Wednesday, August 12, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे जब हुआ मंदिरों का ध्वंस, तब किस दोजख में था सौहार्द? - यह 'हिंदू'...

जब हुआ मंदिरों का ध्वंस, तब किस दोजख में था सौहार्द? – यह ‘हिंदू’ बनने का वक्त, ‘सेकुलर’ नौटंकी से बचो

वाजपेयी ने कहा था कि राम का मंदिर छल और छद्म से नहीं बनेगा। राम का मंदिर अगर बनेगा तो एक नैतिक विश्वास के बल पर बनेगा। वो वक्त करीब आ गया है। हिंदू अपने गौरव के प्रतीक, अपने नैतिक बल के प्रतीक को रामभक्त मुसलमान की ईंट, मिट्टी और श्रद्धा से दूषित नहीं होने देगा।

दिसंबर 17, 1992 के दिन, लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था- “जहाँ मैंने आरंभ किया था, मैं वहीं समाप्त करना चाह रहा हूँ। मैंने कहा था कि देश तिराहे पर खड़ा है। एक तरह की सांप्रदायिकता को बढ़ावा देकर, एक तरह की कट्टरता को बढ़ावा देकर, आप दूसरी तरह की कट्टरता से नहीं लड़ें, मगर आप यही कर रहे हैं और अब इस समय आइए, हम एक नई शुरुआत करें। अयोध्या, जैसा मैंने शुरू में कहा था कि अवसर में बदला जा सकता है।”

वाजपेयी करीब तीन दशक पहले जिस सांप्रदायिकता और कट्टरता को लेकर आगाह कर रहे थे, क्या वह जमशेद खान के यह कहने से, “हमने इस्लाम अपनाया और इस्लाम के अनुसार ही हम प्रार्थना करते हैं। लेकिन धर्म बदलने से हमारे पूर्वज नहीं बदल जाते। राम हमारे पूर्वज थे और हम अपने हिंदू भाइयों के साथ इसे मनाएँगे।”, खत्म हो गई है?

या सईद अहमद के यह कहने से, “हम भारतीय मुस्लिम मानते हैं कि राम इमाम-ए-हिंद थे और मैं अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के दौरान मौजूद रहूँगा।”, से वह समय आ गया है जिसका जिक्र वाजपेयी कर रहे थे?

या राशिद अंसारी जब कहते हैं, “अगर हमें गर्भगृह में जाने का मौका मिलता है, जहाँ शिलान्यास किया जाएगा, तो यह हमारे लिए आशीर्वाद की तरह होगा। अगर सुरक्षा वजहों से हमारा प्रवेश रोका जाता है तो हम बाहर से जश्न का हिस्सा बनेंगे।”, तो वह एक नई शुरुआत की बात कर रहे होते हैं? या फिर छत्तीसगढ़ से भूमि पूजन के लिए ईंट लेकर फैज खान की यात्रा को अवसर में बदला जा सकता है?

- विज्ञापन -

सवाल कई हैं और ‘अच्छा हिंदू’ ‘रामभक्त मुसलमान’ पर लहालोट हुआ जा रहा है। 5 अगस्त को अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर का भूमिपूजन होगा। देश के प्रधानमंत्री मौजूद होंगे। साधु-संत और भव्य राम मंदिर की संघर्ष यात्रा के कई पथिक भी उपस्थित रहेंगे। कितना आसान, कितना मधुर लगता है सब कुछ।

लेकिन हिंदू के सवाल यहीं से खड़े होते हैं। क्या उत्तर प्रदेश और केंद्र में आज बीजेपी की सरकार न होती, तब भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद यह सब इतना ही आसान होता है? ‘अच्छा हिंदू’ कहेगा कि क्यों नहीं?

लोकतांत्रिक व्यवस्था में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ कौन सी सरकार जाएगी। लेकिन हिंदू मन सवाल करता है कि शाहबानो के हक में भी फैसला इसी सुप्रीम कोर्ट ने दिया था, पर एक सरकार ही थी जो इसके खिलाफ अध्यादेश ले आई।

हिंदू मन कहता है कि वो भी एक यूपी की ही सरकार थी, जिसने राम भक्त कार सेवकों की लाश से अयोध्या और सरयू को पाट दिया था। फिर 1992 की वह बीजेपी सरकार भी थी, जिसने राम भक्तों पर गोली चलाने का आदेश देने की जगह, सत्ता का बलिदान कर दिया।

हिंदू मन को अचानक से राम मंदिर पर पैदा सौहार्द्र से शक होता है। लेकिन यह जान कर भी कि रामलला के पक्ष में फैसला आने पर सुप्रीम कोर्ट की नीयत पर सवाल उठाए गए थे, अच्छा हिंदू ‘रामभक्त मुसलमान’ पर मर मिटेगा। उसके तर्क बड़े भोले होंगे। वह कहेगा मैं अपने घर में पूजा करूँ और मेरा कोई मुस्लिम मित्र आएगा तो मैं कैसे मना कर दूँगा।

वह भावनाओं के ज्वार में उतराता जाएगा। और यह ज्वार कौन पैदा कर रहा है। वही मीडिया, वही वामपंथी। चूँकि तमाम तीन तिकड़म के बाबवजूद जब वे भव्य राम मंदिर के निर्माण में अड़ंगा नहीं डाल पा रहे हैं तो मीठी गोली से शिकार पर उतर आए हैं और वे भी जानते हैं अच्छा हिंदू इस जाल में फँसेगा।

लेकिन हिंदू यह जानना चाहता है कि अयोध्या, मथुरा, काशी सहित देश के तमाम हिस्सों में मंदिरों का ध्वंस कर उस पर मस्जिद खड़े करने के भागीदार (जिनके नाम भी जमशेद, सईद और फैज जैसा ही कुछ रहा होगा) के पूर्वज राम नहीं थे। तब किस दोजख में दबा था यह सौहार्द्र?

1856 में मिर्जा जान ने लिखा था,

“मुगल बादशाहों ने बनारस और काशी में मंदिरों को तोड़कर उनके मलबे से मस्जिदें बनाईं। ऐसा ही अयोध्या में हुआ। अयोध्या राम के पिता की राजधानी कही जाती है। यह हिंदुओं के लिए पूजा का सबसे पवित्र स्थान है। यहाँ मंदिर की एक-एक दीवार को तोड़कर उसके मलबे और पत्थरों से ही मस्जिद बनाई गई। जहाँ विशाल मंदिर था उसे तोड़कर मैदान कर दिया गया। उसे ही मस्जिद का अहाता बनाया गया। बादशाह बाबर ने यह काम तो बहुत अच्छा किया, 1526 में मंदिर को तोड़कर शानदार मस्जिद बनवाई, लेकिन मुश्किल यह है कि अभी भी यह मस्जिद सीता की रसोई मस्जिद के तौर पर ही जानी जाती है।”

नवाबों की हुकूमत खत्म होने के बाद अंग्रेजों के जमाने में 1858 में बाबरी मस्जिद के मुअज्जीन ने जो कोर्ट में अपील की थी, उसमें भी इसे जन्मस्थान मस्जिद बताया था। उसका कहना था कि मस्जिद सैकड़ों साल से वीरान है और हिंदू ही वहाँ पूजा करते आ रहे हैं।

अंग्रेजी हुकूमत के गजेटियर से लेकर तमाम दस्तावेज यह बताते हैं कि वह जगह रामलला की थी। यह सब जानने के बाद हिंदू मन पूछना चाहता है कि फिर आजाद भारत में नेहरू ने रामलला की मूर्ति उस जगह से क्यों हटवानी चाही थी?

क्यों इतना लंबा संघर्ष हिंदुओं को करना पड़ा? क्यों इतनी लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी गई? क्या तब जमशेद और फैज के कौम को यह नहीं पता था कि उनके पूर्वज कौन थे? क्या उन्हें यह दिव्य ज्ञान अगस्त 05, 2020 की तारीख तय होने के बाद हुई?

अच्छा हिंदू कहेगा- “छोड़ो कल की बातें कल की बात पुरानी।” फिर जमशेद और फैज के पूर्वजों की बात भी तो पुरानी ही है। जमशेद और फैज की आज की पहचान तो कहती है कि बुतपरस्ती हराम है। उनके लिए हम काफिर हैं। वैसे भी धर्म आस्था का मसला है। जीवन जीने का सलीका है। जिनके लिए हिंदुत्व की जीवनशैली नापाक है, उनकी मिट्टी, उनकी आस्था का हिंदू क्यों आचार डालें। जमशेद और फैज जैसे यह भी तो कह सकते हैं कि भूमि पूजन के पवित्र मौके पर हम अपने पूर्वजों के धर्म में वापसी करेंगे।

लेकिन वे न ऐसा कुछ कहेंगे और न करेंगे। वे मोहरे हैं। उनसे आप सवाल करेंगे तो मीडिया आपको कट्टर हिंदू बताएगा। बताएगा कि ​आप सेकुलर भारत के लिए खतरनाक हैं। और आप सर्टिफिकेट पाने की लालसा में अच्छा हिंदू बनने को तैयार हो जाएँगे।

फिर भी हिंदू मन इस मीडिया से पूछता रहेगा, तुम्हारी क्यों सुने? तुमने मंदिर के पैरोकार रहे परमहंस रामचंद्र दास को कट्टर और बाबरी मस्जिद के मुद्दई हाशिम अंसारी को उदरावाद का प्रतीक बताया। मुस्लिम इंडिया नाम से अखबार प्रकाशित करने वाला, गणतंत्र दिवस को ब्लैक डे के तौर पर मनाने का आह्वान करने वाला सैयद शहाबुद्दीन तुम्हारे लिए प्रोग्रेसिव मुसलमान था।

लेकिन साध्वी ऋतंभरा, उमा भारती, विनय कटियार जैसों को उन्मादी बताया। राम सेवकों की लाश बिछाने वाला मौलाना मुलायम तुम्हारे लिए समाजवादी है और राम रथ यात्रा निकालने वाला आडवाणी सांप्रदायिक।

हम तुम्हारी इन साजिशों को अब खूब समझते हैं। हम हिंदू बनेंगे। नहीं बनना अब तुम्हारे लिए अच्छा हिंदू। हम जानते हैं कि प्रोगेसिव मुसलमान, उदारवादी मुसलमान तुम्हारे गढ़े वे शब्द हैं, जिससे तुम इनके जिहादी मानसिकता पर पर्दा डालते हो। जिस मौलाना आजाद को तुम उदारवादी बताते रहे, उसने आजाद भारत की शिक्षा-व्यवस्था को वह शक्ल दी, जिससे मुसलमानों का खूनी इतिहास दब जाए और हिंदू अपनी पहचान पर शर्मिंदा हों।

वाजपेयी ने कहा था राम का मंदिर छल और छद्म से नहीं बनेगा। राम का मंदिर अगर बनेगा तो एक नैतिक विश्वास के बल पर बनेगा। वो वक्त करीब आ गया है। हिंदू अपने गौरव के प्रतीक, अपने नैतिक बल के प्रतीक को रामभक्त मुसलमान की ईंट, मिट्टी और श्रद्धा से दूषित नहीं होने देगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: 400 Gb/s की इंटरनेट स्पीड, इस समुद्री केबल से बदलेगी अंडमान-निकोबार की तस्वीर

अंडमान-निकोबार में कनेक्टिविटी से वहाँ अनगिनत अवसर पैदा होंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 2300 KM पनडुब्बी केबल तय समय से पहले बिछा लिया गया।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

वामपंथियों को दिल्ली दंगों की सच्चाई नहीं आ रही रास, 20 अगस्त को भेजेंगे ओपन लेटर, गुप्त सूचना हुई लीक

पुलिस जाँच कर रही है। लेकिन दिल्ली दंगों की जाँच में निकल कर आ रहे नाम और इलाके वामपंथियों के गले की हड्डी बनते जा रहे हैं। इसी कारण से...

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

मौलाना ने 9 साल की अपनी ही स्टूडेंड का किया रेप, अब बच्ची से शादी कराने और केस वापस लेने की धमकी

जिस मौलाना पर रेप का आरोप, उसके परिवार वाले पीड़ित बच्ची के परिवार पर दबाव बना रहे कि वो 9 साल की बच्ची की शादी मौलाना से कर दे और...

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

महेश भट्ट की ‘सड़क-2’ में किया जाएगा हिन्दुओं को बदनाम: आश्रम के साधु के ‘असली चेहरे’ को एक्सपोज करेगी आलिया

21 साल बाद निर्देशन में लौट रहे महेश भट्ट की फिल्म सड़क-2 में एक साधु को बुरा दिखाया जाएगा, आलिया द्वारा उसके 'काले कृत्यों' का खुलासा...

मस्जिद के अवैध निर्माण के खिलाफ याचिका डालने वाले वकील पर फायरिंग, अतीक अहमद गैंग का हाथ होने का दावा

प्रयागराज में बदमाशों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील अभिषेक शुक्ला पर फायरिंग की। हमले में वे बाल-बाल बच गए।

बुर्के वाली औरतों की टीम तैयार की गई थी, DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद ने दंगों का दिया था मैसेज: गुलफिशा ने उगले राज

"प्रोफेसर ने हमे दंगों के लिए मैसेज दिया था। पत्थर, खाली बोतलें, एसिड, छुरियाँ इकठ्ठा करने के लिए कहा गया था। सभी महिलाओं को लाल मिर्च पाउडर रखने के लिए बोला था।"

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

बेंगलुरु दंगा: PFI समर्थित SDPI के दंगाइयों की गिरफ्तारी पर ओवैसी से लेकर कॉन्ग्रेस में पसरा मौन, वोट बैंक का चक्कर

अपने बढ़ते नेटवर्क के माध्यम से, SDPI यहाँ पर लोकप्रियता हासिल करने में कामयाब रही है, जिससे मुस्लिम वोटों पर कॉन्ग्रेस की पकड़ का खतरा पैदा हो गया।

जो बना CAA विरोधी उपद्रव का गढ़, जहाँ नसीरुद्दीन शाह ने उगला था जहर: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ ने वहीं किया दंगा

भारत के लिबरल गैंग जिस भी चीज का हद से ज्यादा गुणगान करे, उसके बारे में समझ जाना चाहिए कि वो उतना ही ज्यादा खतरनाक है। उदाहरण के लिए दिल्ली के शाहीन बाग को ही ले लीजिए। इसी क्रम में बेंगलुरु के बिलाल बाग को भी प्रचारित किया गया।

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

बेंगलुरु दंगा के पीछे SDPI का हाथ: मुजम्मिल पाशा ने हिंसा भड़काने के लिए बाँटे थे रुपए, 165 हिरासत में

पूर्वी बेंगलुरु में हुई इस घटना के मामले में 'सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI)' के नेता मुजम्मिल पाशा को गिरफ्तार किया गया है। वो इन दंगों का मास्टरमाइंड है।

पैंगबर से ज्यादा तारीफ इंसान की, गाना लिख कर वायरल करने वाले संगीतकार को अब मौत की सजा

यहाया फिलहाल हिरासत में हैं। गाना कंपोज करने के बाद से वह छिपते फिर रहे थे। जिसके कारण प्रदर्शनकारियों ने उनके परिवार के घर को जला दिया।

रायबरेली में बने भव्य बाबरी मस्जिद, सुप्रीम कोर्ट ने नहीं माना कि राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनी थी: मुनव्वर राना

मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने भी कहा कि अयोध्या के राम मंदिर परिसर में ही छोटी सी मस्जिद बनाने के लिए इजाजत दी जानी चाहिए थी।

भारत में नौकरी कर रहे चायनीज ने की ₹1000+ करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग, IT विभाग ने किया भंडाफोड़

IT विभाग को छानबीन में हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके साथ ही हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी हाथ लगे हैं।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: 400 Gb/s की इंटरनेट स्पीड, इस समुद्री केबल से बदलेगी अंडमान-निकोबार की तस्वीर

अंडमान-निकोबार में कनेक्टिविटी से वहाँ अनगिनत अवसर पैदा होंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 2300 KM पनडुब्बी केबल तय समय से पहले बिछा लिया गया।

नाबालिग हिन्दू लड़कियों को नशे का आदी बना रहा था जावेद: इंस्टाग्राम पर दोस्ती कर ले जाता था हुक्का बार

मेरठ के जावेद खान (नाबालिग, इसीलिए बदला हुआ नाम) का पेशा प्रतिष्ठित हिन्दू कॉलनियों की लड़कियों को हुक्का बार ले जाकर नशे का आदी बनाना है।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,640FollowersFollow
295,000SubscribersSubscribe
Advertisements