Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'मैं नहीं माँगने वाली माफी…': संसद में 'हरामी' बोलने का महुआ मोइत्रा को कोई...

‘मैं नहीं माँगने वाली माफी…’: संसद में ‘हरामी’ बोलने का महुआ मोइत्रा को कोई पछतावा नहीं, कहा- मुझसे Sorry सुनना है तो पहले खुद बोलें

इंडिया टुडे से बात करते हुए वह बोलीं, "अगर उन्हें माफी सुननी है तो लंबा इंतजार करना होगा। उन्हें अपने 'बिलकुल सम्माननीय नहीं' सांसद से पूछना चाहिए जो मेरे बात करते में बंदर की तरह कूद पड़े थे ताकि मेरी स्पीच बिगाड़ सकें।"

भाजपा नेता को भरे लोकसभा सदन में ‘हर@मी’ बोलने के बाद सांसद महुआ मोइत्रा ने माफी माँगने से इनकार कर दिया है। उन्होंने संसदीय मामलों के मंत्री प्रहलाद जोशी को लेकर कि अगर वह माफी सुनना चाहते हैं तो उन्हें बहुत इंतजार करना पड़ेगा।

इंडिया टुडे से बात करते हुए वह बोलीं, “अगर उन्हें माफी सुननी है तो लंबा इंतजार करना होगा। उन्हें अपने ‘बिलकुल सम्माननीय नहीं’ सांसद से पूछना चाहिए जो मेरे बात करते में बंदर की तरह कूद पड़े थे ताकि मेरी स्पीच बिगाड़ सकें।”

महुआ ने कहा, “मुझे लगता है कि मुझसे माफी माँगने के लिए पहले उनके सांसद को मुझसे माफी माँगनी चाहिए।”

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को सदन के भीतर महुआ मोइत्रा ने अपनी बात खत्म करने के बाद भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी को उठकर ‘हरामी’ कहा था। इसी के बाद पूरी सभा में बवाल मचा। प्रह्लाद जोशी ने मामले को सदन में उठाते हुए महुआ से माफी की माँग की। हालाँकि उन्होंने माफी माँगने से न केवल मना किया बल्कि इस वाकये में पितृसत्ता को घुसा दिया था।

उन्होंने अपनी भाषा को लेकर हुए विवाद पर बुधवार (8 फरवरी, 2023) को कहा, “बीजेपी कह रही है कि मैं महिला होने के नाते इस तरह के शब्द का इस्तेमाल कैसे कर सकती हूँ? क्या इसके लिए मुझे एक पुरुष होने की आवश्यकता है। यह तो पितृसत्ता है। मुझे आश्चर्य है कि भाजपा हमें संसदीय शिष्टाचार सिखा रही है। दिल्ली के उस प्रतिनिधि ने मेरे साथ बदसलूकी की। मैं एक सेब को एक सेब कहूँगी, नारंगी नहीं… अगर वे मुझे विशेषाधिकार समिति में ले जाएँगे, तो मैं वहाँ अपना पक्ष रखूँगी।”

टीएमसी सांसद ने इस बीच अडानी मुद्दे पर भी टिप्पणी की और सच्चाई को छिपाने के लिए भाजपा को पर कई आरोप लगाए। उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “पहली बार, हम सभी भारत के लोगों को यह दिखाने में सक्षम हुए कि यह अडानीगेट क्या था? बीजेपी पिछले 3 सालों से इसे छिपाने कोशिश कर रही है। मुझे खुशी है कि सभी विपक्षी दल एकजुट होकर सामने आए। भारत के लोग अडानीगेट घोटाले को देख सकते हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -