Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीति'संघ परिवार की झूठ फैक्ट्री का एक और उत्पाद': 'The Kerala Story' से खुली...

‘संघ परिवार की झूठ फैक्ट्री का एक और उत्पाद’: ‘The Kerala Story’ से खुली इस्लामी एजेंडे की पोल तो भड़के CM पिनाराई विजयन, कहा – ये सेक्युलरिज्म की धरती

"केरल में राजनीतिक फायदे के लिए संघ परिवार मुस्लिमों को अलग-थलग दिखा रही है। जाँच एजेंसियाँ 'लव जिहाद' वाले आरोप पहले ही नकार चुकी है।"

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने ‘The Kerala Story’ फिल्म को भला-बुरा कहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस फिल्म को जानबूझ कर बनाया गया है, ताकि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की जा सके। उन्होंने कहा कि केरल राज्य के खिलाफ घृणा भरे प्रोपेगंडा फैलाने के लिए ये सब किया गया है। उन्होंने दावा किया कि ये संघ परिवार की झूठ की फैक्ट्री का एक उत्पाद है। CPM नेता ने कहा कि ट्रेलर ने ही साफ़ है कि ये संघ परिवार का प्रोपेगंडा है।

बता दें कि केरल में वामपंथी गठबंधन की सरकार है। वामपंथी दल पहले से ही ‘The Kerala Story’ की रिलीज रोकने में लगे हुए थे। अब वहाँ के सीएम ने केरल को सेक्युलरिज़्म की धरती बताते हुए कहा संघ परिवार ने खुद को धार्मिक कट्टरता के केंद्र में स्थापित कर लिया है। सीएम विजयन ने कहा कि फेक कहानियों और फिल्मों के जरिए विभाजन की राजनीति हो रही है। साथ ही आरोप लगाया कि बिना किसी सबूत और तथ्य के काल्पनिक कहानियाँ फैलाई जा रही हैं।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा, “फिल्म के ट्रेलर में दिखाया गया है कि 32,000 महिलाओं को इस्लाम अपनाने के लिए मजबूर किया गया, इसके बाद इन्हें आतंकी संगठन ISIS में शामिल होने के लिए भेज दिया गया। केरल में राजनीतिक फायदे के लिए संघ परिवार मुस्लिमों को अलग-थलग दिखा रही है। जाँच एजेंसियाँ ‘लव जिहाद’ वाले आरोप पहले ही नकार चुकी है। अदालत ने भी इसे नकार दिया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से भी संसद में इसे नकारा गया है।”

सीएम पिनाराई विजयन का कहना है कि एक सोचे-समझे तरीके से ‘लव जिहाद’ वाले आरोप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने दुनिया के सामने केरल का अपमान किए जाने का भी आरोप मढ़ा। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिकता का ज़हर फैला कर केरल के धार्मिक सौहार्द के वातावरण को बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि क्रिएटिव फ्रीडम के नाम पर विभाजन और झूठ फैलाने की अनुमति नहीं है। बकौल केरल सीएम, समाज में सांप्रदायिक घृणा फैलाने का लाइसेंस क्रिएटिव फ्रीडम से नहीं मिल जाता।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -