Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीति'मेरे कार्यकाल में स्थापित हुए 8616 नए स्कूल, अब अपना बताइए': असम की शिक्षा...

‘मेरे कार्यकाल में स्थापित हुए 8616 नए स्कूल, अब अपना बताइए’: असम की शिक्षा व्यवस्था पर ‘ज्ञान’ दे रहे थे केजरीवाल, CM सरमा ने कर दी बोलती बंद

"दसवीं कक्षा का रिजल्ट जो 2011 में 99.09% था वह 2022 में  घटकर 81.27% हो गया है। पुडुचेरी की तुलना में दिल्ली के महान मॉडल स्कूल सभी पहलुओं में खराब हैं। केजरीवाल जी को सीखने के लिए असम का दौरा करना चाहिए।"

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने असम सरकार को शिक्षा में सुधार करने की सलाह दे डाली। केजरीवाल की इस सलाह पर असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) और राज्य सरकार में मंत्री पीजूष हजारिका (Pijush Hazarika) ने करारा जवाब दिया है।

दरअसल, राज्य में हाईस्कूल लिविंग सार्टिफिकेट (HSLC) और असम हाई मदरसा परीक्षाओं में खराब परिणाम आने के बाद मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने स्कूलों पर कार्यवाही की बात कही थी। इस ऐलान के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा था, “स्कूल बंद करना समाधान नहीं है। हमें तो अभी पूरे देश में ढेरों नए स्कूल खोलने की ज़रूरत है। स्कूल बंद करने की बजाए स्कूल को सुधार कर पढ़ाई ठीक कीजिए।”

चूँकि अरविंद केजरीवाल ने असम सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था, इसलिए अब असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने केजरीवाल को जवाब देते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने इस ट्वीट में बताया कि उनके कार्यकाल में अब तक 8610 नए स्कूलों की या तो स्थापना हुई है या फिर अधिग्रहण किया गया है। साथ ही उन्होंने केजरीवाल से पूछा पिछले 7 सालों में आपने कितने स्कूल शुरू किए हैं?

मुख्यमंत्री हिमंता ने अपने अगले ट्वीट में कहा, “प्रिय अरविंद केजरीवाल जी, हमेशा की तरह आपने बिना किसी होमवर्क के टिप्पणी की है। कृपया ध्यान दीजिए, शिक्षा मंत्री के रूप में मेरे कार्यकाल से अब तक, असम सरकार ने 8610 नए स्कूलों की स्थापना या अधिग्रहण किया है। दिल्ली सरकार ने पिछले 7 वर्षों में कितने नए स्कूल शुरू किए हैं?”

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा यहीं नहीं रुके, उन्होंने राज्य में शुरू हुए स्कूलों के आँकड़ों के साथ एक और ट्वीट किया। उन्होंने बताया, “प्रांतीयकरण या 2013 से प्राइवेट स्कूलों को सरकार के हाथ में लेना: प्राथमिक 6802; माध्यमिक 1589, कस्तूरबागाँधी बालिका विद्यालय: 81, नेताजी सुभाष चंद्र बोस आवासीय विद्यालय: 3, आदर्श विद्यालय: 38, टी गार्डन मॉडल स्कूल:97, दिल्ली के आँकड़े जानने के लिए उत्सुक!”

इससे पहले असम सरकार में मंत्री पिजूष हजारिका ने भी ट्वीट कर केजरीवाल को जवाब दिया था। पिजूष हजारिका ने दिल्ली के स्कूल मॉडल को फर्जी करार देते हुए ट्वीट किया, “सबसे पहले तो असम में स्कूलों को बंद नहीं किया जा रहा है, बल्कि समग्र शैक्षणिक वातावरण में सुधार के लिए शिक्षा को एकीकृत किया जा रहा है। दूसरी बात, आदरणीय सीएम अरविंद केजरीवाल जी को शिक्षा के उत्थान पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि समय-समय पर उनके फर्जी ‘दिल्ली मॉडल स्कूल’ का भंडाफोड़ होता रहा है।”

पिजूष हजारिका ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ पूरी तरह मोर्चा खोलते हुए एक और ट्वीट किया इसमें उन्होंने आँकड़ों के साथ-साथ केजरीवाल को सीखने के लिए असम का दौरा करने के लिए भी कहा।

पिजूष ने ट्वीट किया, “आम आदमी पार्टी के शिक्षा मॉडल ने दिल्ली की शिक्षा प्रणाली को ध्वस्त कर दिया है। दसवीं कक्षा का रिजल्ट जो 2011 में 99.09% था वह 2022 में  घटकर 81.27% हो गया है। पुडुचेरी की तुलना में दिल्ली के महान मॉडल स्कूल सभी पहलुओं में खराब हैं। केजरीवाल जी को सीखने के लिए असम का दौरा करना चाहिए।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2018, 2019, 2023, 2024… साल दर साल ‘ये मोदी सरकार का अंतिम बजट’ कह-कह कर थके संजय झा: जिस कॉन्ग्रेस ने अनुशासनहीन कह कर...

संजय झा ने 2023 के वार्षिक बजट को उबाऊ बताया था और कहा था कि ये 'विनाशकारी' भाजपा को बाय-बाय कहने का समय है, इसे इनका अंतिम बजट रहने दीजिए।

मानहानि मामले में यूट्यूबर ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली कोर्ट ने जारी किया समन, BJP नेता की शिकायत के बाद सुनवाई: अदालत ने कहा-...

ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली की एक कोर्ट ने मानहानि मामले में समन जारी किया है। ये समन भाजपा नेता सुरेश करमशी नखुआ द्वारा द्वारा शिकायत के बाद जारी हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -