Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीति'UPA के समय उम्मीद थी तो इंतजार करता रह गया, भाजपा सरकार में उम्मीद...

‘UPA के समय उम्मीद थी तो इंतजार करता रह गया, भाजपा सरकार में उम्मीद नहीं थी फिर भी मिला पद्मश्री’: PM मोदी के कायल हुए कलाकार शाह रशीद अहमद कादरी

पुरस्कार वितरण समारोह के बाद पीएम पद्म पुरस्कार विजेताओं से मिल रहे थे। इसी दौरान उन्होंने शाह रशीद अहमद को पुरस्कार जीतने पर शुभकामनाएँ दी।

महामहिम द्रौपदी मुर्मू ने बुधवार ( 5 अप्रैल 2023) को पद्म पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया। पद्म श्री से नवाजे गए लोगों में एक नाम शाह रशीद अहमद कादरी का भी था। कादरी कर्नाटक के मशहूर बीदरी (एक प्रकार की शिल्प कला) कलाकार हैं। पद्म श्री पुरस्कार मिलने के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया।

पुरस्कार वितरण समारोह के बाद पीएम पद्म पुरस्कार विजेताओं से मिल रहे थे। इसी दौरान उन्होंने शाह रशीद अहमद को पुरस्कार जीतने पर शुभकामनाएँ दी। इस पर रशीद अहमद ने पीएम मोदी से कहा, “मैं 5 साल तक UPA सरकार से उम्मीद पाले रहा कि मुझे पद्मश्री मिलेगा लेकिन नहीं मिला। उसके बाद केंद्र में बीजेपी की सरकार बनी तो कोई उम्मीद नहीं थी। मगर आपने पद्म श्री दे कर मेरा ख्याल गलत साबित कर दिया। मुझे चुना इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।”

रशीद कादरी की बात सुनकर पीएम मोदी हँस पड़े। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में पीएम के साथ गृहमंत्री अमित शाह भी नजर आ रहे हैं। शाह रशीद बीदरी कला में नए पैटर्न और डिजाइन पेश करने के लिए मशहूर हैं। बता दें बीदरी कर्नाटक की लोककला है जो राज्य के बीदर शहर से शुरु हुई और धीरे-धीरे इस कला का प्रसार तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में भी हो गया।

इससे पहले, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री रहे मुलायम सिंह यादव और मशहूर चिकित्सक दिलीप महालनाबिस को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया। मुलायम सिंह यादव का पुरस्कार अखिलेश यादव ने प्राप्त किया।

उनके अलावा आरआरआर फिल्म के लिए नाटू नाटू गाने लिखने वाले संगीतकार एमएम कीरावनी को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पद्मश्री से सम्मानित किया। नाटू नाटू गाने को ऑस्कर अवार्ड भी मिल चुका है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -