Sunday, January 24, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया The Wire को भारत की हर चीज़ से दिक्कत है, चाहे वो झंडा हो,...

The Wire को भारत की हर चीज़ से दिक्कत है, चाहे वो झंडा हो, मंगलयान हो, या ISRO पर फिल्म हो

सवाल यह उठता है कि जिस थाली में वायर खा रहा है, उसमें छेद के लिए इतना उतावला क्यों है। तो जवाब यह है कि वायर की असली जलन भारत से नहीं, भारत के बहुसंख्यक हिन्दू समुदाय से है। यह भारत-विरोधी कम, हिन्दू-विरोधी अधिक है।

जब कश्मीर से उसका ‘विशेष झंडा’ छीन तिरंगे के नीचे लाया गया, The Wire को तब भी समस्या होती है, और जब संघ कथित तौर पर तिरंगे की बजाय भगवा पसंद करता है तब भी। उन्हें मंगलयान की टीम में मौजूद महिलाओं की ‘शोर के साथ’ बड़ाई से भी दिक्कत है, और अक्षय कुमार के किरदार के चुप और शांत रहने से भी। वे साड़ी वाली महिलाओं द्वारा घर-बाहर दोनों संभाल लेने के विद्या बालन के किरदार की उपलब्धि से भी नाराज़ होते हैं, और तापसी पन्नू के किरदार के कार न चला पाने से भी। इन सबमें समान बात केवल यह है कि उन्हें भारत से जुड़ी, भारतीयता के प्रति गर्व उतपन्न करने वाली हर चीज़ से एलर्जी है।

गोलवलकर, तिंरगा, मोदी

आज वायर में एक लेख छपा जिसका मजमून कुल इतना ही था कि ‘संघी’ मोदी तिरंगा झंडा फ़हराए तो न देशभक्ति जाग सकती है न देश के लिए सम्मान। क्यों? क्योंकि किसी समय गोलवलकर ने तिरंगे का विरोध कर भगवा झंडे की वकालत की थी, और 2001 में जबरन घुस कर अपने मुख्यालय पर तिरंगा फ़हराने वालों के ख़िलाफ़ RSS ने मुकदमा किया था।

गोलवलकर ने उस समय वह बात किस संदर्भ में, किस ‘frame of mind’ में कही थी, उनका पूर्ण मंतव्य क्या था, इसपर एक पंक्ति या अनुच्छेद में बात नहीं हो सकती- यह अपने आप में एक लेख में भी समाने वाला नहीं, एक पूरी किताब का विषय है। इस पर फ़िलहाल इतना कहना पर्याप्त है कि ठीक है, ऐसा गोलवलकर का मानना था, लेकिन हर स्वयंसेवक उनके हर विचार को पूरी तरह आत्मसात करने के लिए मजबूर नहीं है। गोलवलकर “ऊपर वाले का अंतिम संदेशवाहक” नहीं थे कि उनकी बातों से नाइत्तेफ़ाक़ी रखने वालों का सर कलम हो जाएगा संघ में।

आप मोदी की बात कर रहे हैं तो मोदी के बारे में बात करिए। क्या मोदी के 18 वर्षों के सरकारी, कर उसके भी पहले दशकों के राजनीतिक जीवन में किसी ने तिरंगे के ख़िलाफ़ उनके उद्गार सुने हैं? नहीं सुने होंगे। मकसद दरअसल मोदी नहीं, मोदी के बहाने तिरंगे झंडे और भारत की सम्प्रभुता को पदच्युत करना है। यही मकसद पहले भी था, और आज जब ठसक के साथ तिरंगा कश्मीरी जिहादियों के सीने पर मूँग दल रहा है, बिना अपनी सम्प्रभुता फ़र्ज़ी कश्मीरी झंडे के साथ साझा किए, तो वायर से ऐसे लेखों की उल्टियाँ बढ़-बढ़कर हो रहीं हैं।

और मज़े की बात यह कि 2001 में संघ के मुख्यालय पर तिरंगा फ़हराए जाने पर तालियाँ पीटने वाला वायर कश्मीर में तिरंगे की सम्प्रभुता पर उसी साँस में सवाल खड़े कर रहा है! दोगलेपन की ऐसी सानी मिलना मुश्किल है।

आपको शर्म मंगलयान के नहीं, अपने सस्तेपन पर आनी चाहिए

मंगलयान पर बनी फ़िल्म ‘मिशन मंगल’ की समीक्षा में द वायर के लेखक सीधे-सीधे कहते हैं कि NASA के मंगल मिशन MAVEN (Mars Atmosphere and Volatile Evolution) की ₹6,000 करोड़ लागत के मुकाबले मंगलयान के ₹400 करोड़ में सम्पन्न हो जाने की बात का ज़िक्र उन्हें ‘लज्जित’ करता है। इसमें शर्म की आखिर कौन सी बात है? विकासशील देशों में किसी भी चीज़ की लागत निर्णय के पैमानों में हमेशा ही महत्वपूर्ण पैमाना होती है, और किसी अमीर/विकसित देश के मुकाबले कम में काम कर लेने में शर्म कैसी?

इसके अलावा वह फिल्म में महिलाओं के लगभग हर रूप में प्रदर्शन पर आपत्ति ही जताते हैं। विद्या बालन घर संभालने से लेकर प्रोजेक्ट का निर्देशन तक सब कुछ कर ले रहीं हैं, तो उसमें भी आपत्ति, और तापसी पन्नू को साइंटिस्ट होते हुए भी कार चलाना सीखने में संघर्ष करता दिखाया जा रहा है, तो उसमें भी आपत्ति। साड़ी वाली महिलाओं को बौद्धिक रूप से अग्रणी दिखाया जा रहा है तो उसमें भी वह न जाने कहाँ से ‘स्टीरियोटाइपिंग’ ढूँढ़ लाते हैं, जबकि साड़ी को तो उन्हीं के पत्रकारिता और मीडिया वाले समुदाय विशेष ने ‘पिछड़ी, दबी-कुचली भारतीय महिला का पहनावा’ के रूप में स्टीरियोटाइप किया था।

जब महिला किरदार खाना पकाती दिखे तो उससे भी आपत्ति है, और जब किसी महिला वैज्ञानिक का पति उसके काम की सेना से तुलना कर सम्मान प्रदर्शित करे तो भी आपत्ति। अक्षय कुमार का किरदार धीर-गंभीर, कुछ-कड़क कम बोलने वाले पुरुष का है तो भी आपत्ति, और शरमन जोशी का शर्मीले, सोनाक्षी सिन्हा को ‘इम्प्रेस’ करने की कोशिश कर रहे पुरुष का किरदार है तो भी आपत्ति।

सबसे बड़ी आपत्ति आखिरी वाक्य में- कि अपने अंदर-ही-अंदर, गुमसुम-सी रहने वाली ख़ुशी की बजाय ‘आक्रामक’ होकर भारत की उपलब्धियों का जश्न क्यों मनाना। यही वायर की असली मानसिकता है, यही है इस फ़िल्म से चिढ़ने की असली वजह, कि अगर भारत की उपलब्धि पर चूड़ियाँ तोड़ कर विलाप नहीं कर सकते तो कम-से-कम उसका बखान कर हमारे घावों पर नमक तो मत रगड़ो।

झंडा हो या मंगलयान, असली दुश्मन भारत नहीं हिन्दू हैं

सवाल यह उठता है कि जिस थाली में वायर खा रहा है, उसमें छेद के लिए इतना उतावला क्यों है। तो जवाब यह है कि वायर की असली जलन भारत से नहीं, भारत के बहुसंख्यक हिन्दू समुदाय से है। यह भारत-विरोधी कम, हिन्दू-विरोधी अधिक है। इसीलिए यह तिंरगे झंडे के मामले में बिना किसी प्रासंगिकता के भगवा झंडे खींच लाता है, ताकि ज़हर यह भरा जा सके कि भारत की बहुसंख्यक हिन्दू आबादी तिरंगे की आड़ में भगवा झंडा कश्मीर पर थोप रही है। जबकि सच इसका उल्टा है। ‘सेक्युलर’ झंडे की सम्प्रभुता हिन्दू-बहुल शेष-भारत को तो मंज़ूर थी, लेकिन कश्मीर को नहीं।

और आज मोदी ने वही करके दिखाया कि कश्मीर का मजहबी समुदाय बाकी देश के हिन्दुओं के बराबर में आ गया है। कश्मीर में बिना किसी और झंडे से सर्वोच्चता साझा किए फ़हरा रहा तिरंगा इसी का द्योतक है। यही घाटी के समुदाय विशेष के भी असंतोष का कारण है, और यही भावना भगवा-तिरंगा को गड्ड-मड्ड करके वायर और भड़काना चाहता है।

मिशन मंगल के मामले में भी यही है। दिक्कत असली यह है कि इसे अंजाम देने वाली महिलाएँ साड़ी-चूड़ी-बिंदी वाली थीं, बुर्के-हिजाब वाली नहीं। यह उस नैरेटिव की पटकथा के विपरीत था, जिसमें साड़ी ‘पिछड़ी, दबी-कुचली हिन्दू महिला’ का पहनावा थी। इसीलिए उनकी उपलब्धि पर बनी फिल्म में सौ खोट न होते हुए भी ‘ढ़ूँढ़ निकालने’ की कोशिश हो रही है, ताकि साड़ी पहनने वाली, हिन्दू रीति-रिवाजों और मूल्यों पर चलने वाली महिलाओं की सफ़लता को, मीडिया में उसके गान को अवैध करार दिया जा सके; ताकि नैरेटिव ज़िंदा रहे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

‘नकाब के पीछे योगेंद्र यादव’: किसान नेताओं को ‘शूट करने’ आए नकाबपोश की कहानी में लोचा कई

किसान नेताओं ने एक नकाबपोश को मीडिया के सामने पेश किया, जिसने दावा किया कि उसे किसान नेताओं को गोली मारने के लिए रुपए मिले थे।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।
- विज्ञापन -

 

अमित शाह ने किया ‘आयुष्मान CAPF’ का शुभारंभ: 28 लाख से अधिक जवान देश में कहीं भी करा पाएँगे इलाज

आयुष्मान CAPF योजना के तहत CAPF के लगभग 10 लाख जवान और अधिकारी और 50 लाख के आसपास उनके परिवार और परिजन देश के अंदर 24 हज़ार अस्पतालों में सिर्फ कार्ड लेकर उसे स्वैप करके इलाज करा सकते हैं।

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।

योगेंद्र यादव का दावा- गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली की मिली अनुमति, दिल्ली पुलिस ने किया इनकार

“बैरिकेड्स हटाए जाएँगे और हम दिल्ली में प्रवेश करेंगे। किसानों के ट्रैक्टर परेड से गणतंत्र दिवस के परेड या सुरक्षा इंतजाम पर किसी तरह का कोई असर नहीं पड़ेगा। किसानों का ट्रैक्टर परेड ऐतिहासिक होगा।”

कॉन्ग्रेस ने योगी सरकार को घेरने के लिए शेयर किया महिला का वीडियो, यूपी पुलिस पर लगाए झूठे आरोप: जानें क्या है सच

जिस भ्रामक दावे के साथ कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तरप्रदेश सरकार को बदनाम करने के लिए चित्रित करने का प्रयास किया वह असल में उनकी सोच के बिल्कुल विपरीत निकला।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

गणतंत्र दिवस के पहले नोएडा, गाजियाबाद सहित इन 6 जगहों पर बम रखे जाने की अफवाह: यूपी पुलिस अलर्ट

गणतंत्र दिवस से पहले उत्तर प्रदेश में भय और आतंक का माहौल है। उत्तर प्रदेश के नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर और इलाहाबाद में इस सप्ताह 6 फर्जी बम रखे जाने की अफवाह के बाद पुलिस सतर्क हो गई है।

किसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड में भी हाथापाई पर उतरे कॉन्ग्रेसी

देहरादून में भी कृषि विरोधी प्रदर्शनकारियों ने राजभवन पहुँचने के लिए पुलिस बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। जब पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी पुलिस अधिकारियों के साथ हाथापाई पर उतर गए।

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe