Friday, May 31, 2024
Homeराजनीतिगाँधी परिवार कॉन्ग्रेसियों से जो भी बलिदान माँगेगा हम देंगे, जो समर्थन नहीं करते...

गाँधी परिवार कॉन्ग्रेसियों से जो भी बलिदान माँगेगा हम देंगे, जो समर्थन नहीं करते वो पार्टी में क्यों हैं: दिग्विजय सिंह

“कॉन्ग्रेस लीडरशिप को पार्टी संगठन को जोड़ने की चुनौती उठानी चाहिए। यही हमें राहुल जी और प्रियंका जी के करिश्माई नेतृत्व की जरूरत है। मुझे यकीन है कि इन दोनों में मोदी-शाह की जोड़ी का मुकाबला करने की हिम्मत है।”

वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने शनिवार (जुलाई 10, 2020) को कहा कि राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी के ‘करिश्माई’ नेतृत्व के तहत कॉन्ग्रेस के नेतृत्व को पार्टी संगठन की ईंट से ईंट जोड़कर बनाने की चुनौती उठानी चाहिए। दिग्विजय सिंह ने कहा कि इन दोनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की अजेय जोड़ी पर बढ़त बनाने की हिम्मत है।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने केंद्र में मोदी सरकार और यूपी में योगी सरकार के खिलाफ आक्रामक तरीके से आवाज उठाने को लेकर राहुल और प्रियंका गाँधी का पुरजोर समर्थन करते हुए ट्वीट की एक श्रृंखला में कहा –

“कॉन्ग्रेस लीडरशिप को पार्टी संगठन को जोड़ने की चुनौती उठानी चाहिए। यही हमें राहुल जी और प्रियंका जी के करिश्माई नेतृत्व की जरूरत है। मुझे यकीन है कि इन दोनों में मोदी-शाह की जोड़ी का मुकाबला करने की हिम्मत है।”

उन्होंने केंद्र सरकार को घेरने के लिए कई मुद्दों पर राहुल और प्रियंका द्वारा उठाए गए आक्रामक रुख की सराहना की।

दिग्विजय सिंह ने अगले ट्वीट में लिखा, “मैं व्यक्तिगत रूप से राहुल और प्रियंका गाँधी के उस आक्रामक रुख का समर्थन करता हूँ, जिसमें वो राष्ट्रीय और उत्तर प्रदेश के हित के मुद्दों पर उठा रहे हैं। अगर कॉन्ग्रेस में कुछ नेता इसकी सराहना नहीं कर सकते तो वे कॉन्ग्रेस में क्यों हैं?”

उन्होंने पार्टी के कुछ विद्रोहियों को भी निशाने पर लिया, जो पिछले कुछ महीनों से पलटवार कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा, “कॉन्ग्रेस पार्टी में कोई भी उनका विरोधी नहीं है। यह धारणा आप लोगों में से अधिक मीडिया में है। कॉन्ग्रेस में कौन लोग हैं, जो मोदी पर नरम रुख अपनाना चाहते हैं, उनके मन में पार्टी के साथ या अगर उनके पास हिम्मत है तो वे सार्वजनिक रूप से बोलने की हिम्मत रखें।”

नेहरू-गाँधी परिवार के बचाव में दिग्विजय सिंह ने कहा – “मोदी-शाह एक गलत धारणा में हैं कि वे ईडी/आईटी/सीबीआई की धमकियों से नेहरू-गाँधी परिवार को धोखा दे सकते हैं। उनके पूरे परिवार ने अंग्रेजों से निर्भय होकर जेल में वर्षों बिताए हैं और बहुत बहादुर हैं। इसलिए किसी भी भ्रम में मत रहिए मोदी-शाह जी।”

राहुल गाँधी और प्रियंका की समर्थन में दिग्विजय ने कहा – “यह मामले की जड़ है और सोनिया जी, राहुल जी और प्रियंका जी के सामने यह चुनौती है। मुझे यकीन है कि वे ऐसा करेंगे। पूरी कॉन्ग्रेस पार्टी, जवान-बूढ़े, हर कोई आपके पीछे खड़ा है और आप जो भी बलिदान माँगें ,वो करने के लिए तैयार हैं। तो राहुल जी प्लीज नेतृत्व करें।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -