Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीति'बाटला हाउस में हमारे बच्चों को आतंकी कह कर मार डाला, मिले शहीद का...

‘बाटला हाउस में हमारे बच्चों को आतंकी कह कर मार डाला, मिले शहीद का दर्जा’: मौलाना तौकीर रजा ने कहा – राहुल-प्रियंका सच्चे सेक्युलर

तौकीर रजा ने कहा, “अगर बाटला हाउस एनकाउंटर की जाँच करवा ली गई होती तो दुनिया को पता चल जाता जो मारे गए वो आतंकवादी नहीं थे। उनको शहीद का दर्जा मिलना चाहिए।"

हिंदुओं के खिलाफ लगातार जहर उगलने वाले मौलाना तौकीर रजा को कॉन्ग्रेस के समर्थन दिए हुए अभी 24 घंटे भी नहीं बीते कि अब वो कॉन्ग्रेस पर हमला बोलते नजर आए। चुनाव के वक्त में बाटला हाउस एनकाउंटर का मुद्दा एक बार फिर जोर पकड़ रहा है। तौकीर रजा ने विवादित बयान देते हुए बाटला हाउस एनकाउंटर पर बोलते हुए कॉन्ग्रेस पर जमकर हमला बोला और इस एनकाउंटर में मारे गए आतंकवादी को ‘शहीद’ बता दिया।

एनकाउंटर की जाँच का वादा

मौलाना तौकीर रजा ने विकास कालोनी स्थित कॉन्ग्रेस के महानगर अध्यक्ष अजय शुक्ला के आवास पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान तौकीर रजा से सवाल किया गया कि आज आप कॉन्ग्रेस के समर्थन की बात कर रहे है लेकिन पहले आप कॉन्ग्रेस की आलोचना करते थे।

इस पर तौकीर रजा ने कहा, “ये बात बिलकुल सही है। हम हमेशा कॉन्ग्रेस के खिलाफ रहे और हमसे एक गलती यह हुई कॉन्ग्रेस की गलत पॉलिसीज की वजह से और हमने कॉन्ग्रेस को बहुत करीब से भी देखा। 2009 में जब मैं कॉन्ग्रेस के साथ खड़ा था और कॉन्ग्रेस को जिताया था। उस वक्त मैंने मंच से ये बात कही थी कि कॉन्ग्रेस ये न समझे कि उनको माफ कर दिया है। अभी आपको मुसलमानों ने पेरोल पर छोड़ा है। अगर आपका काम आगे ठीक रहेगा तो फिर आपके बारे में आगे सोचा जाएगा। लेकिन उन्होंने सोचा कि अब तो हमारी सरकार बन गई। उन्होंने मुझसे कहा था कि सरकार बनने के बाद हमारा पहला फैसला होगा कि हम सबसे पहले बाटला हाउस एनकाउंटर की जाँच करवाएँगे।”

‘मुसलमानों का हुआ कत्ल’

तौकीर रजा ने कहा, “अगर बाटला हाउस एनकाउंटर की जाँच करवा ली गई होती तो दुनिया को पता चल जाता जो मारे गए वो आतंकवादी नहीं थे। उनको शहीद का दर्जा मिलना चाहिए। जो इंस्पेक्टर शर्मा मारे गए, उनका कत्ल हुआ। उनको उनकी पुलिस ने मारा था। जाँच नहीं करवाई गई। उन्होंने कहा कि इससे पुलिस का मनोबल टूटेगा। पुलिस के मनोबल की उन्हें ज्यादा परवाह थी। हमारे मनोबल की, 20 करोड़ मुसलमानों के मनोबल की उन्हें कोई परवाह नहीं थी। हमारे बच्चों को इस तरह आतंकवादी कह कर मार डाला गया। कॉन्ग्रेस से मेरी शिकायतें हमेशा रहीं।”

बाकी करते हैं ढोंग

तौकीर रजा ने आगे कहा, “मैंने कॉन्ग्रेस को बहुत करीब से देखा। मैंने ये महसूस किया कि कॉन्ग्रेस को चारों तरफ से आरएसएस के लोगों ने घेरा हुआ है। हमेशा मैंने कॉन्ग्रेस की मुखालफत की है और हमेशा मुखालफत करता रहूँगा। लेकिन अब जब मैं प्रियंका गाँधी से मिला, मैंने करीब से उनको समझने की कोशिश की, मैंने उनसे बातचीत की, तो मैंने महसूस किया कि इस वक्त उत्तर प्रदेश में नहीं बल्कि पूरे देश में सिर्फ ये दो भाई-बहन (प्रियंका गाँधी और राहुल गाँधी) है जो सच्चे सेक्युलरिस्ट हैं। जो लोकतंत्र पर यकीन रखते हैं। बाकी तमाम लोग सेक्युलरिज्म की बातें करते है वो ढोंग करते हैं। ये दोनों सच्चे सेक्युलरिज्म हैं।”

उल्लेखनीय है कि हाल ही में मौलाना तौकीर रजा ने न्यूज 18 के एंकर अमन चोपड़ा को ऑन शो धमकी दी। तौकीर रजा के पुराने बयानों पर जब चोपड़ा के शो में सवाल किया गया तो रजा ने गुस्सा दिखाते हुए एंकर को कहा था कि या तो वो उनसे तमीज में बात करें वरना उनका मुँह तोड़ दिया जाएगा। गौरतलब है कि एक दिन पहले ही इत्तेहाद-उल-मिल्लत काउंसिल (IMC)के मुखिया मौलाना तौकीर रजा ने कॉन्ग्रेस को खुला समर्थन देने का ऐलान किया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -