Sunday, July 3, 2022
Homeराजनीतिनीतीश कुमार ने 7वीं बार सीएम पद की शपथ ली, धर्मांतरण पर सख्ती का...

नीतीश कुमार ने 7वीं बार सीएम पद की शपथ ली, धर्मांतरण पर सख्ती का वादा करने वाले जीवेश मिश्र भी मंत्री बने

शपथ लेने वालों में जाले से बीजेपी के विधायक चुने गए जीवेश मिश्र भी शामिल हैं। जीवेश मिश्र ने चुनाव के दौरान ऑपइंडिया से बात करते हुए मिथिलांचल में कट्टरपंथ और ईसाई मिशनरियों के बढ़ते प्रभाव को लेकर चिंता जताई थी। धर्मांतरण से सख्ती से निपटने की बात कही थी।

आज (16 नवंबर 2020) नीतीश कुमार ने सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उनके साथ 14 मंत्रियों ने भी शपथ ली। बीजेपी कोटे से शपथ लेने वाले तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को उप मुख्यमंत्री बनाया गया है।

शपथ लेने वालों में जाले से बीजेपी के विधायक चुने गए जीवेश मिश्र भी शामिल हैं। जीवेश मिश्र ने चुनाव के दौरान ऑपइंडिया से बात करते हुए मिथिलांचल में कट्टरपंथ और ईसाई मिशनरियों के बढ़ते प्रभाव को लेकर चिंता जताई थी। धर्मांतरण से सख्ती से निपटने की बात कही थी।

शपथ ग्रहण समारोह में गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, देवेंद्र फडणवीस (Devendra सहित एनडीए के कई नेता शामिल हुए। राजद और उसके सहयोगी दलों ने कार्यक्रम का बहिष्कार किया था।

शपथ ग्रहण का यह कार्यक्रम सोमवार की शाम 4:30 बजे से राज्यपाल फागू चौहान की अगुवाई में शुरू हुआ था। तारकिशोर प्रसाद और रेणु चौधरी के अलावा जदयू नेता विजय कुमार चौधरी, विजेंद्र प्रसाद यादव, अशोक चौधरी और मेवा लाल चौधरी ने भी मंत्री पद की शपथ ली। इसके अलावा हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के मुखिया जीतन राम मांझी के बेटे संतोष कुमार सुमन और विकासशील इंसान पार्टी के मुकेश सहनी ने भी मंत्री पद की शपथ ली। चुनाव से ठीक पहले एनडीए में शामिल हुए सहनी खुद चुनाव हार गए हैं।

भाजपा नेता मंगल पाण्डेय और अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने भी मंत्री पद की शपथ ली। इनके अलावा जदयू की शीला मंडल और भाजपा के रामप्रीत पासवान और राम सूरत राय ने मंत्री पद की शपथ ली।       

उल्लेखनीय है कि तारकिशोर प्रसाद कटिहार विधानसभा क्षेत्र से 4 बार विधायक रह चुके हैं। उनके अलावा रेणु चौधरी भी 5 बार विधायक रह चुकी हैं। बिहार विधानसभा चुनावों में एनडीए ने 243 सीटों में से 125 सीटें हासिल की है। भाजपा ने कुल 110 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से 74 पर जीत हासिल की थी। वहीं जदयू ने कुल 115 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से उसने 43 सीटों पर ही जीत दर्ज की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

8 लोग थे निशाने पर, एक डॉक्टर को वीडियो बना माँगनी पड़ी थी माफ़ी: उमेश कोल्हे के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच...

उमेश कोल्हे के गले पर जख्म 5 इंच चौड़ा, 5 इंच लंबा और 5 इंच गहरा था। साँस वाली नली, भोजन निगलने वाली नली और आँखों की नसों पर भी वार किए गए थे।

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe