Tuesday, January 26, 2021
Home राजनीति नरेंद्र मोदी: यह नाम लेते ही आपके जेहन में कैसी तस्वीर उभरती है?

नरेंद्र मोदी: यह नाम लेते ही आपके जेहन में कैसी तस्वीर उभरती है?

मोदी नाम है उम्मीदें जगाने और उसे पूरा करने का। पीढ़ियों के सपनों को साकार करने का। अपने जन्मदिन के अगले ही दिन वह बिहार को वह सौगात देने जा रहे हैं, जिसका सपना वह 86 साल से देख रहा था।

1934 में भूकंप आया और कोसी नदी पर बना रेल पुल क्षतिग्रस्त हो गया। इसके कुछ साल बाद देश आजाद हो गया और तब से अब तक न जाने कितनी सरकारें आईं। लेकिन, कोसी रेल पुल नहीं बना। 18 सितंबर 2020 को इस रेल पुल की सौगात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार को देने जा रहे हैं।

हालाँकि इसकी नींव 2003 में 6 जून को उस समय के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने ही रख दी थी। लेकिन, बाद के सालों में यह प्रोजेक्ट ‘कॉन्ग्रेसशाही’ में लटक गई। जिस योजना की लागत 323.41 करोड़ रुपए थी, वह बढ़कर 516.02 करोड़ रुपए हो गई। सत्ता में मोदी के आगमन के बाद इस प्रोजेक्ट ने तेजी पकड़ी और अब इस पर ट्रेनें दौड़ने को तैयार हैं।

आज, यानी 17 सितंबर को 70 साल के हो गए मोदी असल में पीढ़ियों के ऐसे ही सपने को पूरा करने का नाम है। चाहे वह घर-घर बिजली पहुँचाने की योजना हो या फिर शौचालय। जन-धन के जरिए बैकिंग सिस्टम से अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को जोड़ना हो या फिर रसोई गैस सिलेंडर से धुएँ में रोज़ झुलसने से महिलाओं को मुक्ति दिलाना।

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत लाभान्वित लोगों को लेकर 1 जुलाई 2019 को लोकसभा में सरकार की ओर से दिया गया जवाब

इन्हीं वजहों से मोदी की वह छवि आपके मन में पैदा होती है, जिससे बीजेपी 2019 के आम चुनावों से पहले रूबरू हुई थी। वरिष्ठ पत्रकार संतोष कुमार ने अपनी पुस्तक ‘भारत कैसे हुआ मोदीमय’ में लिखा है, “इस प्रजेंटेशन में सवाल हुआ- अगर आप (दो बड़े उद्योपतियों का नाम लिया गया, जिसमें एक भगोड़ा है तो दूसरा लंबे समय तक जेल में रहा, जिनके नाम का खुलासा करना उचित नहीं होगा) इनका नाम लेते हैं तो आपके जेहन में क्या छवि आती है? जवाब था- फ्रॉड की। लेकिन जब नरेंद्र मोदी का नाम लेते हैं तो क्या जवाब होता है? एक ऐसा नेता जो कोई भी बड़ा निर्णय ले सकता है, चाहे विकास के एजेंडे पर हो या फिर राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा।”

आपके जेहन में उभरने वाली इसी छवि का चमत्कार था कि 2019 में अकेले दम पर बीजेपी 300 के पार चली गई। इस ऐतिहासिक जनादेश की कई तरहों से व्याख्या हो चुकी है, इसलिए हम इसके ग्राउंड जीरो पर हुए असर पर नजर डालते हैं।

‘मोदी मैंडेट 2019’ में प्रदीप भंडारी लिखते हैं कि उन्होंने कैराना में एक बुजुर्ग महिला से पूछा;

माताजी, आप क्या चाहती हैं प्रधानमंत्री कौन बनना चाहिए इस बार? वे जवाब देती हैं- भैया, हमको तो मोदी ठीक लगता है। भंडारी फिर पूछते हैं क्यों? ऐसा क्या किए हैं मोदी? महिला का जवाब होता है: क्या नहीं दिए। गैस चूल्हा दिए। घर दिए। पैखाना दिए। इतना कोई नहीं किया हम गरीब लोगों के लिए। उनको ऊपर वाला भेजा है हमलोगों के लिए!

इसी तरह प्रयागराज में एक नाविक भंडारी से कहता है, “पाकिस्तान को घर में घुसकर मारे हैं मोदी जी। ये होता है मर्द का जिगरा। ऐसी हवा टाइट की है इनकी कि अब भारत की ओर आँख उठाकर भी नहीं देखेंगे।” जनता ऐसे जवाब तभी देती है, जब किसी का नाम उम्मीद जगाता हो और साथ ही उनके पूरे होने का भरोसा भी।

ऐसा भी नहीं है कि यह प्रभाव किसी खास राज्य या इलाके तक ही सीमित है। पश्चिम बंगाल के डायमंड हार्बर में एक पूर्व सैनिक ने भंडारी से कहा था, “जीते कोई भी, मेरा वोट मोदी को जाएगा। राष्ट्रीय सुरक्षा और ओआरओपी के लिए।” ओआरओपी यानी वन रैंक-वन पेंशन। अब आप याद करिए कि सैनिकों की यह माँग कितने समय से लंबित थी और मोदी के सत्ता में आते ही किस तेजी से इसे पूरा किया गया था।

याद करिए कि आम चुनाव के वक्त लिबरल गैंग बेगूसराय में कन्हैया कुमार नामक गुब्बारे में कितनी हवा भर रहे थे। वहीं एक युवा ने भंडारी को बताया था, “वोट मोदी को ही देंगे। वो देश को जोड़ने और आगे बढ़ाने का काम किए हैं। कन्हैया देश के टुकड़े-टुकड़े करने की बात करता है। अगर वो संसद में चला गया तो कश्मीर को भी अलग करने की माँग करने लगेगा।” यही भरोसा सीतामढ़ी में दिखा, जब कोई कहता है, “भैया अब बिजली आने लगी है तो लालटेन का क्या काम।”

भंडारी ने यह किताब आम चुनावों के दौरान देश के अलग-अलग हिस्सों में किए गए भ्रमण के अपने अनुभवों पर लिखी है। जब आप इसे पढ़ेंगे तो पाएँगे कि मोदी की विकासवादी और मजबूत नेता की यह छवि देशव्यापी है।

सत्ता में लौटने के बाद उन्होंने जिस तरह जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने, सीएए और हाल में चीन के साथ सीमा पर तनाव को लेकर रूख दिखाया है, उससे उनकी मजबूत नेता की वह छवि और पुख्ता हुई है, जो सर्जिकल और एयर स्ट्राइक जैसे साहसिक निर्णयों से बनी थी।

दूसरी तरफ कोरोना संकट के दौरान जिस तरह आत्मनिर्भर भारत का अभियान और आर्थिक पैकेज लाया गया, उसने वंचित तबकों के बीच मोदी की विकासवादी छवि और प्रगाढ़ की है। चाहे वह 10 करोड़ गरीबों के खाते में सीधे रकम ट्रांसफर करना हो या उज्‍ज्‍वला स्‍कीम के तहत 8 करोड़ से ज्‍यादा बीपीएल महिलाओं को तीन महीने तक एलपीजी सिलेंडर मुफ्त देने का फैसला या फिर गरीबों को 5 किलो प्रति व्यक्ति मुफ्त गेहूँ या चावल तीन महीने तक देने का ऐलान वगैरह, वगैरह…।

​घनघोर संकट के वक्त भी निचले पायदान के लोगों को लेकर यही चिंता जमीन पर मोदी मैजिक पैदा करती है और यह हर बीतते दिन के साथ पहले से ज्यादा प्रभावी दिखती है।

जैसा कि संतोष कुमार ने भारत कैसे हुआ मोदीमय में लिखा भी है, “जैसे कोई माँ अपने सुंदर बेटे को देखकर ईष्र्या नहीं कर सकती, वैसे ही मोदी भाजपा के लिए हैं और जब तक ऐसा चेहरा मौजूद हो, पार्टी उसे भुनाएगी ही। निश्चित तौर से भाजपा की वर्ष 2024 की पटकथा तैयार है और शायद 2026 की भी, जब मोदी 75 साल के हो जाएँगे।”

यह केवल भाजपा की ही पटकथा नहीं है। यह सपने देखने छोड़ देने वाली आँखों में उम्मीदें जगाने की पटकथा है। विकास के सपनों को पूरा करने की पटकथा है। और सबसे बढ़कर मजबूत एवं आत्मनिर्भर भारत की पटकथा है। इन पटकथाओं का ईंधन केवल एक है। उसका नाम है: मोदी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।
- विज्ञापन -

 

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।
00:25:31

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

‘ऐसे बयान हमारी मातृभूमि के लिए खतरा’: आर्मी वेटरन बोले- माफी माँगे राहुल गाँधी

आर्मी वेटरंस ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘सेना की कोई आवश्यकता नहीं’ है।

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

‘1 फरवरी को हम संसद तक पैदल मार्च निकालेंगे’: ट्रैक्टर रैली से पहले ‘किसान’ संगठनों का नया ऐलान

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति मिलने के बाद अब 'किसान' संगठन बजट सत्र को बाधित करने की कोशिश में हैं। संसद मार्च का ऐलान किया है।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर ने भगवान राम का उड़ाया मजाक, राष्ट्रपति को कर रहा था ट्रोल

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर नीलांजन सरकार ने अपना दावा झूठा निकलने पर भगवान राम का उपहास किया।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

बॉम्बे HC के ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के खिलाफ अपील करें: महाराष्ट्र सरकार से NCPCR

NCPCR ने महाराष्ट्र सरकार से कहा है कि वह यौन शोषण के मामले से जुड़े बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ तत्काल अपील दायर करे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe