Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'शहीद-ए-आज़म' भगत सिंह के परपोते ने पंजाब चुनाव में BJP को दिया समर्थन, कहा...

‘शहीद-ए-आज़म’ भगत सिंह के परपोते ने पंजाब चुनाव में BJP को दिया समर्थन, कहा – ‘भय से निपटने के लिए इंकलाब लाना है’

यादवेन्द्र सिंह भगत सिंह के बड़े भाई के पोते हैं। उनके पिता का नाम बब्बर सिंह संधू है। वह शहीद भगत सिंह ब्रिगेड नामक एक ऐसे संगठन के अध्यक्ष हैं जो देशभर में भगत सिंह के विचारों का प्रचार-प्रसार करता है।

पंजाब विधानसभा चुनावों के मद्देनजर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को शहीद भगत सिंह के परपोते यादवेन्द्र सिंह संधू का समर्थन मिला। वोटिंग से पहले उन्होंने फिरोजपुर निर्वाचन क्षेत्र से BJP प्रत्याशी राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी के पक्ष में लोगों से वोट करने को कहा। उन्होंने यह अपील वीडियो संदेश जारी करते हुए की।

वीडियो में संधू ने कहा, “मैं यादवेन्द्र। शहीद भगत सिंह का पोता। आप सबसे अपील करने आया हूँ। मेरा मानना है कि पूरा फिरोजपुर भगत सिंह का वारिस है। हमारा परिवार है और फिरोजपुर के अंदर भगत सिंह परिवार की आत्मा बसती है। फिरोजपुर की दर्दनीय हालात देखकर अब चुनावी क्रांति जो चल रही थी, उसमें जब मुझे पता चला गया कि राणा सोढी का नाम BJP द्वारा पारित किया गया है तो मैं अपने आपको रोक नहीं पाया, क्योंकि फिरोजपुर की दुर्दशा के बारे में, यहाँ पर किए जा रहे अत्याचारों के बारे में बताया जाता था। उसी के निदान के लिए मैं राणा सोढी के समर्थन में आया हूँ और चार दिन से यहाँ घूम रहा हूँ। लोगों के अंदर राणा सोढी के रूप में एक उम्मीद जगी है।”

यादवेन्द्र ने बताया, “जैसा कि मैंने बताया कि मेरा रिश्ता मेरे दादा जी कुलबीर सिंह, जो भगत सिंह के भाई हुए,वो खुद फिरोजपुर से विधायक रह चुके हैं। यहाँ तुड़ी वाली मंडी में हमारा घर रहा है। हमारे पिता जी स्वर्गीय बब्बर सिंह जी के काफी सहपाठी भी मिले। जो ये डर का और भय का माहौल है, उसका निदान करने के लिए और इंकलाब लाने के लिए राणा सोढ़ी जी को आप सब से भगत सिंह के परिवार के होने के नाते, और आपका अपना होने के नाते अपील करता हूँ कि 20 तारीख को ज्यादा तादाद में मतदान करें।” 

कौन है यादवेन्द्र सिंह?

गौरतलब है कि यादवेन्द्र सिंह भगत सिंह के बड़े भाई के पोते हैं। उनके पिता का नाम बब्बर सिंह संधू है। वह शहीद भगत सिंह ब्रिगेड नामक एक ऐसे संगठन के अध्यक्ष हैं जो देशभर में भगत सिंह के विचारों का प्रचार-प्रसार करता है। इस  संगठन के माध्यम से शहीद भगत सिंह के पोते शहीदों के परिजनों के अधिकारों की लड़ाई भी लड़ते हैं। उन्होंने कुछ समय पहले खुलासा किया था कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस के परिवार की ही तरह कॉन्ग्रेस की सरकार में खुफिया एजेंसियाँ शहीद भगत सिंह के परिवार की भी जासूसी करती थी। 

पंजाब चुनाव

बता दें कि पंजाब में आज 20 फरवरी 2022 को 117 विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतदान हो रहे हैं। राज्य में 2.14 करोड़ मतदाता कुल 1304 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला कर रहे हैं। इस बीच खबर आई है कि चुनाव आयोग ने एक्टर सोनू सूद को मोगा में मतदान केंद्रों पर जाने से रोक दिया है। उनकी गाड़ी भी जब्त कर ली गई है। सोनू का आरोप है कि मतदान केंद्रों पर वोटरों को पैसे बाँटे जा रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -