Monday, November 29, 2021
Homeराजनीतिराहुल गाँधी की कॉन्ग्रेस के IT सेल वर्कर ने ही करवाई भारी बेइज्जती, स्मृति...

राहुल गाँधी की कॉन्ग्रेस के IT सेल वर्कर ने ही करवाई भारी बेइज्जती, स्मृति ईरानी की हाजिरजवाबी से पस्त

कॉन्ग्रेस का राष्ट्रीय समन्वयक होने का दावा करने वाले गौरव पांधी ने ट्विटर पर स्मृति ईरानी का मजाक उड़ाने की कोशिश करते हुए उन्हें भारत के इतिहास का सबसे 'मूर्ख' और 'बेवकूफ' सांसद बताया था।

केंद्रीय महिला एवं बाल कल्याण मंत्री स्मृति ईरानी की हाजिरजवाबी लाजवाब है। शनिवार (16 मई 2020) को एक बार फिर सब उनके इस हुनर के कायल हो गए। कॉन्ग्रेस आईटी सेल के कार्यकर्ता गौरव पांधी ने स्मृति को नीचा दिखाने की कोशिश में अपने पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी का मजाक बनवा दिया।

दरअसल, कॉन्ग्रेस का राष्ट्रीय समन्वयक होने का दावा करने वाले पांधी ने ट्विटर पर स्मृति ईरानी का मजाक उड़ाने की कोशिश करते हुए उन्हें भारत के इतिहास का सबसे ‘मूर्ख’ और ‘बेवकूफ’ सांसद बताया था।

स्मृति ईरानी पर गौरव पांधी का ट्वीट

पांधी के अपमानजनक ट्वीट का एक दिन बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने बेहद विनम्र अंदाज में जवाब देकर सोशल मीडिया यूजर्स का दिल जीत लिया।

गौरव पांधी को स्मृति ईरानी का जवाब

उन्होंने इस ट्वीट का जवाब देते हुए पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी पर निशाना साधते हुए लिखा कि वो इस बात सहमत हैं। साथ ही उन्होंने लिखा कि कल्पना कीजिए कि उनके जैसे मूर्ख ने सुपर इंटेलीजेंट राहुल गाँधी को हरा दिया।

बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गाँधी को अमेठी में स्मृति ईरानी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। गाँधी परिवार के पारंपरिक गढ़ अमेठी में राहुल गाँधी को स्मृति ईरानी ने 55,000 वोटों से हराया था।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ उत्तर प्रदेश के अपने गढ़ अमेठी में हार का सामना करने वाले तत्कालीन कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी 2019 के लोकसभा चुनाव में दो सीटों से लड़े थे। राहुल गाँधी ने अमेठी के अलावा केरल के मुस्लिम बहुल वायनाड निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था, क्योंकि इसे कॉन्ग्रेस पार्टी के लिए एक सुरक्षित सीट माना जाता था।

स्मृति ईरानी के हाथों हार का स्वाद चखने वाले राहुल गाँधी वर्तमान में वायनाड निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले लोकसभा सदस्य हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe