Thursday, January 21, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे सावरकर को चिढ़ाने, हिंदुओं को गाली देने वाले कॉमेडियंस... अब शिवसेना से माँग रहे...

सावरकर को चिढ़ाने, हिंदुओं को गाली देने वाले कॉमेडियंस… अब शिवसेना से माँग रहे रहम की भीख

ये कॉमेडियन हिन्दू महापुरुषों का अपमान करते हैं, उनके आदर्शों का मजाक उड़ाते हैं। हिन्दू, हिन्दू रीति-रिवाज, हिन्दू देवी-देवता और हिन्दू आदर्शों के प्रति घृणा ही है, जो इन्हें ऐसा बनाती है। अब इनके पुराने ट्वीट्स और वीडियो वायरल हो रहे हैं।

आखिरकार ऑनलाइन सक्रिय रहने वाले हिन्दू जागृत हुए और उन्होंने उस कॉमेडियन ब्रीड पर करारा प्रहार किया जो हिन्दुओं, उनके देवी-देवताओं और उनके प्रतीकों का अपमान किए फिरते हैं। पिछले कुछ दिनों से ऐसे कॉमेडियनों को ढूँढ-ढूँढ कर निकाला जा रहा है। खुद को क्रिएटिव बताने वाले इन कॉमेडियनों के पास जोक्स का अभाव है, तभी तो वो हिन्दू प्रतीकों का अपमान कर लोगों को हँसाने की कोशिश करते हैं।

ये कॉमेडियन हिन्दू महापुरुषों का अपमान करते हैं और उनके आदर्शों का सरेआम मजाक उड़ाते हैं। साथ ही ये अश्लील और सस्ते चुटकुले मार कर खुद की तथाकथित क्रिएटिविटी का प्रदर्शन करते हैं। अब इनके पुराने ट्वीट्स और वीडियो वायरल हो रहे हैं जिनसे पता चलता है कि इनके पास ‘सेन्स ऑफ ह्यूमर’ नाम की कोई चीज है भी नहीं। हिन्दू, हिन्दू रीति-रिवाज, देवी-देवता और हिन्दू आदर्शों के प्रति घृणा ही है, जो इन्हें ऐसा बनाती है।

ऐसा ही एक विवाद अग्रिमा जोशुआ को लेकर शुरू हुआ, जिसे शायद ही कोई जानता हो। वो ख़ुद को कॉमेडियन बताती है। उसने छत्रपति शिवाजी महाराज का मजाक उड़ाया। लोगों को उसके चुटकुलों पर हँसी की जगह गुस्सा आया क्योंकि वो किसी लायक नहीं थे। जोशुआ ने विवाद के लिए ‘भाजपा आईटी सेल’ को जिम्मेदार बताया और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से माफ़ी माँगी। बाद में पता चला कि राज ठाकरे की एमएनएस और उद्धव की शिवसेना ने ही उसके घर पर हमले किए थे।

उद्धव को मदद के लिए पुकारने वाली जोशुआ ने बाद में माफ़ी माँगी। उसने अपने माफीनामे में उद्धव के अलावा राज ठाकरे, आदित्य ठाकरे और गृह मंत्री अनिल देशमुख को भी सम्बोधित किया। बता दें कि महाराष्ट्र में चल रही ‘महा विकास अघाड़ी’ की मिलीजुली सरकार से लिबरलों का विशेष प्रेम है और शिवसेना को गाली देने वाले लिबरल अब उसकी तारीफ करते हैं क्योंकि वो भाजपा से अलग जाकर कॉन्ग्रेस-एनसीपी के साथ सरकार चला रही है।

जोशुआ के बाद आदर मलिक, साहिल शाह, अज़ीम बँटवाला, आलोकेश सिन्हा, कट्टरवादी वामपंथी संजय राजौरा, नीति पाल्टा और हिन्दु-विरोधी ट्वीट्स करने वाले रोहन जोशी- ये सब वो नाम हैं जो हिन्दुओं की भावनाओं को ताक पर रख कर उनका अपमान करते हैं और खुद को कॉमेडियन बताते हैं। इन कॉमेडियनों ने अपनी करतूतों के सामने आते ही सोशल मीडिया छोड़ कर भाग निकलना उचित समझा।

इनके मुठी भर समर्थक और ये खुद को भले ही फ्री स्पीच का चैंपियन बताते हों, ये सच्चाई कहने के लाख दावे करते हों और खुद को सत्ता को चुनौती देने वाले लोग की तरह पेश करते हों लेकिन जब असलियत की बात आती है और इनके कारनामों के सामने आते ही ये भाग निकलते हैं। इन कॉमेडियनों ने अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल्स को डीएक्टिवेट कर लिया। एक तो इन कॉमेडियनों को हँसाने नहीं आता, ऊपर से ये गालीबाज भी हैं।

दरअसल, ये सारे के सारे डरपोक हैं। इन डरपोक कॉमेडियनों को इस बात का भय था कि उनकी करतूतों के उजागर होने के बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स उनके हैंडल्स के खिलाफ एक्शन लेंगे, इसीलिए वो भाग निकले क्योंकि उनके खिलाफ जम कर रिपोर्टिंग हो रही थी। उनमें सवालों के जवाब देने की हिम्मत नहीं है। साथ ही इन डरपोकों को प्रशासन की कार्रवाई का भी डर है। इन डरपोकों को डर था कि उनके अकाउंट खँगालने पर उनके और बेहूदे काले कारनामे निकल आएँगे, इसीलिए ये भाग निकले।

लेकिन, कुछ दिनों बाद ये अपने बिलों से बाहर भी निकले क्योंकि इन्हें महाराष्ट्र की शिवसेना-एनसीपी-कॉन्ग्रेस सरकार से माफ़ी जो माँगनी थी। चूँकि, महाराष्ट्र में ‘सेक्युलर’ सरकार चल रही है, इनकी घिग्घी बँधी रहती है और ये उनसे माफ़ी माँगने से नहीं हिचकते। जबकि बात मोदी सरकार की हो तो ये ‘सत्ता को चुनौती’ देने के दावे करते हुए खुद को बहुत बड़ा शेर बताते फिरते हैं। फासिस्ट मोदी है लेकिन इन्हें माफ़ी शिवसेना से माँगनी पड़ रही है।

यहाँ ये तो सोचने वाली बात है कि जब फासिस्ट मोदी है और जिम्मेदार भाजपा आईटी सेल है तब फिर ये शिवसेना और मनसे जैसी पार्टियों और उनके नेताओं से माफ़ी क्यों माँग रहे हैं। वामपंथियों के लिए संकट खड़ा हो गया है क्योंकि उन्हें शिवसेना को अच्छा भी दिखाना है और भाजपा को कोसना भी है। अगर मोदी फासिस्ट होता तो वो मोदी से माफ़ी माँगने को मजबूर होते न? फिर शिवसेना के सामने क्यों गिड़गिड़ा रहे ये?

ठीक है, इन बेहूदा जोक मारने वाले डरपोक कॉमेडियनों ने शिवसेना और कॉन्ग्रेस के नेताओं से माफ़ी तो माँग ली लेकिन उस जनता का क्या जिनकी भावनाओं को लात मार कर ये खुला घूम रहे हैं? क्या जनभावनाओं का कोई सम्मान नहीं इनके मन में? क्योंकि ये सोचते हैं कि शिवसेना से माफ़ी माँग कर ये प्रशासनिक कार्रवाई से बच जाएँगे और साथ ही उसके कार्यकर्ताओं का कोपभाजन नहीं बनेंगे लेकिन जनता उनका थोड़े कुछ बिगाड़ पाएगी।

न इन्हें इतिहास का ज्ञान है और न ही इनका समान्य ज्ञान उस स्तर का है लेकिन वीर सावरकर के मर्सी पिटीशन पर जोक्स क्रैक करते हुए ये खुद को कूल समझते हैं। सारे कॉन्ग्रेस नेता तो यही करते हैं। क्या वो अपना काम छोड़ दें? देश के लिए 50 साल कारावास की सज़ा पाने वाले और अँग्रेजों की क्रूरता का सामना करते हुए कालापानी में एक दशक से भी ज्यादा बिताने वाले महापुरुष के लिए यही सम्मान है इनके मन में?

महात्मा गाँधी और मोतीलाल नेहरू का मजाक तो नहीं उड़ाते ये जबकि ऐसे पिटीशन तो उन्होंने भी लिखा था। क्या रामप्रसाद बिस्मिल ने मर्सी पिटीशन पर हस्ताक्षर किया तो वो कम महान हो गए? वीर सावरकर के बारे में इन्हें पता भी है? आज वो कमरा किसी तीर्थस्थल से कम नहीं है, जहाँ सावरकर रहा करते थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी वहाँ जाकर काफी देर तक ध्यान धरा था। ऐसे व्यक्ति का मजाक बनाने वालों को आखिर मिलता क्या है?

वीर सावरकर ने जिक्र किया है कि किस तरह वहाँ इंसानों को जानवरों से भी बदतर समझा जाता था। अँग्रेज उन्हें कोल्हू के बैल की जगह जोत देते थे। पाँव से चलने वाले कोल्हू में एक बड़ा सा डंडा लगा कर उसके दोनों तरफ दो आदमियों को लगाया जाता था और उनसे दिन भर काम करवाया जाता था। जो काम बैलों का था, वो इंसानों से कराए जाते थे। जो टालमटोल करते, उन्हें तेल का कोटा दे दिया जाता था और ये जब तक पूरा नहीं होता था, उन्हें रात का भोजन भी नहीं दिया जाता था।

सिर चकराता था। लंगोटी पहन कर कोल्हू में काम लिया जाता था। वो भी दिन भर। शरीर इतना थका होता था कि उनकी रातें करवट बदलते-बदलते कटती थी। धीरे-धीरे यातनाएँ और भी असह्य होती चली गईं। स्थिति ये आ गई कि सावरकर को आत्महत्या करने की इच्छा होती। इतनी भयंकर यातनाएँ दी जातीं और वहाँ से निकलने का कोई मार्ग था नहीं, भविष्य अंधकारमय लगता- जिससे वो सोचते रहते कि वो फिर देश के किसी काम आ पाएँगे भी या नहीं। 

यहाँ बीच-बीच जो ट्वीट्स संलग्न किए गए हैं, उनमें आप इन डरपोक गालीबाजों की कथित कॉमेडी के नमूने देख सकते हैं। हालाँकि, इससे आपको गुस्सा ही आएगा। अब जब इनकी करतूतों को लेकर इनकी आलोचना हो रही है तो ये विक्टिम कार्ड खेल रहे हैं। एक राज्य सरकार के आगे गिड़गिड़ाने वाले ये कॉमेडियन मोदी को फासिस्ट बता कर केंद्र से लड़ने के दावे करते फिरते हैं। माफ़ी उद्धव और राज ठाकरे से माँगेंगे क्योंकि अपने कार्यकर्ताओं के गुस्से से यही नेता तो बचाएँगे इन्हें। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

‘अल्लाह’ पर टिप्पणी के कारण कंगना के अकॉउंट पर लगा प्रतिबंध? या वामपंथियों ने श्रीकृष्ण से जुड़े प्रसंग को बताया ‘हिंसक’?

"जो लिब्रु डर के मारे मम्मी की गोद में रो रहे हैं। वो ये पढ़ लें कि मैंने तुम्हारा सिर काटने के लिए नहीं कहा। इतना तो मैं भी जानती हूँ कि कीड़े मकोड़ों के लिए कीटनाशक आता है।"

‘मस्जिदों से घोषणा होती थी कौन कब मरेगा, वो चाहते थे निजाम-ए-मुस्तफा’: पत्रकार ने बताई कश्मीरी पंडितों के साथ हुई क्रूरता की दास्ताँ

आरती टिकू सिंह ने अपनी आँखों से कश्मीरी पंडितों के पलायन का खौफनाक मंजर देखा है। उनसे ही सुनिए उनके अनुभव। जानिए कैसे मीडिया ने पीड़ितों को ही विलेन बना दिया।

स्वामीये शरणम् अय्यप्पा: गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर सुनाई देगा ब्रह्मोस रेजिमेंट का यह वॉर क्राई

861 मिसाइल रेजिमेंट, राजपथ पर इस वर्ष गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान ब्रह्मोस मिसाइल का प्रदर्शन करेगी। रेजिमेंट का 'वॉर क्राई' हो- स्वामीये शरणम् अय्यप्पा

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘टॉप और ब्रा उतारो’ – साजिद खान ने जिया को कहा था, 16 साल की बहन को बोला – ‘…मेरे साथ सेक्स करना है’

बॉलीवुड फिल्म निर्माता साजिद खान के खिलाफ एक बार फिर आवाज उठनी शुरू। दिवंगत अभिनेत्री जिया खान की बहन करिश्मा ने वीडियो शेयर कर...

‘नंगा कर परेड कराऊँगा… ऋचा चड्ढा की जुबान काटने वाले को ₹2 करोड़’: भीम सेना का ऐलान, भड़कीं स्वरा भास्कर

'भीम सेना' ने 'मैडम चीफ मिनिस्टर' को दलित-विरोधी बताते हुए ऋचा चड्ढा की जुबान काट लेने की धमकी दी। स्वरा भास्कर ने फिल्म का समर्थन किया।

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"

‘शक है तो गोली मार दो’: इफ्तिखार भट्ट बन जब मेजर मोहित शर्मा ने आतंकियों के बीच बनाई पैठ, फिर ठोक दिया

मरणोपतरांत अशोक चक्र से सम्मानित मेजर मोहित शर्मा एक सैन्य ऑपरेशन के दौरान बलिदान हुए थे। इफ्तिखार भट्ट बन उन्होंने जो ऑपरेशन किया वह आज भी कइयों के लिए प्रेरणा है।
- विज्ञापन -

 

00:30:41

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

TMC की धमकी- ‘गोली मारो… से लेकर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे’ पर BJP का पलटवार, पूछा- क्या यह ‘शांति’ की परिभाषा है?

टीएमसी की रैली में 'बंगाल के गद्दारों को गोली मारो सालो को' जैसे नारे लगा कर BJP कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दी तो वहीं ममता सरकार में परिवहन मंत्री ने भाजपा को लेकर कहा, "अगर दूध माँगोगे तो खीर देंगे, लेकिन अगर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे।"

मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस पेंट कर चर्च में बदलने की कोशिश, पहले भी मूर्तियों और दानपात्र को पहुँचाई गई थी क्षति

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में एक हिंदू मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस चिन्ह पेंट कर उसे एक चर्च में बदलने का प्रयास किया गया है।

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

3 में 3 स्टार, 4 लाख में 4… ऐसे दी जाती है बॉलीवुड फिल्मों की रेटिंग: फिल्ममेकर ने खुद बताई हकीकत

विकास खन्ना ने कहा कि उन्हें 'पक्षपात और भाई-भतीजावाद का पहला अनुभव' हुआ जब क्रिटिक्स में से एक ने उन्हें उनकी फिल्म के रिव्यू के लिए पैसे देने के लिए कहा और इसके लिए राजी नहीं होने पर उन्हें बर्बाद करने की धमकी भी दी गई थी।

चारों ओर से घिरी Tandav: मुंबई, UP में FIR के बाद अब इंदौर के न्यायालय में हुई शिकायत दर्ज

UP पुलिस 'तांडव' की पूरी टीम और अमेजन प्रबंधन से पूछताछ कर रही है तो दूसरी ओर इंदौर में अब तांडव को लेकर जारी आक्रोश न्यायालय तक पहुँ च गया है।

‘हर बच्चा एक मुसलमान के रूप में पैदा होता है’: भगोड़े जाकिर नाइक का एक और ‘हास्यास्पद’ दावा, देखें वीडियो

डॉ. जाकिर नाइक ने इस बार एक और विवादित दावा किया है। यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए गए अपने एक वीडियो में उसने दावा किया है कि 'हर बच्चा मुसलमान पैदा होता है।'

127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है ऐसा करने की खास वजह

यह बाइबिल बाइडेन के पिता की ओर से है। जोकि 1893 से उनके परिवार के पास है। उन्होंने अपने सभी सात शपथ ग्रहण समारोहों के लिए एक ही बाइबिल का उपयोग किया है।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

ऐलान के बाद केजरीवाल सरकार ने नहीं दिया 1 करोड़ का मुआवजा: कोरोना से मृत दिल्ली पुलिस जवानों के परिवार को अभी भी है...

केजरीवाल ने दिवंगत दिल्ली पुलिस अधिकारी द्वारा किए गए बलिदान के बारे में ट्विटर पर बताते हुए कुमार के परिवार को 1 करोड़ रुपए के मुआवजे की घोषणा की थी।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
383,000SubscribersSubscribe