TV एक्ट्रेस को क्यों बनाया HRD मंत्री: एक्टर से स्वास्थ्य मंत्री बने शत्रुघ्न सिन्हा का बेकार सवाल

शत्रुघ्न सिन्हा शायद कुछ साल पहले दिया गया अपना ही एक बयान भूल गए हैं, जिसमें उन्होंने कहा था, "मुझमें कम्पाउंडर बनने की काबिलियत भी नहीं थी, लेकिन मैंने स्वास्थ्य मंत्री के तौर पर काम किया।

फ़िल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा, जो कि बिहार की पटना साहिब सीट से भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री भी हैं, ने मोदी सरकार से नाराज़गियों के चलते एक निजी समाचार चैनल के कार्यक्रम में केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी को निशाना बनाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक टेलिविज़न एक्ट्रेस को मानव संसाधन विकास मंत्रालय देकर गलत किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पिछले कुछ समय से शत्रुघ्न सिन्हा लगातार हमला करते आए हैं, विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले शत्रुघ्न सिन्हा अटल बिहारी वाजपेई सरकार के समय स्वास्थ्य मंत्री भी रह चुके हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा, “मंत्री बनाना प्रधानमंत्री का विशेषाधिकार है, लेकिन किसी टेलीविज़न एक्ट्रेस को सीधे मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ज़िम्मेदारी दे देना कहाँ तक उचित है?”

शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा को अपनी पार्टी बताते हुए कहा कि उन्होंने कभी पार्टी के ख़िलाफ़ नहीं बोला और अब भी पार्टी के ख़िलाफ़ नहीं बोल रहे हैं, बल्कि पार्टी को आईना दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा, “मैं सच बोलता रहा हूँ और बोलता रहूँगा।” अगला लोकसभा चुनाव उत्तर प्रदेश के वाराणसी क्षेत्र से लड़ने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा, “सिचुएशन चाहे जो भी हो, लोकेशन यही होगा।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

फ़िल्म अभिनेता सिन्हा ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की तारीफ़ करते हुए कहा कि उनमें बहुत कम समय में जो परिपक्वता आई है, उससे अन्य पार्टी के अध्यक्षों को भी सीख लेनी चाहिए। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “मैं शुरू से ही गाँधी परिवार का फ़ैन रहा हूँ। मैं नेहरू से लेकर सोनिया गाँधी तक का प्रशंसक रहा हूँ और अब राहुल गाँधी का भी प्रशंसक हूँ।”

मंत्रालय ना मिलने का दुःख प्रकट करते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्होंने 2014 के चुनावों में सर्वाधिक वोट शेयर हासिल किया था, फिर भी उन्हें मंत्रालय नहीं दिया गया।

क्या महिलाओं को अपमानित करने वाले गुटों का प्रभाव दिखने लगा है शत्रुघ्न सिन्हा पर?

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को टेलिविज़न एक्ट्रेस कहकर उनकी योग्यता पर सवाल उठाने वाले शत्रुघ्न सिन्हा शायद मोदी सरकार में कोई मंत्रालय ना मिलने से इतने बौख़ला गए हैं कि हर दिन वो अपनी मर्यादा भूलते जा रहे हैं। शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने इसी बयान में यह भी ज़िक्र किया है कि वो नेहरू से लेकर सोनिया गाँधी तक के प्रशंसक रहे हैं और अब राहुल गाँधी के भी प्रशंसक हैं।

ये सिर्फ इत्तेफ़ाक ही हो सकता है कि कुछ दिन पहले ही राहुल गाँधी को राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा केन्द्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन के ख़िलाफ़ आपमानजनक बयान देने के लिए नोटिस भेजा गया है। मोदी विरोध में अक्सर देखा जा रहा है कि विपक्ष में मानो प्रतिदिन मोदी सरकार में मौज़ूद महिलाओं के ख़िलाफ़ अपमानजनक बयान देने की होड़ लग चुकी है। शायद शत्रुघ्न सिन्हा भी अपने प्रेरणाश्रोतों  के ही क़दमों पर आगे बढ़ रहे हैं।

2017 में दिया था बयान, ‘मुझमें कम्पाऊंडर बनने की काबिलियत भी नहीं थी, लेकिन मैंने स्वास्थ्य मंत्री के तौर पर काम किया’

मोदी सरकार में मंत्रालय ना मिलने से दुखी शत्रुघ्न सिन्हा शायद कुछ साल पहले दिया गया अपना ही एक बयान भूल गए हैं, जिसमें उन्होंने कहा था, “मुझमें कम्पाउंडर बनने की काबिलियत भी नहीं थी, लेकिन मैंने स्वास्थ्य मंत्री के तौर पर काम किया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: