Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिशराब पीकर प्रदर्शन, महिलाओं से छेड़खानी... गुजरात में AAP के CM कैंडिडेट इसुदान गढ़वी...

शराब पीकर प्रदर्शन, महिलाओं से छेड़खानी… गुजरात में AAP के CM कैंडिडेट इसुदान गढ़वी पत्रकार से बने हैं झाड़ू छाप नेता

इसुदान गढ़वी आम आदमी पार्टी से विवादित नाम हैं। उनके ऊपर शराब पीकर बीजेपी की महिला कार्यकर्ता के साथ छेड़खानी करने के आरोप लग चुके हैं। इसकी वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा था।

गुजरात में आम आदमी पार्टी ने आज (4 नवंबर 2022) टीवी पत्रकार इशुदान गढ़वी को अपना मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित कर दिया। आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने बताया कि 1648500 के करीब लोगों में से 73 फीसद लोगों के कहने पर उन्होंने इशुदान गढ़वी को अपना सीएम प्रत्याशी घोषित किया है। सामने आई वीडियो में देख सकते हैं कि इस घोषणा के बाद गढ़वी कितना भावुक दिखाई दिए।

मंच पर मौजूद गोपाल इटालिया ने भी उनको बधाई दी जबकि इटालिया खुद सीएम पद की रेस में कुछ समय पहले तक बड़ा नाम माने जा रहे थे। उनके अलावा बीच में मेधा पाटकर का नाम भी मीडिया में उछला था और अल्पेश कथेरिया, इंद्रनील राज्य गुरु, मनोज सुरथिया भी इस रेस में शामिल थे। हालाँकि आप ने इसुदान गढ़वी को चुना।

याद दिला दें कि इसुदान गढ़वी आम आदमी पार्टी से विवादित नाम हैं। उनके ऊपर गुजरात में (जहाँ शराब प्रतिबंध है वहाँ) शराब पीकर प्ररदर्शन करने बीजेपी की महिला कार्यकर्ता के साथ छेड़खानी करने के आरोप लग चुके हैं। इसकी वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। एफएसएल की रिपोर्ट में पुष्टि भी हुई थी कि उन्होंने घटना के समय शराब पी थी। लेकिन खुद को पाक साफ दिखाने के लिए उन्होंने सारा इल्जाम भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पर मढ़ दिया। उन्होंने कहा कि वो तो शराब पीते ही नहीं। वे देवी उपासक हैं।

आज जब गढ़वी के नाम की घोषणा हुई तो मंच पर गोपाल इटालिया के अलावा उनको मंच पर बैठे पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गले लगाया। मान पर भी शराब से जुड़े आरोप लगते रहे हैं। इजुलाई 2016 में उन पर सांसद हरिंदर खालसा ने सदन में शराब पीकर आने का आरोप लगाया था। खालसा भी आप से ही चुने गए थे, लेकिन बाद में उन्हें पार्टी ने निलंबित कर दिया था। पिछले दिनों मान की जर्मनी यात्रा भी शराब से जुड़े आरोपों के कारण चर्चा में रही थी। हालाँकि उन्होंने आरोपों को झूठा और बेबुनियाद बताया था

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -