Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिजनता PM मोदी को डंडे से मारेगी, आर-पार की लड़ाई: सोनिया-राहुल के हेट स्पीच...

जनता PM मोदी को डंडे से मारेगी, आर-पार की लड़ाई: सोनिया-राहुल के हेट स्पीच पर BJP ने उठाए सवाल

राहुल गाँधी ने कहा था कि जनता पीएम मोदी को डंडे से पीटेगी। देश का युवा मोदी की 6 महीने बाद डंडों से पिटाई करेगा और उन्हें इस देश से बाहर फेंक देगा। जबकि पीएम मोदी ने बजट सेशन में इसका जवाब देते हुए कहा था कि...

फेसबुक पर हेट स्पीच को लेकर चल रहे विवाद में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कॉन्ग्रेस के गाँधी परिवार पर आरोप लगाते हुए पूछा है कि क्या सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी के भाषण हेट स्पीच के अंतर्गत नहीं आते? उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले कई मौकों पर सोनिया और राहुल ने हेट स्पीच दिया है। उन्होंने कहा कि सोनिया गाँधी ने अपने भाषण में ‘आर-पार की लड़ाई’ की बात करते हुए हेट स्पीच को बढ़ावा दिया था।

साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि राहुल गाँधी ने कहा था कि जनता पीएम मोदी को डंडे से पीटेगी। ज्ञात हो कि फ़रवरी 2020 में एक चुनावी रैली में राहुल ने कहा था कि इस देश का युवा मोदी की 6 महीने बाद डंडों से पिटाई करेगा और उन्हें इस देश से बाहर फेंक देगा। वहीं पीएम मोदी ने बजट सेशन में इसका जवाब देते हुए कहा था कि वो सूर्य नमस्कार कर के अपनी पीठ मजबूत करेंगे।

रविशंकर प्रसाद ने इन बयानों की याद दिलाते हुए गाँधी परिवार से पूछा कि इसका अर्थ क्या है? उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान कॉन्ग्रेस नेताओं ने जम कर हेट स्पीच दिए थे। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी की समस्या ये है कि वो सोचते हैं कि जो भी उनसे सहमति नहीं रखता है वो भाजपा-आरएसएस के दबाव में ऐसा कर रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि जिन लोगों का राजनीतिक दायरा गिर कर इतना नीचे आ पहुँचा है, वो लोग अब सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर प्रभाव रखने के लिए ये हंगामा कर रहे हैं।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कोई किसी भी विचारधारा का है, उसे इन प्लेटफॉर्म्स पर अपनी बात रखने की इजाजत है। उन्होंने कहा कि जिनका सियासी वजूद ही ख़त्म हो गया है, वो लोग फेसबुक पर एकाधिकार के लिए ये सब कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कोरोना पर भी कॉन्ग्रेस के आरोप का जवाब देते हुए बताया कि पीएम केअर फण्ड से 3100 करोड़ रुपए ट्रांसफर हुए, जिनमें से 2000 करोड़ रुपए सिर्फ वेंटिलेटर के लिए खर्च किए गए, जबकि 50,000 वेंटिलेटर खरीदने के लिए 1000 करोड़ रुपए राज्यों को दिए गए।

उन्होंने राहुल गाँधी पर कोरोना के खिलाफ जंग को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वो पहले दिन से ही ऐसा कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने राजीव गाँधी फाउंडेशन में चीन से फंड आने पर भी सवाल किया। उन्होंने पूछा कि उसके स्पेशल स्टडी में ये कैसे कह दिया गया कि भारतीय बाजार चीनी माल के लिए खोल दिया जाए? उन्होंने पूछा कि इस चीज के रिकमेन्डेशन किसे दिया था?

बता दें कि वाल स्ट्रीट जर्नल द्वारा फेसबुक पर आरोप लगाया गया है कि वह भाजपा का समर्थन करता है और हेट स्पीच के मामले में उचित कार्रवाई करने से बचता है। अमेरिकी अखबार ‘वाल स्ट्रीट जर्नल’ की इस रिपोर्ट के बाद यह बहस बड़े स्तर पर विवाद का विषय बन चुकी है। इस पूरे विवाद के बीच ‘वाल स्ट्रीट जर्नल’ अपनी इस रिपोर्ट का पेड प्रोमोशन करते हुए देखा जा रहा है, जिससे यह सवाल पैदा हो रहे हैं कि वाल स्ट्रीट जर्नल के इस कारनामे से अंततः किसे फायदा पहुँचने वाला है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -