Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीति'2002 के बाद कोई मुस्लिम नहीं कर सकता आप पर विश्वास' - दिग्विजय सिंह...

‘2002 के बाद कोई मुस्लिम नहीं कर सकता आप पर विश्वास’ – दिग्विजय सिंह ने फिर दिया भड़काऊ बयान

नागरिकता संशोधन कानून के ख़िलाफ़ जामिया में हुई हिंसा के बाद कई लोगों ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी। लेकिन कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर भड़काऊ बयान देकर आग में घी डालने का काम किया।

नागरिकता संशोधन कानून के ख़िलाफ़ जामिया में हुई हिंसा के बाद कई लोगों ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी। लेकिन,कॉन्ग्रेस इसको आधार बनाकर सिर्फ़ भाजपा पर हमलावर रही और पार्टी के अलग-अलग नेताओं ने अपनी बयानबाजियों के जरिए लोगों में डर बसाने की कोशिश की। इसी बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर भड़काऊ बयान देकर आग में घी डालने का काम किया।

टाइम्स नाऊ की खबर के अनुसार उन्होंने जामिया हिंसा पर प्रतिक्रिया देते हुए मोदी सरकार पर सवाल उठाया और कहा कि कोई मुस्लिम नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर 2002 के गुजरात दंगों के बाद यकीन नहीं कर सकता। उनके अनुसार 2002 के बाद से ही मुस्लिमों ने मोदी और शाह पर अपना विश्वास खो दिया।

गौरतलब है कि गाँधी परिवार के करीबी और कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का ये बयान उस समय आया है जब मोदी सरकार लगातार लोगों से शांति कायम रखने की बातें कर रही है। दूसरी ओर कॉन्ग्रेस जिस ढंग की राजनीति इस मुद्दे पर कर रही है, उस पर खुद लोग ही आरोप लगा रहे हैं कि वो लोगों में डर फैलाने का काम कर रही है।

बता दें कि इससे पहले दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ कई बार विवादित बयान दिए हैं। लेकिन इस बार मामला भड़के माहौल को शांत कराने का था। लेकिन यहाँ भी दिग्विजय सिंह ने अपनी राजनीति की रोटियाँ सेंकनी चाही और देश में शांति की अपील करने के बजाए ऐसे विवादित बयान दे डाले।

इससे पहले भी दिग्विजय सिंह ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी और कहा था, “मोदी-शाह कहते हैं कि उन पर विश्वास करो। नोटबंदी में किया था क्या नतीजा निकला? अमित शाह हिंदुस्तान के मुसलमानों को कहते हैं कि उन पर विश्वास करो। यदि गोधरा कांड, सोहराबुद्दीन कांड, असम की एनआरसी सूची और उनके मुसलमानों के खिलाफ बयान देखें तो क्या वे बयान और मोदी शाह के कदम मुसलमानों में विश्वास पैदा करते हैं? बिलकुल नहीं। आप मुसलमानों के प्रति नफरत भरे बयान और कदम उठाना बंद करो तो मुसलमान अपने आप विश्वास करेगा।”

‘मस्जिदों से ऐलान हुआ, पहले से पता था कि क्या करना है’ – दिल्ली में उपद्रव और दंगों के पीछे मुल्ला-मौलवी?

दिग्विजय सिंह ने फिर सावरकर पर की विवादित टिप्पणी: BJP नेता ने दिया करारा जवाब

दिग्विजय सिंह की नजर में पाक PM इमरान खान ‘जी’ ‘शांति-दूत’, मोदी ‘नफरत-साम्प्रदायिकता’ फैलाने वाले

भगवा वस्त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं, मंदिरों में बलात्कार कर रहे हैं: दिग्विजय सिंह

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe