Friday, June 14, 2024
Homeराजनीति'नाम बताओ… कोई मारो मत, मारना नहीं है': पत्रकार ने पूछा सवाल तो राहुल...

‘नाम बताओ… कोई मारो मत, मारना नहीं है’: पत्रकार ने पूछा सवाल तो राहुल गाँधी ने भीड़ को उकसाया, जातिवाद पर उतरे

वीडियो में देख सकते हैं कि राहुल गाँधी एक जर्नलिस्ट का सवाल सुनकर भड़क जाते हैं और उसे वहीं जलील करना शुरू कर देते हैं। घटना उत्तर प्रदेश के रायबरेली की है। वहाँ भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान राहुल गाँधी सभा को संबोधित कर रहे थे।

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस वायरल वीडियो में वह अपनी रैली में एक पत्रकार पर हमलावर हो रखे हैं और पत्रकार को भीड़ ने घेरा हुआ है। वीडियो में देख सकते हैं कि राहुल गाँधी एक जर्नलिस्ट का सवाल सुनकर भड़क जाते हैं और उसे वहीं जलील करना शुरू कर देते हैं।

घटना उत्तर प्रदेश के रायबरेली की है। वहाँ ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के दौरान पहुँचे राहुल गाँधी एक सभा को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने पत्रकार के साथ बद्तमीजी की। पत्रकार इंडिया न्यूज का था। कहा जा रहा है राहुल गाँधी उसके सवाल का जब जवाब नहीं दे पाए तो वह उस पर चिल्लाने लगे।

सामने आए वीडियो में साफ तौर पर दिख रहा है कि वो पत्रकार से भीड़ में चिल्लाकर उसका नाम पूछते हैं और कहते हैं कि वो अपने मालिक का नाम उनको बताए। उनकी ऑडियो सुन ऐसा लगता है जैसे उनके पत्रकार को निशाना बनाते ही कुछ लोग उस पर हमलावर भी होते हैं। उस पर हाथ उठाते हैं। ऐसे में राहुल गाँधी को कहते सुना जाता है- मारो मत, मारो मत।

राहुल गाँधी कहते हैं- “मीडिया के हैं आप? नाम क्य़ा है आपका? आप शिव प्रसाद जी हैं। आपके मालिक का क्या नाम है। क्या नाम है। नाम बताओ। नाम बताओ… ओए मारो मत यार। मारो मत उसको। नाम बताओ उसका। वो ओबीसी है, नहीं। वो दलित है नहीं। वो आदिवासी है, नहीं। अरबपति है वो।”

राहुल गाँधी के इतना भड़काने पर जब समर्थक उस पत्रकार पर टूटे तो राहुल गाँधी कहते सुने गए- “भैया मारो मत उसे आजाओ। आ जाओ। मारना नहीं है उसे। इधर आओ, इधर आओ। आप रिलैक्स करो। शांति से बस बैठ जाओ। कोई प्रॉब्लम नहीं है। इनके मालिक अरबपति हैं ये किसानों की बात कभी नहीं करेंगे।”

लोग उनकी यह वीडियो देखने के बाद कह रहे हैं कि राहुल गाँधी ने खुलेआम अपने समर्थकों को एक पत्रकार विरुद्ध नाम और जाति पूछ-पूछकर भड़काया। ऐसे आदमी को सार्वजनिक स्थलों पर जाने की आजादी क्यों दी जा रही है।

यशवंत सिंह लिखते हैं, इंडिया न्यूज़ का रिपोर्टर शिव प्रसाद कांग्रेसियों द्वारा कूट दिया गया। इस पत्रकार ने राहुल गाँधी से सवाल पूछा था- “अखिलेश यादव आपके साथ नहीं हैं, क्या आपका गठबंधन टूट गया?” इसी सवाल को सुन पहले राहुल गाँधी गर्म हुए, मालिक का नाम पूछने लगे, फिर कार्यकर्ताओं ने पीट दिया।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गाँधी ने पत्रकार को किया बेइज्जत

बता दें कि यह पहली दफा नहीं है जब राहुल गाँधी ने इस तरीके से किसी पत्रकार से बात की हो। इससे पहले भी वो कई बार पत्रकारों के साथ दुर्व्यवहार करने के कारण चर्चा में आ चुके हैं। उन्होंने कई बार पत्रकारों का अपमान भी किया है। पिछले साल 25 मार्च 2023 को जब राहुल गाँधी मीडिया से मुखातिब हुए थे उस वक्त पत्रकारों द्वारा सवाल पूछे -जाने पर वो बौखला गए थे।

पत्रकार ने मोदी चोर वाले बयान पर राहुल गाँधी से पूछा था कि बीजेपी कह रही है आपने पूरे ओबीसी समाज का अपमान किया है। इस पर पूरे देश में प्रेस कॉन्फ्रेंस की तैयारी है…यही सवाल राहुल गाँधी को पसंद नहीं आया था।

इस पर पूर्व सांसद ने जवाब दिया, “भैया देखिए… पहला अटेंप्ट आपका वहाँ से आया, दूसरा अटेंप्ट यहाँ से आया… आप डायरेक्टली बीजेपी के लिए काम क्यों कर रहे हो? थोड़ी डिस्कशन से करो यार। थोड़ा घूम-घाम कर पूछो। आपको ऑर्डर दिया है क्या? देखो मुस्करा रहे हैं।”

सवाल से बौखलाकर राहुल गाँधी ने अंग्रेजी में कहना शुरू किया, “यदि आप बीजेपी के लिए काम करना चाहते हैं तो अपनी छाती पर भाजपा का ठप्पा लगा लो। फिर मैं उसी अनुसार जवाब दूँगा… पत्रकार बनने का नाटक मत करो।” इस दौरान पूर्व एमपी के चेहरे से साफ जाहिर हो रहा था कि वे चिढ़ गए थे। लेकिन उन्होंने अपनी कुंठा निकालने के लिए यहाँ तक कहा कि हवा निकल गई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -