Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीति'हटा बीमारू राज्य का टैग, आत्मनिर्भर बना मध्य प्रदेश': अमित शाह ने पेश किया...

‘हटा बीमारू राज्य का टैग, आत्मनिर्भर बना मध्य प्रदेश’: अमित शाह ने पेश किया शिवराज सरकार का रिपोर्ट कार्ड, कॉन्ग्रेस के 53 सालों का माँगा हिसाब

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का बीते 41 दिनों में मध्य प्रदेश का यह चौथा दौरा है। राजधानी भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने प्रदेश सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश किया।

मध्य प्रदेश में अगले 3 महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह राजधानी भोपाल पहुँचे। यहाँ उन्होंने शिवराज सरकार के 20 साल के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड का जारी किया। इस दौरान उन्होंने कहा है कि शिवराज सरकार ने एक बीमारू राज्य को देश के सबसे विकसित राज्यों में शामिल किया है। साथ ही कॉन्ग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा है कि उसे 53 साल का हिसाब देना चाहिए।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का बीते 41 दिनों में मध्य प्रदेश का यह चौथा दौरा है। राजधानी भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने प्रदेश सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश किया। साथ ही सीएम शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने मध्य प्रदेश से बीमारू राज्य का टैग हटाया है। प्रदेश को अगले 25 साल में संपूर्ण विकसित राज्य बनाने की नींव रख दी गई है। 20 साल में राज्य आत्मनिर्भर बन गया है। मध्य प्रदेश को देश का सबसे विकसित राज्य बनाना ही सरकार की लक्ष्य है।

यही नहीं, इस दौरान गृह मंत्री ने प्रदेश सरकार की कई महत्वांकाक्षी और जनहित योजनाओं का जिक्र किया। अमित शाह ने न मध्य प्रदेश के इस दौरे से न केवल विधानसभा बल्कि लोकसभा की भी तैयारियों की राह स्पष्ट कर दी। उन्होंने कहा है कि डबल इंजन सरकार में मोदी सरकार ने मध्य प्रदेश का दिल खोलकर सहयोग किया। 2024 के लोकभा चुनाव में यहाँ से BJP सभी 29 सीटें जीतेगी। 2024 का चुनाव संपूर्ण गरीबी से मुक्त बनाने का चुनाव होगा।

कॉन्ग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए गृह मंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश में सबसे अधिक 53 साल तक कॉन्ग्रेस ने राज किया। लेकिन उनकी सरकार में एमपी को बीमारू राज्य का टैग दिया गया था। ‘बीमारू’ शब्द जिन राज्यों के पहले अक्षर को मिलाकर बना था उनमें बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश थे। उस समय इन राज्यों को भारत की विकास दर कम करने वाला राज्य माना गया था। 2003 में बँटाधार की सरकार हटाई और उसके बाद से मध्य प्रदेश को बीमारू राज्य की इमेज से 20 सालों में ही बाहर निकाल दिया।

अमित शाह यहीं नहीं रुके। उन्होंने कॉन्ग्रेस को चुनौती देते हुए कहा है कि हिम्मत है तो अपने 50 साल का रिपोर्ट कार्ड लेकर आइए। कॉन्ग्रेस ने मध्य प्रदेश के साथ कितना न्याय किया इसका हिसाब देना चाहिए। 2004 से 2014 तक जब सोनिया-मनमोहन सरकार थी, तब मध्य प्रदेश को 10 साल में सिर्फ 1 लाख 58 हजार करोड़ रुपए मिले थे। लेकिन मोदी सरकार ने 9 साल में ही 8 लाख 30 हजार करोड़ रुपए मध्यप्रदेश को देने का काम किया है।

कॉन्ग्रेस सरकार में हुए घोटालों को लेकर भी अमित शाह ने कॉन्ग्रेस को घेरा। साथ ही सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को बंटाधार करार दिया और कहा कि बंटाधार और कमलनाथ इधर-उधर की बातें करते हैं। इन दोनों को कॉन्ग्रेस राज में हुई लूट का जवाब देना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा है कि श्रीमान बंटाधार और कमलनाथ इन चीजों का स्पेसिफिक जवाब दें कि 2002 में प्रदेश का बजट 23 हजार 100 करोड़ रुपए था। अब डबल इंजन सरकार इसे 3 लाख 14 हजार करोड़ रुपए पर ले आई है। यह पूरे देश में दूसरे नंबर पर है। दिग्विजय और कलमनाथ को इसका जवाब देना चाहिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -