Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिजिनके हाथ सिखों के ख़ून से रंगे हैं, वो अमित शाह का इस्तीफा माँग...

जिनके हाथ सिखों के ख़ून से रंगे हैं, वो अमित शाह का इस्तीफा माँग रहे: जावड़ेकर का सोनिया को जवाब

कॉन्ग्रेस द्वारा अमित शाह के इस्तीफे की माँग को भाजपा नेता ने हास्यास्पद बताया और कहा कि इससे हास्यास्पद माँग कोई नहीं हो सकती, क्योंकि अमित शाह तो उस दिन से स्थिति को संभालने में जुटे हुए हैं, जिन दिन पहली बार हिंसा भड़की थी।

दिल्ली दंगों पर कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने आज (फरवरी 26, 2020) गृहमंत्री अमित शाह से बहुत सारे सवाल किए और भाजपा पर खुलकर निशाना साधा। सोनिया गाँधी के तीखे वार के बाद भाजपा की ओर से वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने पलटवार किया। उन्होंने सोनिया गाँधी को जवाब देते हुए कहा कि जिनके हाथ सिखों के खून से रंगे हों, उन्हें राजनीति करने के लिए सवाल नहीं उठाना चाहिए। जावड़ेकर ने कहा कि दिल्ली कॉन्ग्रेस दिल्ली हिंसा पर गंदी राजनीति कर रही है। ऐसे आरोपों से पुलिस का मनोबल गिरता है।

कॉन्ग्रेस द्वारा अमित शाह के इस्तीफे की माँग को भाजपा नेता ने हास्यास्पद बताया और कहा कि इससे हास्यास्पद माँग कोई नहीं हो सकती, क्योंकि अमित शाह तो उस दिन से स्थिति को संभालने में जुटे हुए हैं, जिन दिन पहली बार हिंसा भड़की थी। उनके मुताबिक, कॉन्ग्रेस ने अमित शाह से सवाल किए है कि हिंसा के दौरान वो कहाँ थे, तो बता दें कि अमित शाह ने तो कल सर्वदलीय बैठक की थी। इस बैठक में उन्‍होंने दिल्‍ली में हिंसा की पूरी स्थिति का जायजा लिया था।

अपनी बातचीत में जावड़ेकर ने कॉन्ग्रेस के सवालों का जवाब देते हुए कहा था कि अभी सबका एक मात्र कार्य है कि हिंसा पूर्ण रूप से रुके और स्थायी शांति हो। चर्चा के लिए तो संसद का सत्र है। वहाँ चर्चा कर सकते हैं। और जिनके हाथ सिखों के नरसंहार से रंगे हों, वो यहाँ हिंसा रोकने में सफलता या असफलता की बात कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe