Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीति'क्या AAP देश के गद्दार को पनाह दे रहे हैं': केजरीवाल से स्मृति ईरानी...

‘क्या AAP देश के गद्दार को पनाह दे रहे हैं’: केजरीवाल से स्मृति ईरानी ने पूछे 10 सवाल, मनी लॉन्ड्रिंग में सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी का मामला

“जिस सत्येन्द्र जैन ने स्वयं स्वीकार किया कि 16 करोड़ 39 लाख की मनी लॉन्ड्रिंग हवाला ऑपरेटर्स के माध्यम से की गई उन कंपनियों में, जिनमें सत्येंद्र जैन व उनके परिवार की भागीदारी है। क्या वो व्यक्ति आज भी AAP द्वारा संचालित सरकार का मंत्री बना रहना चाहिए?"

प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा गिरफ्तार किए गए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (health minister satyendra jain) के मामले को लेकर केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार पर कड़े तेवर दिखाए हैं। जैन की गिरफ्तारी का बचाव करने पर स्मृति ईरानी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की नीयत पर सवाल खड़े किए हैं। मीडिया से चर्चा करते हुए स्मृति ईरानी ने कई चौंकाने वाली बातें कहीं।

मामले में भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सवाल पूछे हैं। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने की। केंद्रीय मंत्री ने कहा, “दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल जी ने कल एक भ्रष्ट व्यक्ति को क्लीन चिट दी। अपने प्रेस के उद्बोधन में उन्होंने यह घोषणा की कि सतेंद्र जैन के खिलाफ जो आरोप हैं, वो सभी तथ्यों से बहुत दूर हैं। अपने आप को जज की उपाधि देते हुए अरविंद केजरीवाल ने सतेंद्र जैन को जनता की अदालत में बरी कर दिया। इसलिए आज मैं कुछ प्रश्न पूछने के लिए विवश हूँ।”

स्मृति ईरानी ने आगे प्रश्न किया, “मेरा पहला सवाल अरविंद केजरीवाल जी से ये है कि क्या वो इस बात को इनकार कर सकते हैं, नकार सकते हैं कि सत्येंद्र जैन ने 4 शैल (फर्जी) कंपनियों को अपने परिवार के कुछ सदस्यों के माध्यम से 16.39 करोड़ रुपए की, 56 शैल कंपनियों के माध्यम से, हवाला ऑपरेटर्स के सहयोग से, 2010-16 तक मनी लॉन्ड्रिंग की?”

उन्होंने अपने दूसरे सवाल में अरविंद केजरीवाल से पूछा कि क्या यह सत्य है कि सत्येंद्र जैन ने खुद इनकम डिस्क्लोजर 2016 के तहत घोषणा की थी कि वे 16.39 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग में लिप्त हैं? इसके लिए माध्यम अंकुश जैन और वैभव जैन बने थे।

स्मृति ईरानी ने अपने अगले सवाल में पूछा कि क्या यह सच है कि मुख्य आयकर आयुक्त ने इस बात को खारिज कर दिया कि 16.39 करोड़ रुपए के असली मालिक न तो अंकुश जैन थे और न ही वैभव जैन, बल्कि सत्येंद्र जैन खुद इस काले धन के मालिक थे? उन्होंने चौथे प्रश्न में पूछा कि ये सत्य है कि डिविजन बेंच दिल्ली हाईकोर्ट ने अगस्त 2019 के अपने एक ऑर्डर में इस बात की पुष्टि की कि सत्येंद्र जैन ने 16.39 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग की है?

केंद्रीय मंत्री ने पाँचवाँ सवाल पूछा कि क्या ये सच है कि सत्येंद्र जैन शैल कंपनीज के मालिक हैं? इन शैल कंपनीज का नाम हैं- इंडो मैटेलिक इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड, अकिंचन डेवेलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, प्रयास इन्फो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड, मंगलायतन प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड। ये कंपनियाँ वो अपनी धर्मपत्नी के साथ शेयर होल्डिंग के माध्यम से कंट्रोल करते हैं। एक और कंपनी जे जे आइडियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड है, जिसमें अधिकतर शेयर होल्डिंग सत्येन्द्र जैन, उनकी पत्नी व परिवार की है जिसको केजरीवाल प्रेस के माध्यम से ढांढस बँधा रहे थे, भाभीजी आपको डरने की जरूरत नहीं है।”

आगे छठा सवाल पूछते हुए उन्होंने कहा कि क्या ये सत्य है सत्येन्द्र जैन ने 200 बीघा जमीन कराला, औचंदी, निजामपुर, उधम, नॉर्थ और नॉर्थ वेस्ट दिल्ली के इलाके के अनधिकृत कॉलोनियाँ में ली है। इस काले धन के माध्यम से 200 बीघा जमीन का मालिकाना हक इन शेल कंपनियों के माध्यम से सत्येन्द्र जैन के बेनेफिट में आया।

केंद्रीय मंत्री ने सातवाँ सवाल पूछा, “क्या ये सत्य है कि जो 200 बीघा की जमीन है वो उन अनधिकृत कॉलोनियाँ के आसपास है जिसके संदर्भ में सतेन्द्र जैन और आम आदमी पार्टी के माध्यम से वो अनधिकृत कॉलोनियाँ नियमित हुईं।” उनका आठवाँ प्रश्न था कि क्या ये सत्य है कि सतेंद्र जैन आज प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत चार्जशीट में मुख्य आरोपित हैं?

उन्होंने नौवाँ सवाल किया कि क्या ये सत्य है कि 16 करोड़ 39 लाख मनी लॉन्ड्रिंग की जो सत्येंद्र जैन की आय है उस पर इनकम टैक्स डिपार्ट्मन्ट टैक्स लगाए। ये प्रस्ताव स्वयं सत्येंद्र जैन की कंपनियों का था।

केंद्रीय मंत्री ने आखिरी सवाल पूछते हुए कहा, “जिस सत्येन्द्र जैन ने स्वयं स्वीकार किया कि 16 करोड़ 39 लाख की मनी लॉन्ड्रिंग हवाला ऑपरेटर्स के माध्यम से की गई उन कंपनियों में, जिनमें सत्येंद्र जैन व उनके परिवार की भागीदारी है। क्या वो व्यक्ति आज भी AAP द्वारा संचालित सरकार का मंत्री बना रहना चाहिए? आप कहते हैं कि भ्रष्टाचार करने वाला देश का गद्दार है, क्या आप देश के गद्दार को पनाह दे रहे हैं।”

उल्लेखनीय है कि सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि उनके खिलाफ दर्ज मामला पूरी तरह से फर्जी हैं। उन्हें झूठे केस में फँसाया गया है। उन्होंने कहा था, ”मैंने सत्येंद्र जैन के मामले के सारे कागज देखे हैं। केस बिल्कुल फर्जी है। हम कट्टर ईमानदार और देश भक्त लोग हैं, हम भ्रष्टाचार को देश के साथ गद्दारी मानते हैं, सर कटा सकते हैं लेकिन भ्रष्टाचार नहीं करेंगे।” 

इसके साथ ही उन्होंने सत्येन्द्र जैन को कट्टर देशभक्त, ईमानदार और बेहद साहसी बताया था। इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि सत्येंद्र जैन को एक फर्जी और निराधार मामले में गिरफ्तार किया गया है। वो जल्द ही इस मामले में बरी होंगे। बता दें कि सत्येंद्र जैन को ईडी ने मंगलवार (31 मई 2022) को कोर्ट में पेश किया था। वे 9 जून तक के लिए कस्टडी में भेजे गए हैं। ED की जाँच में सामने आया कि जैन 2015-16 में कोलकाता की एक फर्म के साथ हवाला लेनदेन में शामिल थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -