Tuesday, May 17, 2022
HomeराजनीतिAIMIM विधायक अब्दुल्ला बलाला ने दिखाई दबंगई, लॉकडाउन के कारण बंद फ्लाईओवर जबरन खुलवाया

AIMIM विधायक अब्दुल्ला बलाला ने दिखाई दबंगई, लॉकडाउन के कारण बंद फ्लाईओवर जबरन खुलवाया

अब्दुल्ला बलाला को AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का भरोसेमंद माना जाता है। वे पहले भी कई बार लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन कर हॉटस्पॉट इलाकों को जबर्दस्ती खुलवा चुके हैं।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के विधायक अहमद बिन अब्दुल्ला बलाला ने एक बार फिर दबंगई दिखाई है। लॉकडाउन की वजह से बंद हैदराबाद के दबीरपुरा फ्लाईओवर को जबरन खुलवाने के आरोप उन पर लग रहे हैं।

भाजपा विधायक राजा सिंह ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि बलाला के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। बीजेपी विधायक ने यह भी आरोप लगाया कि AIMIM विधायक और उनकी पार्टी के अन्य लोग हैदराबाद के पुराने शहर में लॉकडाउन नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। वहीं, दबीरपुरा पुलिस के अनुसार बालाला ने बैरिकेड हटाने से पहले मीर चौक के एसीपी से अनुमति ली थी।

राजा सिंह ने कहा, “आज, पूरा देश कोरोना से लड़ रहा है। एक तरफ देश लड़ रहा है, जबकि दूसरी तरफ अहमद बलाला और AIMIM के अन्य नेता हैं, जो लॉकडाउन नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। वे किसी की नहीं सुनते हैं और पुलिस और डॉक्टर को धमकी दे रहे हैं।”

भाजपा विधायक ने कहा, “मैं AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी से पूछना चाहता हूँ कि क्या वो इन कृत्यों के पीछे हैं। एक तरफ वह (ओवैसी) बहुत अच्छी छवि दिखाते हैं, लेकिन दूसरी तरफ वह अपने विधायकों और नगरसेवकों को लॉकडाउन का उल्लंघन करने और कोरोना वायरस फैलाने की अनुमति देने का आदेश देते हैं।”

राजा सिंह ने कहा, “मैं उनसे कहना चाहता हूँ कि लोग आपके कामों का जवाब देंगे। मैं तेलंगाना के मुख्यमंत्री से कहना चाहता हूँ कि जो कोई भी विधायक या नगरसेवक उल्लंघन करता है, मुख्यमंत्री उस व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करें।”

बता दें कि अब्दुल्ला को एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का भरोसेमंद माना जाता है। अब्दुल्ला का वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। इसमें देखा जा सकता है कि AIMIM विधायक फ्लाईओवर पर तैनात पुलिस कांस्टेबल को बैरिकेड हटाने के लिए मजबूर करते हैं।

गौरतलब है कि बलाला इसके पहले भी कई हॉटस्पॉट इलाकों को जबर्दस्ती खुलवा चुके हैं। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों को मलाकपेट में बैरिकेड हटाने के लिए मजबूर किया था, जो कि रेड जोन में था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हनुमान मूर्ति से लेकर गणेश मंदिर और परिक्रमा पथ से लेकर पुस्ती तक: 26 साल पहले भी हुआ था एक ज्ञानवापी सर्वे, जानें क्या-क्या...

ज्ञानवापी में पहली बार सर्वे नहीं हुआ है। इससे पहले साल 1996 में भी एक दिन का सर्वे हुआ था जिसमें सामने आया था कि विवादित ढाँचे के भीतर मंदिरों के चिह्न हैं।

हनुमान जी की मूर्ति लगाने पर बवाल, उपद्रवियों ने किया पथराव: मध्य प्रदेश के नीमच में धारा 144 लागू

मध्य प्रदेश के नीमच में पुरानी कचहरी के पास हनुमान जी की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा करने को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,313FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe