Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति'थोथा चना बाजे घना- एहसान फरामोश हैं राहुल गाँधी': जहाँ जाते हैं होता है...

‘थोथा चना बाजे घना- एहसान फरामोश हैं राहुल गाँधी’: जहाँ जाते हैं होता है कॉन्ग्रेस का बंटाधार

“जहाँ-जहाँ पाँव पड़े राहुल गाँधी के, तहाँ-तहाँ कॉन्ग्रेस का बंटाधार! राहुल जी ने पहले उत्तर भारत को कॉन्ग्रेस मुक्त कर दिया, अब दक्षिण को चले हैं! हमारे और जनता के लिए पूरा देश एक है। कॉन्ग्रेस भारत को उत्तर और दक्षिण में बाँटना चाहती है, जनता ऐसे प्रयासों को सफल नहीं होने देगी।”

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के त्रिवेंद्रम में दिए बयान के ऊपर भाजपा के कई नेता उनसे नाराज हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से लेकर अमेठी सांसद स्मृति ईरानी ने उन्हें खरी-खरी सुनाई है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तो राहुल को लेकर ये तक कहा है कि वह जहाँ भी कदम रखते हैं, वहाँ पार्टी का बंटाधार होता है।

मालूम हो कि राहुल गाँधी ने त्रिवेंद्रम में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था, “मैं 15 साल तक उत्तर भारत में सांसद था। मुझे एक अलग तरह की राजनीति की आदत हो गई थी। मेरे लिए केरल आना बेहद नया था क्योंकि मुझे अचानक लगा कि यहाँ के लोग मुद्दों में दिलचस्पी रखते हैं और जमीनी तौर पर मुद्दों के विस्तार में जाने वाले हैं।”

इस बयान के बाद अमेठी से वर्तमान सांसद स्मृति ईरानी ने राहुल गाँधी के लिए ‘एहसान फरामोश’ शब्द का इस्तेमाल किया। साथ ही कहा कि इनके बारे में तो दुनिया कहती है- थोथा चना बाजे घना।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिखा, “सनातन आस्था की तपस्थली केरल से लेकर प्रभु श्री राम की जन्मस्थली उत्तर प्रदेश तक सभी लोग आपको समझ चुके हैं। विभाजनकारी राजनीति आपका राजनीतिक संस्कार है। हम उत्तर या दक्षिण में नहीं, पूरे भारत को माता के स्वरूप में देखते हैं।”

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा लिखते हैं, “कुछ दिन पहले तक यह पूर्वोत्तर में रहकर भारत के पश्चिमी हिस्से के ख़िलाफ़ जहर उगल रहे थे। आज दक्षिण में जाकर उत्तर के ख़िलाफ़ जहर उगल रहे हैं। विभाजनकारी राजनीति काम नहीं करेगी राहुल गाँधी। लोगों ने ऐसी राजनीति करने वालों को नकार दिया है। आज देख लो गुजरात में क्या हुआ।”

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लिखते हैं, “जहाँ-जहाँ पाँव पड़े राहुल गाँधी के, तहाँ-तहाँ कॉन्ग्रेस का बंटाधार! राहुल जी ने पहले उत्तर भारत को कॉन्ग्रेस मुक्त कर दिया, अब दक्षिण को चले हैं! हमारे और जनता के लिए पूरा देश एक है। कॉन्ग्रेस भारत को उत्तर और दक्षिण में बाँटना चाहती है, जनता ऐसे प्रयासों को सफल नहीं होने देगी।”

गौरतलब है कि राहुल गाँधी को पिछले लोकसभा चुनावों में स्मृति ईरानी से करारी शिकस्त मिली थी। वह अमेठी में साल 2004 से सांसद थे मगर, 2019 में ये सीट ईरानी ने उनसे छीन ली। हालाँकि 2019 में ही उन्होंने केरल के वायनाड से चुनाव लड़ा था, जहाँ उन्हें जीत मिली। अब अमेठी हाथ से जाने के बाद वह उत्तर भारत के लिए देश के अलग-अलग कोने में उल जुलूल बाते कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe