Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति'सच में होती हैं केरल स्टोरी जैसी घटनाएँ, कई परिवार शिकार हुए' : दिग्विजय...

‘सच में होती हैं केरल स्टोरी जैसी घटनाएँ, कई परिवार शिकार हुए’ : दिग्विजय सिंह के MLA भाई ने कहा – बजरंग दल पर बैन लगाना गलत, हिंदू हिंसक नहीं

दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने बजरंग दल पर बैन लगाने जैसे बयानों का भी विरोध किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रविरोधी नहीं है बजरंग दल संगठन इसलिए उस पर बैन नहीं लगना चाहिए।

मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने ‘द केरल स्टोरी’ फिल्म पर अपनी पार्टी से अलग राय रखी है। उन्होंने कहा कि वो केरल में रह कर नौकरी कर चुके हैं और वहाँ ऐसे हालत बनते हैं। उन्होंने इस तरह की घटनाओं को गलत बताया है। हालाँकि उन्होंने कहा कि उन्होंने अभी तक ये फिल्म नहीं देखी। इस दौरान लक्ष्मण सिंह ने बताया कि वो माधवराव सिंधिया को अक्सर याद करते हैं। इस दौरान लश्मण सिंह ने बजरंग दल पर बैन लगाने जैसे बयानों का भी विरोध किया। विधायक लक्ष्मण सिंह ने यह बयान शुक्रवार (19 मई 2023) को दिया है।

केरल के कई परिवार हुए शिकार

दरअसल कॉन्ग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह शुक्रवार को इंदौर में थे। यहाँ उन्होंने प्रेस क्लब में मीडिया से तमाम मुद्दों पर बातचीत की। इस बातचीत में एक पत्रकार ने द केरल स्टोरी फिल्म पर सवाल किया। जवाब में उन्होंने फिल्म न देखने की जानकारी दी। हालाँकि उन्होंने बताया कि केरल में ये सब चलता है जो कि गलत है। लक्ष्मण सिंह ने केरल में नौकरी के दौरान खुद ही इस चीजों का अनुभव करने का दावा किया। उनके इस बयान का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

द केरल स्टोरी पर पूछे गए सवाल पर कॉन्ग्रेस विधायक ने कहा, “मैंने केरल में 1975 में नौकरी की है। चाय की कम्पनी में। तो ये चीजें हम सुनते थे। ये सब होता था। सुनते थे। कई ऐसे परिवार हैं उस टी गॉर्डन के जो इसके शिकार हुए हैं। ये ऐसी कोई नई बात नहीं है जब से चल रहा है। फिल्म मैंने नहीं देखी है। मुझे नहीं मालूम कि फिल्म में क्या दिखाया गया है पर ये होता है। और ये गलत है।” हालाँकि फिल्म में कितनी सच्चाई है इसे कॉन्ग्रेस विधायक ने बिना फिल्म देखे बता पाने में असमर्थता जताई।

जब कॉन्ग्रेस विधायक से फिल्म में दिखाई गई धर्मान्तरित लड़कियों की संख्या में बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने इस बारे में भी जानकारी होने से इंकार कर दिया। हालाँकि उन्होंने इसके जवाब में भी कहा कि उन्हें सँख्या तो नहीं मालूम पर ये प्रक्रिया वहाँ चलती थी। इस दौरान लक्ष्मण सिंह ने आगे कहा, “मध्य प्रदेश का भी सुन रहे हैं कि कुछ मामले आ रहे हैं सामने।” लक्ष्मण सिंह के बयान की ये वीडियो क्लिप @psamachar1 हैंडल द्वारा 19 मई को शेयर हुई है।

बजरंग दल पर बैन का विरोध, हिन्दू हिंसक नहीं

दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने बजरंग दल पर बैन लगाने जैसे बयानों का भी विरोध किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रविरोधी नहीं है बजरंग दल संगठन इसलिए उस पर बैन नहीं लगना चाहिए।

17 मई को लक्ष्मण सिंह ने एक ट्वीट कर के हिन्दू को हिंसक बताने वालों को आड़े हाथों लिखा। तब उन्होंने लिखा था, “हिंदुओं को बार बार ‘हिंसक’ कहा जाता है।अगर ऐसा होता तो भारत 450 वर्षों तक गुलाम नहीं होता। चींटी और मधुमक्खी भी अपनी सुरक्षा के लिए काट लेती हैं। तो क्या वो हिंसक हैं?”

दिग्विजय सिंह को अपने छोटे भाई से सीखने की सलाह

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह को सलाह की है कि वो अपने छोटे भाई से कुछ सीखें। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह हिन्दुओं और सेना के खिलाफ आए दिन बयानबाजी करते रहते हैं ऐसे में उन्हें अक्सर अपने भाई के पास जा कर सीख लेनी चाहिए।

नेटीजेंस ने लिए मज़े

लक्ष्मण सिंह के बयानों और ट्वीट के वायरल होने के बाद नेटीजेंस ने उनके भाई दिग्विजय सिंह पर मीम्स बनाने शुरू कर दिए। @TikshnaReply हैंडल ने एक एडिटेड फोटो शेयर करते हुए दिग्विजय और लक्ष्मण सिंह में झगड़ा होते दिखाया है। हँसी का चिन्ह बनाते हुए उन्होंने कैप्शन दिया, “अब शायद यही बोलेंगे दिग्गी राजा अपने भाई को।”

वहीं एक अन्य ट्वीट पर बुलडोजर बाबा नाम के हैंडल ने विधायक लक्ष्मण सिंह के भाई को ज़ाकिर नाइक का चेला बताया है।

चित्र साभार- @laxmanragho

हालाँकि कई यूजर्स लक्ष्मण सिंह के हिन्दुओं पर दिए गए बयान की तारीफ कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -