछे छोड़ दिया। बहरहाल, आपकी बात जम गई युवाओं को। जब पढ़ने लगे तो उनको आपकी पत्रकारिता में झोल नज़र आने लगा सर। शुरुआत में वो ग़लती कर रहे थे तो आपने फिर उन्हें राह दिखाई कि व्हाट्सप यूनिवर्सिटी नहीं बल्कि सही स्रोतों का इस्तेमाल करें।

रवीश जी आप तो गुरु हैं आपको ख़ुश होना चाहिए, आज आपके वही छात्र जैसे ही आप कुछ भी आधा-अधूरा परोसते हैं वो फटाक से पढ़-वढ़कर उसका ठीक से पोस्टमॉर्टम कर देते हैं। आपके पूरे प्रोपेगंडा की चिन्दी-चिन्दी कर उससे ‘राफ़ेल’ बनाने की कला सीख गए हैं। सर, जैसे-जैसे आपके लेखों में साल दर साल गन्दगी बढ़ती गई। आपके छात्र भी परिपक्व होते गए अब उन्हें आपके बोलने में भी काइयाँपन नज़र आने लगा, आपकी तिरछी मुस्कान में छिपी कुटिलता को भी ये भाँपने लगे और जब आप हें-हें-हें करते हैं न तो पक्का ये समझने लगे कि देश की जनता से पत्रकारिता के नाम पर कुछ बड़ा झोल अब करने वाले हैं आप।

अब सोशल मीडिया से लेकर आप अपने प्राइम टाइम पर जो भी खिचड़ी परोसते हैं, इससे पहले कि आँख मूँदकर आपके भक्त वाह-आह करें, उससे पहले ही आपके छात्र पहचानने लगे हैं कि यह खिचड़ी है किस चीज़ की। क्या-क्या और कौन सा सड़ा-गला सामान उनके गुरु ने स्वाद और सेहत का पर्याय बना कर परोस दिया है। जानते हैं सर, आपके छात्रों की मेधा से देश की आम जनता की भी आँखे खुलने लगी हैं।

पहले आप जो कुछ भी परोस देते थे, जो बेचारे उसे चुपचाप अमृत समझ खा लेते थे। रवीश जी, जानते हैं जो पहले आपका दिया सब कुछ खा लेते थे ना, वो अपना पूरा लिवर, गाल ब्लेडर डैमेज कर बैठे हैं। डॉ. ने उनसे पूछा कि पहले क्या खाते थे, जिससे दिनों-दिन आपकी सेहत गिरती गई। फिर आपके दर्शकों और पाठकों को लगा कि धोख़ा हुआ है हमारे साथ, हमारी भावनाओं और भरोसे का गला घोटा गया है। हर तरफ़ एक आक्रोश पनपने लगा।

जानते हैं रवीश जी जब कोई अपना धोखा दे ना तो ज़्यादा बुरा लगता है। परिणामस्वरुप अचानक से आपके भक्ति का ग्राफ़ गिरने लगा, आपके पूरे गिरोह की नींव डगमगाने लगी तो आप सीधे-सीधे खुलकर सामने आ गए। अब प्रोपेगंडा ही आपके लिए ख़बर हो गई। पर कम्बख़्त जब वो भी नहीं चला तो आपने अभी-अभी जागी जनता को फिर से सोने को कह दिया, पर ये सम्भव न हुआ।

रवीश जी, जिसे आप जिसे गाली कह रहे हैं वो गाली नहीं, बल्कि आपसे खीझी हुई जनता का आक्रोश है। ये आइना है आपके लिए कि आप अपना पुनः मूल्यांकन करें और जानें कि आप कौन सी गलती कर रहे हैं? आपकी अपनी भक्त जनता भी जब आपसे उकता कर अपना आक्रोश व्यक्त करने लगी है तो आपने और आपके गिरोह ने ‘भक्त’ शब्द को ही गाली बना दिया और अब ‘देश भक्ति’ के पीछे पड़े हैं।

रवीश जी, आपने कहा कि आपको जो गालियाँ दी गईं, उसमें माँ-बहनों के जननांगों को केंद्रित किया गया है। दुर्भाग्य है, ऐसा नहीं होना चाहिए। मैं भी इसके सख्त ख़िलाफ़ हूँ। जनता और आपके छात्रों को अपना आक्रोश व्यक्त करने के लिए या तो संसदीय गालियां ईज़ाद करनी चाहिए या फिर कोई और तरीका अपनाना चाहिए। पर जानते हैं रवीश जी, मुझे जो लग रहा है, ये आम जनता है। ये आपके जितना क्रिएटिव नहीं कि ‘देश भक्ति’ को ही गाली बना दे। रवीश जी, आपके एक पुराने छात्र ने तो खुलकर ये स्वीकार किया कि ये बस आपके प्रोपेगंडा से ऊबी जनता का आक्रोश है।

आप तो विद्वान हैं रवीश जी, जानते ही होंगे कि जब हम गुस्से में होते हैं तो यूँ ही किसी को बोल देते हैं कि ‘ज़िंदा गाड़ दूँगा’, ‘आँखे निकाल लूँगा’, यहाँ तक कि खीझी माँ भी अपने बच्चे को बोल देती है कि ‘मर क्यों नहीं जाते’! इनमें से जो भी ऐसा बोलता है वो ऐसा चाहता नहीं सर और न ही करता है बल्कि वो खीझा हुआ है, तंग है, ऐसा करने का मक़सद सिर्फ़ ये जताना होता है कि कुछ तो गड़बड़ है, अन्याय पूर्ण है जो नहीं होना चाहिए।

पर सर आपने तो हद कर दी। जब आपको तारीफें मिली, प्रसिद्धि मिली, आज आप जो कुछ हैं जब वो सब मिला तो आपने कभी नहीं कहा कि ये सब ‘भारत माँ’ की वजह से है। और जब आपको आपके विचारों और पत्रकारिता के नाम पर प्रोपेगंडा से त्रस्त जनता और आपके अपने ही छात्रों का आक्रोश झेलना पड़ रहा है तो आप आज कह रहे हैं कि ये सभी गालियाँ मैं ‘भारत माँ’ को समर्पित कर रहा हूँ। क्या आप की नज़र में आज ‘भारत माँ’ यही डिज़र्व करती हैं?

दूसरे शब्दों में आज आप देश भक्तों का सहारा ले परोक्ष रूप से ही सही पत्रकारिता के नाम पर भारत माँ को गाली नहीं दे रहे?

अभी भी वक़्त है रवीश जी लौट आइए। पत्रकारिता का वो सुनहरा दौर फिर से ले आइए। जिस दिन से आप फिर से पत्रकारिता करने लगेंगे, देश की यही जनता, आपके भक्त और पुराने छात्र आपके तारीफ़ में कसीदें पढ़ते नज़र आएँगे। हमारे यहाँ तो कहावत है कि सुबह का भूला शाम को घर लौट आए तो उसे भूला नहीं कहते। छोड़ दीजिए ना ये प्रोपेगंडा, मत कीजिए ‘देश भक्ति’ और भारत-माँ को गाली बनाने का कुत्सित प्रयास।

देश सिर्फ़ सीमाओं की घेराबंदी नहीं बल्कि वहाँ के लोगों के अंदर व्याप्त उसके प्रति प्रबल भावनाओं से बनता है, विकसित होता है। जिस दिन से आपने फिर से पत्रकारिता शुरू कर दी ना रवीश जी, ये आक्रोशित लोग जिसे आपने पढ़ने-लिखने के लिए प्रेरित किया है, जिनके आप मनोनीत गुरु हैं, यूँ अपने अभिव्यक्ति की आज़ादी का दुरुपयोग करना छोड़ देंगी, ये सब इस पीढ़ी ने आप ही से सीखा है। बस आपने थोड़ा नाटकीय ढंग से उसमे काइयाँपन भी मिलाकर फेंट लिया है और ये आपसे विमुख आपके भक्त, आपके पूर्व छात्र आज भी सीधे-सरल बने हुए हैं।

सधन्यवाद
पत्रकारिता के अच्छे दिनों के लिए कृतसंकल्प एक पत्रकार

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
तबियत से मस्त-मौला, तरबियत से बनारसी हूँ, बस यूँ समझिए कि ज़िन्दगी के नाटक का अहम किरदार हूँ मैं.... राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी परम्परा का विशेषज्ञ नहीं....

ख़ास ख़बरें

दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में बताया मुस्लिम दंगाइयों ने काटकर आग में फेंक दिया था दिलबर नेगी को, CCTV तोड़ दिए थे

इस चार्जशीट के अनुसार, मुस्लिम समुदाय की एक भीड़ ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली के बृजपुरी पुलिया की तरफ से आई और हिंदुओं की संपत्तियों को निशाना बनाते हुए दंगा करना शुरू कर दिया और 24 फरवरी की देर रात तक उनमें आगजनी करती रही।

जब अजीत डोभाल ने रिक्शावाला बन कर खालिस्तानी आतंकियों को विश्वास दिलाया कि वो ISI अजेंट हैं

ऑपरेशन ब्लू स्टार के पीछे जो बातें सबसे अहम रहीं, उनमें खालिस्तानी अलगाववादियों के पंजाब की स्वायत्तता की माँग का उग्र रूप में सामने आना प्रमुख वजह रहा।

ताहिर हुसैन के बचाव में फिर खड़ा हुआ केजरीवाल का MLA अमानतुल्लाह खान, कहा- मुसलमान होने की मिली है सजा

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों में चार्जशीट दाखिल होने के बाद AAP विधायक अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन का बचाव किया है।

विकीपीडिया vs ऑपइंडिया: वामपंथी नैरेटिव और गिरोह की साजिश, ऑपइंडिया के खिलाफ यूँ खेला जा रहा खेल

विकीपीडिया पर ऑपइंडिया का पेज इतना नेगेटिव क्यों है? ये वो सवाल है जिसके बारे में लोगों ने हमसे कई बार पूछा। लेकिन, इस सवाल जवाब बेहद सरल है। वो ये कि हमने एक बने-बनाए इकोसिस्टम को चुनौती दी।

अरबीना खातून की मौत पर AltNews का ‘परिश्रम’: निखिल वाग्ले का वो ट्वीट जो प्रतीक सिन्हा के मन के चोर को मोर बनाता है

पत्रकारिता छोड़कर ऑल्टन्यूज को कोचिंग संस्थान चलाने के धंधे में भी आने के बारे में सोचना चाहिए, क्योंकि सात दिनों के परिश्रम से जब इस तरह के परिणाम मिल सकते हैं तो ये लोग न्यूज एजेंसी की तर्ज पर 'समुदाय विशेष पीड़ित कोचिंग संस्थान' शुरू कर सकते हैं।

लव जिहाद में मारी गई एकता: भाभी रेशमा ने किया था नंगा, शाकिब और अब्बू सहित परिवार ने किए थे शरीर के टुकड़े

पीड़िता की माँ सीमा शाकिब का साथ देने वाली उसकी दोनों भाभियों रेशमा और इस्मत से पूछती रहीं, क्या एकता के कपड़ें उतारते हुए, उसे नंगा करते हुए...

प्रचलित ख़बरें

पूजा भट्ट ने 70% मुस्लिमों की आबादी के बीच गणेश को पूजने वालों को गर्भवती हथनी की हत्या का जिम्मेदार बताया है

पूजा भट्ट का मानना है कि 70% मुस्लिम आबादी वाले केरल के मल्लपुरम में इस हत्या के लिए गणेश को पूजने वाले लोग जिम्मेदार हैं।

लव जिहाद में मारी गई एकता: भाभी रेशमा ने किया था नंगा, शाकिब और अब्बू सहित परिवार ने किए थे शरीर के टुकड़े

पीड़िता की माँ सीमा शाकिब का साथ देने वाली उसकी दोनों भाभियों रेशमा और इस्मत से पूछती रहीं, क्या एकता के कपड़ें उतारते हुए, उसे नंगा करते हुए...

हलाल का चक्रव्यूह: हर प्रोडक्ट पर 2 रुपए 8 पैसे का गणित* और आतंकवाद को पालती अर्थव्यवस्था

PM CARES Fund में कितना पैसा गया, ये सबको जानना है, लेकिन हलाल समितियाँ सर्टिफिकेशन के नाम पर जो पैसा लेती हैं, उस पर कोई पूछेगा?

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की भतीजी ने चाचा पर लगाया यौन उत्‍पीड़न का आरोप, कहा- बड़े पापा ने भी मेरी कभी नहीं सुनी

"चाचा हैं, वे ऐसा नहीं कर सकते।" - नवाजुद्दीन ने अपनी भतीजी की व्यथा सुनने के बाद सिर्फ इतना ही नहीं कहा बल्कि पीड़िता की माँ के बारे में...

जब अजीत डोभाल ने रिक्शावाला बन कर खालिस्तानी आतंकियों को विश्वास दिलाया कि वो ISI अजेंट हैं

ऑपरेशन ब्लू स्टार के पीछे जो बातें सबसे अहम रहीं, उनमें खालिस्तानी अलगाववादियों के पंजाब की स्वायत्तता की माँग का उग्र रूप में सामने आना प्रमुख वजह रहा।

‘सीता माता पर अपशब्द… शिकायत करने पर RSS कार्यकर्ता राजेश फूलमाली की हत्या’ – अनुसूचित जाति आयोग से न्याय की अपील

RSS कार्यकर्ता राजेश फूलमाली की मौत को लेकर सोशल मीडिया पर आवाज उठनी शुरू हो गई। बकरी विवाद के बाद अब सीता माता को लेकर...

हथिनी के बाद, अब हिमाचल में गर्भवती गाय को बम खिलाने की बात सोशल मीडिया पर आई सामने

सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे इस वीडियो में हिमाचल प्रदेश के गुरदयाल सिंह इस जख्मी गाय के साथ नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि लोग गौरक्षा की बात कर रहे हैं जबकी......

दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में बताया मुस्लिम दंगाइयों ने काटकर आग में फेंक दिया था दिलबर नेगी को, CCTV तोड़ दिए थे

इस चार्जशीट के अनुसार, मुस्लिम समुदाय की एक भीड़ ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली के बृजपुरी पुलिया की तरफ से आई और हिंदुओं की संपत्तियों को निशाना बनाते हुए दंगा करना शुरू कर दिया और 24 फरवरी की देर रात तक उनमें आगजनी करती रही।

जब अजीत डोभाल ने रिक्शावाला बन कर खालिस्तानी आतंकियों को विश्वास दिलाया कि वो ISI अजेंट हैं

ऑपरेशन ब्लू स्टार के पीछे जो बातें सबसे अहम रहीं, उनमें खालिस्तानी अलगाववादियों के पंजाब की स्वायत्तता की माँग का उग्र रूप में सामने आना प्रमुख वजह रहा।

J&K के राजौरी जिले में हुई मुठभेड़ में आतंकी ढेर, शोपियां में फेंका ग्रेनेड, एक जवान वीरगति को प्राप्त

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार देर रात को राजौरी जिले के मेहारी गाँव में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया और उसके पास से भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद किया गया।

ISI एजेंट्स ने किया बाइक से भारतीय राजनयिक का पीछा: पाक ने घर के बाहर तैनात किए लोग, वीडियो वायरल

भारतीय प्रभारी गौरव अहलूवालिया की कार का पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के एक सदस्य ने मोटरसाइकिल से पीछा किया है, जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

Covid-19: भारत में 24 घंटे में सामने आए 9304 नए मामले, अब तक 6075 की मौत

भारत में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 2,16,919 हो गई है। 1,06,737 मामले वर्तमान में सक्रिय हैं। 1,04,106 ठीक हो चुके हैं।

सीता माता पर अभद्र टिप्पणी करने वाले ट्रेनी ऑफिसर आसिफ खान को GoAir ने बाहर निकाला

GoAir ने आसिफ खान को बाहर का रास्ता दिखाते हुए कहा है कि किसी व्यक्ति या कर्मचारी के निजी विचारों से उसका कोई लेना-देना नहीं है।

जामिया की सफूरा जरगर को फिर नहीं मिली बेल, मेडिकल ग्राउंड पर लगाई थी गुहार, दिल्ली दंगों की है आरोपी

दिल्ली के पटियाला कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने मेडिकल आधार पर जमानत देने की सफूरा जरगर की याचिका खारिज कर दी।

ताहिर हुसैन के बचाव में फिर खड़ा हुआ केजरीवाल का MLA अमानतुल्लाह खान, कहा- मुसलमान होने की मिली है सजा

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों में चार्जशीट दाखिल होने के बाद AAP विधायक अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन का बचाव किया है।

तबलीगी जमात के 2200 से अधिक विदेशी सदस्य 10 साल नहीं आ पाएँगे भारत, गृह मंत्रालय ने लगाई रोक

वीजा मानकों के उल्लंघन के चलते तबलीगी जमात से जुड़े 2200 से अधिक विदेशियों के 10 साल तक भारत में प्रवेश करने पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पाबंदी लगा दी है।

हमसे जुड़ें

211,927FansLike
61,467FollowersFollow
246,000SubscribersSubscribe