Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल में अब रथ यात्रा पर हमला, गीता जयंती महोत्सव को बनाया निशाना: BJP...

बंगाल में अब रथ यात्रा पर हमला, गीता जयंती महोत्सव को बनाया निशाना: BJP का दावा – TMC के गुंडों की करतूत, तलवार-डंडे-छड़ों से भक्तों को पीटा

"दक्षिण 24 परगना जिले के बुरईपुर में स्थित बेटबेरिया के राधा मोहन मंदिर में बीते 20 सालों से गीता जयंती महोत्सव मनाया जा रहा है। 10 दिवसीय महोत्सव का समापन कल रथ यात्रा के साथ होना था। रथ परिक्रमा के दौरान गुंडों ने सनातनी भक्तों पर हमला कर दिया।"

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में हिंदुओं की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। वहाँ, हिंदुओं पर हो रहे हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने ‘तृणमूल कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं’ पर रथ यात्रा में हमला करने का आरोप लगाया है। अधिकारी ने हमले में घायल हुए लोगों की फोटो भी शेयर की है। साथ ही, पुलिस पर एफआईआर न दर्ज करने का भी आरोप लगाया है।

कहा जा रहा है कि पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के बेटबेरिया में हर वर्ष की भाँति गीता जयंती महोत्सव मनाया जा रहा था। इस दौरान, रविवार (11 दिसंबर, 2022) को कुछ लोगों ने रथ परिक्रमा में शामिल हिंदुओं पर हमला कर दिया। इस हमले में कई हिंदू भक्त घायल हुए हैं।

सोमवार (12 दिसंबर, 2022) को पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर कहा है, “दक्षिण 24 परगना जिले के बुरईपुर में स्थित बेटबेरिया के राधा मोहन मंदिर में बीते 20 सालों से गीता जयंती महोत्सव मनाया जा रहा है। 10 दिवसीय महोत्सव का समापन कल रथ यात्रा के साथ होना था। रथ परिक्रमा के दौरान गुंडों ने सनातनी भक्तों पर हमला कर दिया।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में आरोप लगाते हुए कहा है, “गुंडों ने पहले सड़क को जाम करते हुए रथ को बाधित कर दिया। जबरदस्ती हाथापाई की और फिर लोहे की छड़ों, तलवारों और डंडों से श्रद्धालुओं पर हमला कर दिया। योजनाबद्ध तरीके से किए गए इस हमले के बारे में भक्तों को कोई जानकारी नहीं थी। हमले में कई सनातनियों को गंभीर चोटें आईं हैं। अंदाजा लगाइये, प्रशासन ने क्या किया होगा?”

अधिकारी ने अगले ट्वीट में कहा है, “पुलिस ने शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया। TMC विधायक ने ‘गुंडों’ से मुलाकात की, लेकिन भक्तों से मिलने की जहमत नहीं उठाई। ममता बनर्जी की पुलिस ने विरोध करने के लिए एकजुट हुए भक्तों को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज भी किया। क्या पश्चिम बंगाल की कानून और व्यवस्था इतनी खराब है कि भक्त रथयात्रा भी नहीं निकाल सकते?”

बता दें, इससे पहले पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने आरोप लगाते हुए कहा था कि तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के समर्थकों ने उनके काफिले पर हमला किया था। उन्होंने कहा था कि हमला करने वालों के हाथों में TMC का झंडा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -