Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीति'238 नहीं, 500 लोग मरे हो सकते हैं': बालासोर ट्रेन हादसे पर CM ममता...

‘238 नहीं, 500 लोग मरे हो सकते हैं’: बालासोर ट्रेन हादसे पर CM ममता की राजनीति, रेल मंत्री की बात काटकर कहती रहीं- 3 डिब्बों में अभी भी पैसेंजर फँसे हैं

ममता बनर्जी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए अश्विनी ने कहा, "सीआरपीसी एक उचित प्रक्रिया निर्धारित करती है और राज्य सरकार ने समय-समय पर सटीक जानकारी दी है और अब तक सटीक जानकारी के अनुसार मरने वालों की संख्या 261 तक पहुँच गई है।"

ओडिशा के बालासोर जिले में शुक्रवार (2 जून 2023) की शाम को हुए भीषण रेल हादसे में 238 लोगों की मौत हो गई और लगभग लगभग 900 लोग घायल हो गए। दुर्घटना में तीन ट्रेनें शामिल थीं, हावड़ा-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस, यशवंतपुर-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस और एक मालगाड़ी।

मीडिया इस दुखद घटना के बारे में मिनट-मिनट की जानकारी दे रहा है। इससे पहले रेलवे के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा के हवाले से बताया कि रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा हो चुका है और मरम्मत का काम शुरू कर दिया गया है। इसके बावजूद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी आश्चर्यजनक रूप से इससे अनभिज्ञ रहीं।

ममता बनर्जी ने शनिवार (3 जून 2023) को घटनास्थल का दौरा किया और वहाँ केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मुलाकात की। उस दौरान एक वीडियो में ममता को जोर देकर यह कहते हुए सुना गया है कि पटरी से उतरी ट्रेनों के तीन डिब्बों की जाँच अभी तक नहीं हुई है और उसमें अभी कई यात्री फँसे हो सकते हैं।

ममता ने आगे कहा, “मैंने सुना है कि ट्रेन दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 500 तक जा सकती है। ट्रेन के क्षतिग्रस्त तीन डिब्बों की जाँच की जानी बाकी है और घायलों एवं शवों को अभी भी बाहर निकालने की जरूरत है।” अश्विनी ने तुरंत हस्तक्षेप करते हुए कहा, “दीदी, सभी कोचों का पूरी तरह से निरीक्षण किया गया है और शव बरामद किए गए हैं। राज्य सरकार ने मरने वालों की अंतिम संख्या 238 होने की पुष्टि की है।”

केंद्रीय मंत्री के बताने के बावजूद ममता अपनी बात पर अड़ी रहीं और जोर देकर कहा कि तीन कोचों से अभी रेस्क्यू नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि रेल मंत्री द्वारा बताई गई मौतों की संख्या केवल कल (शुक्रवार, 2 जून) तक की है, कुल संख्या नहीं है। बता दें कि अश्विनी त्रासदी के तुरंत बाद घटनास्थल पर पहुँचे थे, जबकि ममता बनर्जी अगले दिन दुर्घटनास्थल पर पहुँची थीं।

ममता बनर्जी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए अश्विनी ने कहा, “सीआरपीसी एक उचित प्रक्रिया निर्धारित करती है और राज्य सरकार ने समय-समय पर सटीक जानकारी दी है और अब तक सटीक जानकारी के अनुसार मरने वालों की संख्या 261 तक पहुँच गई है।” ममता उनकी इस्तीफा माँगने को लेकर अश्विनी ने कहा, “यह राजनीति करने का समय नहीं है। यह बहाली जल्द से जल्द सुनिश्चित करने का समय है।”

रेलवे बोर्ड के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा ने कहा, “बचाव अभियान पूरा हो गया है, अब हम बहाली का काम शुरू कर रहे हैं। 238 लोगों की मौत हुई है और 600 से ज्यादा घायल हुए हैं। कवच इस मार्ग पर उपलब्ध नहीं था”। उन्होंने बताया कि अब तक 100 से अधिक लोगों ने अनुग्रह राशि का दावा किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -