Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'24 घंटे में खाली करो सरकारी बँगला': जम्मू कश्मीर की पूर्व CM महबूबा मुफ़्ती...

’24 घंटे में खाली करो सरकारी बँगला’: जम्मू कश्मीर की पूर्व CM महबूबा मुफ़्ती को नोटिस, अनंतनाग में कब्जा रखा है क्वार्टर

उन्हें ये भी विकल्प दिया गया था कि अगर उनकी इच्छा हो तो उनके लिए वैकल्पिक आवासीय व्यवस्था की जा सकती है।

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती को अपना सरकारी बँगला खाली करने के लिए कहा गया है। इसके लिए उन्हें 24 घंटे का समय दिया गया है। उनके अलावा तीन अन्य पूर्व विधायकों को भी ये नोटिस भेजा गया है। PDP सुप्रीमो को जी सरकारी बँगले को खाली करने के लिए कहा गया है, वो दक्षिणी घाटी के अनंतनाग जिले में स्थित है। जिन नेताओं को नोटिस मिला है, वो यहाँ के हाउसिंग कालोनी खन्नाबल इलाके में रह रहे थे।

‘पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी’ की मुखिया को अनंतनाग के डिप्टी कमिश्नर के निर्देश पर जिले के कार्यकारी मजिस्ट्रेट द्वारा ये निष्कासन नोटिस जारी किया गया। उनके अलावा तीन पूर्व विधायकों अब्दुल रहीम राथर, अब्दुल माजिद बट और मोहम्मद अल्ताफ को भी ये नोटिस मिला है। इन नेताओं नेताओं को 4, 6 और 1 नंबर के सरकारी क्वार्टर 24 घंटों के भीतर खाली करने के लिए नोटिस जारी किया गया है। 7 नंबर क्वार्टर पर फ़िलहाल महबूबा मुफ़्ती का कब्ज़ा है।

इससे पहले 21 सितंबर, 2022 को भी महबूबा मुफ़्ती को इस संबंध में नोटिस जारी किया गया था। उन्हें ये भी विकल्प दिया गया था कि अगर उनकी इच्छा हो तो उनके लिए वैकल्पिक आवासीय व्यवस्था की जा सकती है। 2018 से उन्होंने गुपकार मार्ग पर स्थित व्यू नामक सरकारी बँगले पर कब्ज़ा कर रखा है। 26 अक्टूबर को मजबूबा मुफ़्ती को दोबारा नोटिस जारी किया गया। इसमें उन्हें 15 नवंबर तक का समय दिया गया था।

जम्मू कश्मीर का एस्टेट विभाग महबूबा मुफ़्ती को 15 अक्टूबर को भी सरकारी बँगला खाली करने का आदेश दे चुका है। पहले महबूबा मुफ़्ती ने इस पर कानूनी राय लेने की बात कही थी, लेकिन उसके बाद वो कहने लगीं कि ये बँगला उनके लिए कोई मायने नहीं रखता है। उन्होंने इसे खाली कर देने की बात भी कही थी। अब इन चारों नेताओं को कहा गया है कि अगर वो तय समय में बँगला खाली नहीं करते हैं तो कानून के हिसाब से उन पर कार्रवाई की जा सकती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी अमृतपाल के लिए संसद में पूर्व CM चन्नी की बैटिंग, सिख किसान नेताओं के साथ राहुल गाँधी की बैठक: क्या पका रही है...

बकौल चरणजीत सिंह चन्नी, अमृतपाल पर NSA लगाना 'अभिव्यक्ति की आज़ादी' के खिलाफ है। वो खालिस्तानी अमृतपाल सिंह की गिरफ़्तारी को आपातकाल बता रहे हैं।

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -