Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिठहाके लगाते हुए हाथरस जाते राहुल-प्रियंका का वीडियो वायरल, महादलित नेता ने कहा- हमारी...

ठहाके लगाते हुए हाथरस जाते राहुल-प्रियंका का वीडियो वायरल, महादलित नेता ने कहा- हमारी भावनाओं से मत खेलिए

"दलित भाइयों-बहनों का दुःख बाँटने जा रहे हैं दोनों भाई-बहन। इनको इतना दुःख है कि ये लोग ठहाका लगाकर दुःख बाँटने हाथरस जा रहे हैं।आपको हक़ नहीं कि हम दलित हिंदुओं के भावनाओं के साथ खेलें।"

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी कार से हाथरस जाते हुए दिख रहे हैं। हाथरस के पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी इस वीडियो में ठहाके लगाते हुए दिख रहे हैं। ऐसे में लोग ये सवाल पूछ रहे हैं कि ऐसे वक़्त पर राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी इस तरह संवेदनहीन होकर हँसी-मजाक करते हुए कैसे जा यात्रा कर सकते हैं?

शनिवार (अक्टूबर 3, 2020) की सुबह ही पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया था कि उन्हें हाथरस के पीड़ित परिवार से मिलने से दुनिया की कोई ताक़त नहीं रोक सकती है। इससे पहले भी वो हाथरस जाने की कोशिश करते हुए पुलिस से झड़प के दौरान गिर पड़े थे, जिसे कई लोगों ने ‘नाटक’ करार दिया था। प्रियंका गाँधी भी इस दौरान खासी सक्रिय रही थी। अब हाथरस जाते हुए दोनों भाई-बहन हँसी-ठिठोली करते दिख रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि ये बेहद शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि हाथरस की बेटी के लिए ग़म और शोक मनाने निकले ‘भइया-बहना’ का असली चेहरा देख लीजिए, देखिए कि कैमरा देखते ही मातम मनाने वाले राहु़ल, प्रियंका गाड़ी में कैसे हँसी-ठहाके लगाते और मस्ती करते हाथरस आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि दरअसल ये ख़ुशी यूपी में नफरत की आग फैलाने को लेकर है, हाथरस बहाना है, यूपी जलाना है।

वहीं गया के पूर्व-सांसद और महादलित नेता हरि माँझी ने तंज कसते हुए कहा, “दलित भाइयों-बहनों का दुःख बाँटने जा रहे हैं दोनों भाई-बहन। इनको इतना दुःख है कि ये लोग ठहाका लगाकर दुःख बाँटने हाथरस जा रहे हैं।आपको हक़ नहीं कि हम दलित हिंदुओं के भावनाओं के साथ खेलें।” साथ ही भाजपा नेता ने सलाह दी कि कभी राजस्थान भी हो लीजिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe