Monday, April 12, 2021
Home राजनीति गहलोत ने की राहुल गाँधी के खिलाफ गैंगबाजी, 26 सीटों पर समेटा पार्टी को:...

गहलोत ने की राहुल गाँधी के खिलाफ गैंगबाजी, 26 सीटों पर समेटा पार्टी को: सचिन पायलट ने कहा – ‘मैं अभी भी कॉन्ग्रेसी’

"राहुल गाँधी के अध्यक्ष पद से हटते ही गहलोत ने उनके खिलाफ गैंगबाजी शुरू कर दी थी। सिर्फ अनुभवी होने की बात करते हुए सीएम पद ले तो लिया लेकिन 2 बार मुख्यमंत्री रहने के बावजूद उन्होंने पार्टी को 2003 और 2013 में 56 और 26 सीटों पर समेट दिया।"

राजस्थान के उप-मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट ने अपने राजनीतिक भविष्य के बारे में बहुत कुछ साफ़ करते हुए कहा है कि वो भाजपा में नहीं जाएँगे। उन्होंने कहा कि वो गहलोत नहीं हैं और न ही अपने लिए कुछ चाहते हैं, उनकी इच्छा है कि राजस्थान में उन वादों को पूरे किए जाएँ, जिन्हें चुनाव के वक़्त किया गया था।

सचिन पायलट ने कहा कि वसुंधरा राज सरकार में अवैध माइनिंग के खिलाफ कॉन्ग्रेस ने अभियान चलाया था। इसकी वजह से उन सब का अलॉटमेंट कैंसल हुआ था लेकिन अशोक गहलोत ने सत्ता में आने के बाद इस बारे में कुछ नहीं किया।

सचिन पायलट ने ‘इंडिया टुडे’ को दिए गए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि 2017 में हुए एक संशोधन को हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया था, जिसका प्रयोग कर के वसुंधरा राजे ने खुद के लिए जयपुर में एक सरकारी बँगला रख लिया था और वो भी जीवन भर के लिए। सचिन पायलट का दावा है कि गहलोत ने वसुंधरा से वो बँगला खाली कराने की बजाए उलटा इस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी।

सचिन पायलट ने कौशिक डेका को दिए गए इंटरव्यू में स्पष्ट आरोप लगाया कि अशोक गहलोत अपने पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे की मदद करने में लगे थे लेकिन सीएम ने उनके और उनके समर्थकों को वो सम्मान और जगह नहीं दी, जिसके वो हकदार थे। बकौल पायलट, अधिकारियों को उनका आदेश न मानने को कहा गया था और न ही उनके पास फ़ाइलें भेजी जाती थीं। कैबिनेट और सीएलपी की बैठक भी महीनों तक नहीं हुई।

सचिन पायलट ने पूछा कि उनके पद पर बने रहने का फायदा ही क्या है, जब वो जनता से किए गए वादे को पूरा करने में सक्षम नहीं हो पा रहे थे? बकौल पायलट, उन्होंने कई बार पार्टी फोरम पर इन मुद्दों को उठाया और पार्टी प्रभारी अविनाश पांडे के समक्ष भी अपनी बात रखी। सचिन पायलट ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी बात की लेकिन जब बैठकें ही नहीं होती थीं तो चर्चा और बहस के लिए जगह ही कहाँ थी? पायलट ने ‘इंडिया टुडे’ के कौशिक डेका से कहा:

“इससे मेरे सम्मान को चोट पहुँची है। 2019 लोकसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस पार्टी ने अपने मैनिफेस्टो में देशद्रोह का कानून हटाने की वकालत की थी और बाद में इसी कॉन्ग्रेस सरकार ने इस कानून का इस्तेमाल अपने ही मंत्री के खिलाफ किया। मैंने अन्याय के खिलाफ ये कदम उठाया। जब सदन चल रहा हो तब ह्विप जारी किया जाता है लेकिन सीएम ने बैठक के लिए ऐसा कर दिया। उन्होंने मुझे अपने घर बुलाया, पार्टी मुख्यालय में भी नहीं। भाजपा के साथ मेरे मिले होने के आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। मैंने कॉन्ग्रेस को राजस्थान में जिताने मे इतनी मेहनत की है। मैं अपनी ही पार्टी के विरुद्ध क्यों जाऊँगा?”

राजस्थान में कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बावजूद सचिन पायलट ने कहा कि वो अभी भी कॉन्ग्रेस में ही हैं और अपने समर्थकों से विचार-विमर्श कर के यह तय करेंगे कि आगे क्या कदम उठाने हैं। सचिन पायलट ने इस बात से भी इनकार कर दिया कि वो भाजपा जॉइन करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल वो अपने लोगों के लिए काम करना जारी रखेंगे। पायलट ने बताया कि उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया से पिछले 6 महीने से मुलाकात नहीं की है।

सचिन पायलट ने यह भी स्पष्ट किया कि उन्होंने पार्टी को 2018 में अपने नेतृत्व में जीत दिलाने के बावजूद कभी मुख्यमंत्री पद की माँग नहीं रखी थी। साथ ही उन्होंने कहा कि 200 सदस्यीय विधानसभा में जब कॉन्ग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई थी, तब उन्होंने प्रदेश में पार्टी की कमान संभाली। पायलट ने बताया कि जब वो 5 वर्षों तक पुलिस के अत्याचार के खिलाफ लड़ रहे थे, संगठन को मजबूत कर रहे थे और जनता के साथ काम कर रहे थे, तब गहलोत के मुँह से एक शब्द भी नहीं निकल रहा था।

सचिन पायलट ने कहा कि अशोक गहलोत ने अनुभवी होने की बात करते हुए सीएम पद ले तो लिया लेकिन 2 बार मुख्यमंत्री रहने के बावजूद उन्होंने पार्टी को 2003 और 2013 में 56 और 26 सीटों पर समेट दिया। बकौल पायलट, गहलोत ने 2019 लोकसभा चुनाव में भी अच्छे प्रदर्शन का पार्टी को भरोसा दिलाया था। पायलट ने कहा कि राहुल गाँधी के कहने पर ही उन्होंने इस निर्णय को स्वीकार किया।

पायलट ने आरोप लगाया कि सीएम गहलोत उन्हें अपमानित करने में लगे रहे। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी के अध्यक्ष पद से हटते ही गहलोत ने उनके खिलाफ गैंगबाजी शुरू कर दी थी। हालाँकि, उन्होंने स्वीकार किया कि प्रियंका गाँधी ने जरूर उनसे फोन पर बात की है लेकिन वो व्यक्तिगत बातचीत थी और उससे कोई निष्कर्ष नहीं निकला। उन्होंने कहा कि वो स्वतंत्रता से काम करना चाहते हैं, उन्हें पावर नहीं चाहिए।

इससे पहले खबर आई थी कि सचिन पायलट ने अधिकतर कॉन्ग्रेस नेताओं का फोन कॉल रिसीव करना ही बंद कर दिया है। राजस्थान में पार्टी के प्रभारी अविनाश पांडेय ने भी स्वीकार किया था कि पायलट को कई कॉल्स और मैसेज किए गए लेकिन वो जवाब नहीं दे रहे हैं। राज्य में ‘हॉर्स ट्रेडिंग’ के आरोपों को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है और उसकी जाँच चल रही है, जिस सम्बन्ध में दो भाजपा नेताओं को भी गिरफ्तार किया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वास्तिक को बैन करने के लिए अमेरिका के मैरीलैंड में बिल पेश: हिन्दू संगठन की आपत्ति, विरोध में चलाया जा रहा कैम्पेन

अमेरिका के मैरीलैंड में हाउस बिल के माध्यम से स्वास्तिक की गलत व्याख्या की गई। उसे बैन करने के विरोध में हिंदू संगठन कैम्पेन चला रहे।

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe