Sunday, July 3, 2022
Homeराजनीतिजेल में ही रहेंगे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन, CBI कोर्ट ने खारिज की...

जेल में ही रहेंगे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन, CBI कोर्ट ने खारिज की याचिका: ED से कहा था – कोरोना के कारण चली गई है याददाश्त

"गवाह उपलब्ध हैं। मैं ट्रिपल टेस्ट से संतुष्ट हूँ और गवाहों को प्रभावित करने का कोई आरोप भी नहीं है। जब मैं बाहर था ऐसा करने का मौका भी मिला था, लेकिन मुझ पर ऐसा कोई आरोप नहीं लगा।"

कोलकाता की एक कंपनी से जुड़े मंनी लॉन्ड्रिंग के केस में प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा गिरफ्तार किए गए आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन (Satyendra Jain) को जेल ही नसीब हुई है। कोर्ट ने शनिवार (18 जून 2022) को उनकी जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। ये फैसला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने सुनाया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, जैन ने 9 जून 2022 को एक जमानत याचिका दाखिल की थी, जिस पर मंगलवार (14 जून, 2022) को सुनवाई करने के बाद स्पेशल जस्टिस गीतांजलि गोयल ने अपने फैसले को सुरक्षित रख लिया था। आज उन्होंने इस पर अपना फैसला सुनाया। कोर्ट में सुनवाई के दौरान उनकी पैरवी को वकील एन हरिहरन और भावुक चौहान ने की।

जैन ने हरिहरन के हवाले से सबूतों को नष्ट करने या उनसे छेड़छाड़ के आरोपों पर तर्क दिया, उनके वकील ने कहा कि सबूतों के साथ छेड़छाड़ की कोई संभावना नहीं है, क्योंकि सबूतों को पहले ही इकट्ठा किया जा चुका है। उन्होंने कहा, “गवाह उपलब्ध हैं। मैं ट्रिपल टेस्ट से संतुष्ट हूँ और गवाहों को प्रभावित करने का कोई आरोप भी नहीं है। जब मैं बाहर था ऐसा करने का मौका भी मिला था, लेकिन मुझ पर ऐसा कोई आरोप नहीं लगा। ये जानबूझकर जमानत को खारिज कराने के लिए किया जा रहा है।”

उल्लेखनीय है कि प्रवर्तन निदेशालय की तरफ से विशेष अभियोजक एनके मट्टा और एडिशनल सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू पेश हुए। उन्होंने कोर्ट में बताया कि ये मामला करेंसी को लीगलाइज और मनी लॉन्ड्रिंग का है।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि सत्येंद्र जैन को हवाला लेनदेन के मामले में 30 मई 2022 को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया था। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कोलकाता की एक कंपनी से जुड़े हवाला लेनदेन के मामले में जाँच में पाया गया था कि 2015-16 के दौरान सत्येंद्र जैन एक लोकसेवक थे, तो उनके द्वारा लाभकारी स्वामित्व वाली और नियंत्रित कंपनियों को हवाला के जरिए कोलकाता बेस्ड एंट्री ऑपरेटरों को नकद ट्रांसफर के बदले शेल कंपनियों से 4.81 करोड़ रुपए प्राप्त हुए थे। सत्येंद्र जैन फिलहाल ईडी की 14 दिनों की रिमांड पर हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

8 लोग थे निशाने पर, एक डॉक्टर को वीडियो बना माँगनी पड़ी थी माफ़ी: उमेश कोल्हे के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच...

उमेश कोल्हे के गले पर जख्म 5 इंच चौड़ा, 5 इंच लंबा और 5 इंच गहरा था। साँस वाली नली, भोजन निगलने वाली नली और आँखों की नसों पर भी वार किए गए थे।

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe