Sunday, June 16, 2024
HomeराजनीतिJDU में नीतीशे कुमार... ललन सिंह का अध्यक्ष पद से इस्तीफा: तेजस्वी यादव के...

JDU में नीतीशे कुमार… ललन सिंह का अध्यक्ष पद से इस्तीफा: तेजस्वी यादव के भविष्य से लेकर NDA में वापसी तक की अटकलों ने पकड़ा जोर

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में ललन सिंह ने इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा देने के बाद उन्होंने नीतीश कुमार का नाम अध्यक्ष पद के लिए आगे बढ़ाया, जिसे सभी नेताओं ने मान लिया। इसके साथ ही नीतीश कुमार ने एक बार फिर से पार्टी की कमान अपने हाथ में ले ली है।

दिल्ली में आयोजित जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में ललन सिंह ने शुक्रवार (29 दिसंबर 2023) को राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपने इस्तीफे के बाद नीतीश कुमार का नाम अध्यक्ष पद के लिए प्रस्तावित किया, जिसे सभी नेताओं ने मान लिया। इसके साथ ही नीतीश कुमार ने एक बार फिर से पार्टी की कमान अपने हाथ में ले ली है।

बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के सुप्रीमो नीतीश कुमार अब तक पार्टी की कमान अपने भरोसेमंद साथियों के हाथों में देते आए हैं और वो स्वयं सत्ता चलाते रहे हैं। हालाँकि, पिछले कुछ समय से पार्टी में चल रही खींचतान को देखते हुए उन्होंने सारी ताकत अपने हाथ में ले ली है। नीतीश कुमार अब बिहार के मुख्यमंत्री के साथ ही जेडीयू का अध्यक्ष पद भी सँभालेंगे।

इस्तीफा देते हुए ललन सिंह ने कहा, “नीतीश कुमार जी के कहने पर ही मैंने राष्ट्रीय अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सँभाली थी। आगे मुझे लोकसभा चुनाव लड़ना है। ऐसे में एक साथ पार्टी की जिम्मेदारी सँभालना चुनौती होगी। इसलिए मैं नीतीश कुमार जी को पार्टी अध्यक्ष की जिम्मेदारी सँभालने का प्रस्ताव रखना चाहता हूँ।” हालाँकि, खबर लिखे जाने तक इसकी औपचारिक घोषणा नहीं हुई है। माना जा रहा है कि बैठक खत्म होने के बाद इसकी घोषणा होगी।

जदयू नेता और बिहार सरकार में मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा, “जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होगी। अगर वे हमारे प्रस्ताव को स्वीकार करते हैं तो नीतीश कुमार पार्टी अध्यक्ष होंगे। ललन सिंह ने सीएम नीतीश कुमार से कहा कि वह चुनाव में व्यस्त रहेंगे, इसलिए वह चाहते हैं पार्टी अध्यक्ष का पद उन्हें सौंप दें और नीतीश कुमार ने इसे स्वीकार कर लिया…।”

कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी की तरफ से 4 प्रस्ताव भी रखे गए, जिसमें सीट शेयरिंग पर फैसला लेने की पूरी जिम्मेदारी नीतीश कुमार पर ही छोड़ दी गई है। वो ही इंडी गठबंधन से जुड़ा हर काम देखेंगे। इस बैठक के दौरान जातिगत जनगणना और सरकारी नौकरियों पर भी प्रस्ताव रखा गया। पार्टी की बैठक में सांसदों के संसद से निलंबित होने की घटना पर भी प्रस्ताव लाया गया।

बता दें कि पिछले कई दिनों से इस बात की चर्चा हो रही थी कि ललन सिंह उर्फ राजीव रंजन सिंह को जेडीयू अध्यक्ष पद से हटाया जा सकता है। हालाँकि, ललन सिंह ने इससे साफ इनकार किया था। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इसे अफवाह बताया था और कहा था कि ऐसा कुछ नहीं होने जा रहा है।

नीतीश कुमार को जेडीयू का अध्यक्ष बनाने से पार्टी को फायदा भी हो सकता है। वो इंडी गठबंधन के साथ मजबूती से बारगेनिंग कर सकते हैं। चूँकि, इंडी गठबंधन को खड़ा करने का आइडिया उन्हीं का था, लेकिन बाद में राजनीतिक महत्वकांक्षा और पार्टियों के बीच खींचतान के कारण उन्हें दरकिनार कर दिया गया। अब हालात ऐसे हो गए हैं कि नीतीश कुमार की NDA में वापसी की भी अटकलें चल रही हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -