Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिहिन्दू महिलाएँ दूर से आकर नाले में भरती हैं केजरीवाल का 'फ्री पानी', मुस्लिमों...

हिन्दू महिलाएँ दूर से आकर नाले में भरती हैं केजरीवाल का ‘फ्री पानी’, मुस्लिमों के लिए टंकी: ग्राउंड रिपोर्ट

आम आदमी पार्टी के विधायक हाजी यूनुस ने मुस्लिम इलाक़ों में पानी की उपलब्धता की बेहतर व्यवस्था की है। 20 हज़ार के क़रीब हिन्दू नाले के पास जाकर पानी भरने को विवश हैं। इस दौरान महिलाओं के नाले में गिरने का ख़तरा लगा रहता है। लोग दूर-दूर से वहाँ पानी भरने आते हैं।

नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों के दौरान ऑपइंडिया की टीम जब ग्राउंड जीरो पर कवरेज के लिए पहुँची, तब वहाँ हमें हिन्दुओं की दुर्दशा के बारे में ज्ञात हुआ। शिव विहार चौक से थोड़ी ही दूर एक नाले पास हमें वो सच्चाई दिखी, जो दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार के दावों को खोखला साबित करती है। शिव विहार, गोविन्द विहार और महालक्ष्मी इन्क्लेव सहित आसपास के इलाक़ों के क़रीब 20 हज़ार हिन्दू पिछले 8 सालों से (कुछ के मुताबिक 20 वर्षों से) एक ऐसी परेशानी का सामना कर रहे हैं, जिसे शब्दों में बयाँ करना मुश्किल है लेकिन हम यहाँ आप तक एक-एक डिटेल पहुँचाएँगे।

एक बड़ा सा नाला। नाले के बीच से गोविन्द विहार की एक गली की तरफ जाती हुई सड़क। उस सड़क के दोनों तरफ उस बड़े से नाले का मुँह खुलता है। शाम के 6 बजते ही वहाँ एक जमावड़ा लगता है। महिलाओं का, बच्चों का और कुछ युवकों का। कुछ पास से आए होते हैं तो कुछ दूर से। सब अपने हाथों में बाल्टी, कंटेनर या डब्बे लेकर आए होते हैं, जिनमें वो पानी भरते हैं। उस नाले में खुलता है दो पाइपों का मुँह, जिनसे पानी सीधा नाले में ही गिरता है। वहाँ महिलाओं को बैलेंस बना कर पानी भरना पड़ता है।

देखिए इन हिन्दुओं का दर्द: प्रतिदिन गंदे नाले में झुक कर भरते हैं पानी

थोड़ा सा इधर-उधर हुआ तो वो महिलाएँ गिर सकती हैं, नाले में। जब लोग वहाँ पानी भर रहे होते हैं, तो उनका आधा कंटेनर या बर्तन उस नाले में डूबा होता है, जिसमें मल-मूत्र सहित न जाने क्या-क्या गंदगियाँ रहती होंगी। ये दृश्य उन हिन्दुओं पर तरस खाने को मजबूर कर देता है। अगर आप दिल्ली से दूर देश के किसी अन्य हिस्से में रहते हैं और आपके इलाक़े में पानी की कमी नहीं है तो ये दृश्य आपको दो सीख देता है। पहला ये है कि पानी का महत्व समझें। दूसरा ये कि अगर ‘फ्री पानी’ बोल कर कोई नेता चुनाव जीत जाता हो तो इसका मतलब ये नहीं है कि उसने पानी की व्यवस्था सुधार दी है। वो झूठ बोल कर लोगों को ठग रहा भी हो सकता है।

आप सोच रहे होंगे कि हम यहाँ बार-बार हिन्दुओं की बातें क्यों कर रहे हैं? हम यहाँ ‘आम जनता’ क्यों नहीं लिख रहे? यही तो पेंच है। करावल नगर का वो इलाक़ा मुस्तफाबाद में आता है। वहाँ के नव-निर्वाचित विधायक हैं आम आदमी पार्टी के हाजी यूनुस। दिल्ली की सत्ताधारी दल के उस नेता के बारे में लोग कहते हैं कि हालिया हुए दंगों में उनका भी हाथ है और वो ताहिर हुसैन का नजदीकी है। हाजी यूनुस से लोग नाराज़ नज़र आए और कहा कि उसे मुस्लिम ध्रुवीकरण कर के जीत हासिल की है और अब वो हिन्दू मतदाताओं से ‘बदला’ ले रहा है, क्योंकि उसका सोचना है कि उसे हिन्दुओं ने वोट नहीं दिया।

हमने देखा कि उस गंदे नाले के पास एक भी मुस्लिम व्यक्ति पानी भरने नहीं आया था। हमें वहाँ उपस्थित लोगों से ये सवाल पूछा? उन्होंने बताया कि मुस्लिम बस्तियों में पानी की व्यवस्था अच्छे तरीके से की गई है और उन्हें टैंकर भी उपलब्ध कराए जाते हैं। उनके इलाक़ों में टंकी लगी हुई है। कर्फ्यू लगे होने और माहौल तनावपूर्ण होने के कारण हम मुस्लिम बहुल मोहल्लों में इसकी पुष्टि करने तो नहीं गए, लेकिन आसपास के अन्य लोगों ने भी बताया कि उनके लिए पानी की व्यवस्था दुरुस्त रूप से की गई है।

हमें क्या क्या पता चला: आम आदमी पार्टी के विधायक हाजी यूनुस ने मुस्लिम इलाक़ों में पानी की उपलब्धता की बेहतर व्यवस्था की है। 20 हज़ार के क़रीब हिन्दू नाले के पास जाकर पानी भरने को विवश हैं। इस दौरान महिलाओं के नाले में गिरने का ख़तरा लगा रहता है। लोग दूर-दूर से वहाँ पानी भरने आते हैं।

इसके अलावा अन्य बातें भी हैं, जो चौंकाने वाली हैं। उस नाले में लगी पाइपों में भी पानी बस दिन भर में एक घंटे के लिए आता है। अगर उस एक घंटे में आपने पानी नहीं भरी तो आपको पूरे 1 दिन बिना पानी के रहना होगा। यानी, एक परिवार को 1 दिन बगैर पानी के रहना होगा या फिर कहीं और से पानी का इंतजाम करना होगा, अगर उन्होंने उस 1 घंटे में पानी नहीं भरा तो। ऐसे फ्री पानी का क्या फायदा? ऐसा नहीं है कि वहाँ के हिन्दुओं की पिछले 8 सालों से लगातार यही स्थिति है। जब भाजपा के जगदीश प्रधान यहाँ से विधायक थे तो ऐसा हाल नहीं था।

महिलाएँ बताती हैं कि जगदीश प्रधान जब यहाँ से विधायक बने, तब वो बिना जाति-धर्म का भेदभाव किए हुए अपने दफ्तर के बाहर टैंकर लगवा दिया करते थे। वहाँ से हिन्दू और मुस्लिम, दोनों धर्मों के लोग पानी भर लिया करते थे। जगदीश प्रधान अब विधायक नहीं हैं। लेकिन, इलाक़े के लोग उन्हें याद करते हुए कहते हैं कि उनके हारते ही अब हिन्दुओं को फिर नाले में झुक कर पानी भरना पड़ रहा है। जब ऑपइंडिया की टीम वहाँ पहुँची, तो उन्हें उम्मीद जगी कि मीडिया अब उनकी आवाज़ उठाएगी। सब यही पूछा रहे ये ख़बर कब आएगी?

इसी उम्मीद को लेकर हम ये ख़बर आप तक पहुँचा रहे हैं। सत्ताधारी दल के विधायक पर तो पक्षपात का आरोप है ही, भाजपा और कॉन्ग्रेस के नेताओं को भी वहाँ जाकर लोगों से बात करनी चाहिए और उस नाले के पास पानी भरने से हिन्दुओं को मुक्ति दिला कर उनके लिए चुस्त-दुरुस्त व्यवस्था करनी चाहिए। हमने 2 विडियो के साथ-साथ तस्वीरों को भी संलग्न किया है, जिसमें वो महिलाएँ और आम जन अपना दुख-दर्द सुना रहे हैं। आप भी सुनिए, आवाज़ उठाइए।

दिल्ली दंगा ग्राउंड रिपोर्ट: छतों से एसिड बरसा रही थीं मुस्लिम औरतें, गुलेल से दाग रहे थे पेट्रोल बम

बहू-बेटियों की इज्जत बचाने के लिए हिन्दू खा रहे थे गोली और पत्थर: शिव विहार ग्राउंड रिपोर्ट

हिन्दू घृणा से लेकर मुस्लिम भीड़ का आतंक, दिल्ली दंगों की जो बातें आपसे छिपाई गई

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsशिव विहार हिन्दू, केजरीवाल फ्री बिजली पानी, आप फ्री बिजली पानी, दिल्ली फ्री बिजली पानी, विधायक हाजी युनूस, आप विधायक हाजी युनूस, दिल्ली बृजपुरी, दिल्ली ब्रजपुरी, बृजपुरी राहुल ठाकुर, बृजपुरी मस्जिद, दिल्ली दंगा क्रोनोलॉजी, अंग्रेज मुसलमान, ब्रिटिश मुसलमान, कांग्रेस मुसलमान, एएमयू, लॉर्ड कर्जन, बंगाल विभाजन, बंगाल में दंगे, भारत में दंगे, हिंदू मुस्लिम दंगे, बंग भंग, अलग मुस्लिम देश की मांग, अब्दुल्ला शुहरावर्दी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, हिस्ट्री ऑफ फ्रीडम मूवमेंट इन इंडिया, सर सैयद अहमद, पाकिस्तान की मांग, दिल्ली दंगा, दिल्ली दंगा लिबरल गैंग, दिल्ली दंगा लिबरल मीडिया, दिल्ली दंगा हिंदूफोबिया, दिल्ली दंगा प्राइम टाइम, रवीश कुमार प्राइम टाइम, दिल्ली दंगा एनडीटीवी, दिल्ली दंगा सेकुलर मीडिया, दिल्ली दंगा की खबरें, दिल्ली दंगों में कौन शामिल, दंगा और मुसलमान, दिल्ली में मुसलमानों का दंगा, पीएम मोदी, नरेंद्र मोदी, दिल्ली दंगा मोदी, दिल्ली हिंसा मोदी, उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मोदी, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा, शाहीन बाग, शाहीनबाग प्रदर्शन, शाहीन बाग वायरल वीडियो, CAA NRC शाहीन बाग, CAA NRC असम, शाहीन बाग मास्टरमाइंड, cab and nrc hindi, CAA मुसलमान, नागरिकता कानून मुसलमान, नागरिकता कानून हिंसा, भारत विरोधी नारे, मुस्लिम हरामी क्यो होते है, nrc ke bare mein muslim mulkon ki rai, मुसलमान डरे हुए हैं या डरा रहे हैं, हिंसा में शामिल pfi और सीमी मुसलमान, हिन्दुत्व के विरोध का भूत, हमें चाहिए आजादी ये कैसा नारा है, हिंदुओं से चाहिए आजादी, rambhakt gopal, ram bhakt gopal, jamia violence, जामिया हिंसा, राम भक्त गोपाल
अनुपम कुमार सिंह
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
भारत की सनातन परंपरा के पुनर्जागरण के अभियान में 'गिलहरी योगदान' दे रहा एक छोटा सा सिपाही, जिसे भारतीय इतिहास, संस्कृति, राजनीति और सिनेमा की समझ है। पढ़ाई कम्प्यूटर साइंस से हुई, लेकिन यात्रा मीडिया की चल रही है। अपने लेखों के जरिए समसामयिक विषयों के विश्लेषण के साथ-साथ वो चीजें आपके समक्ष लाने का प्रयास करता हूँ, जिन पर मुख्यधारा की मीडिया का एक बड़ा वर्ग पर्दा डालने की कोशिश में लगा रहता है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेट्रोल-डीजल के बाद पानी-बस किराए की बारी, कर्नाटक में जनता पर बोझ खटाखट: कॉन्ग्रेस की ‘रेवड़ी’ से खजाना खाली, अब कमाई के लिए विदेशी...

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार की रेवड़ी योजनाएँ राज्य को महँगी पड़ रही हैं। पेट्रोल-डीजल के बाद अब पानी के दाम और बसों के किराए बढ़ाने की योजना है।

पूरी हुई 832 साल की प्रतीक्षा, राष्ट्र को PM मोदी ने समर्पित की नालंदा की विरासत: कहा- आग की लपटें ज्ञान को नहीं मिटा...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्धघाटन किया। नया परिसर नालंदा विश्वविद्यालय के प्राचीन खंडहरों के पास है

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -