Tuesday, April 13, 2021
Home राजनीति कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया पर दर्ज FIR खारिज करने से SC का इनकार, भगवान...

कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया पर दर्ज FIR खारिज करने से SC का इनकार, भगवान राम और भगवा पर किया था अमर्यादित ट्वीट

पंकज पुनिया के खिलाफ "धार्मिक भावनाओं को आहत करने" के आरोप में हरियाणा के करनाल के अलावा उत्तर प्रदेश के नोएडा और लखनऊ एवं मध्य प्रदेश में भी FIR दर्ज है। उन्हें 20 मई को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

भगवान राम और भगवा पर अमर्यादित ट्वीट करने वाले कॉन्ग्रेस नेता नेता पंकज पुनिया को को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट (SC) ने शुक्रवार (मई 29, 2020) को पुनिया के खिलाफ दर्ज FIR रद्द करने से इनकार कर दिया

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति एस अब्दुल नज़ीर और न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी की खंडपीठ ने उत्तर प्रदेश के नोएडा और लखनऊ तथा मध्य प्रदेश के सिवनी में उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी निरस्त करने से इनकार कर दिया।

बता दें कि पंकज पुनिया को सोशल मीडिया पोस्ट के माध्यम से हिंदुओं के “धार्मिक भावनाओं को आहत करने” के आरोप में हरियाणा के करनाल में दर्ज FIR के आधार पर गिरफ्तार किया गया था।

पुनिया ने गिरफ्तारी का हवाला देकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में दर्ज FIR रद्द की माँग की थी। परन्तु सुप्रीम कोर्ट ने FIR खारिज करने से इनकार कर दिया। पुनिया की तरफ से ये याचिका वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, “हम भारत के संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत दायर इस याचिका पर विचार करने के लिए तैयार नहीं हैं। इसलिए यह याचिका खारिज की जाती है।” हालाँकि सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा कि पुनिया चाहें तो इस मामले पर हाई कोर्ट में अर्जी लगा सकते हैं।

पंकज पुनिया के खिलाफ “धार्मिक भावनाओं को आहत करने” के आरोप में हरियाणा के करनाल के अलावा उत्तर प्रदेश के नोएडा और लखनऊ एवं मध्य प्रदेश में भी FIR दर्ज है। पुनिया को 20 मई को गिरफ्तार किया गया था।

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया ने मंगलवार (मई 19, 2020) को ट्वीट करके ‘संघियों’ को बलात्कारी बताया था। साथ ही भगवान राम के नाम का गलत इस्तेमाल किया और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना करते हुए उनके खिलाफ बेहद ही आपत्तिजनक शब्द लिखे थे।

पुनिया ने यूपी सरकार की आलोचना करते हुए लिखा था, “कॉन्ग्रेस सिर्फ़ मजदूरों को अपने खर्च पर उनके घरों तक पहुँचाना चाहती थी। बिष्ट सरकार ने राजनीति शुरू की। भगवा लपेटकर नीच काम संघी ही कर सकते हैं। ये कब्र से निकालकर लाशों का बलात्कार करने वाले लोग हैं। बेटियों के सामने पैंट उतारकर जय श्रीराम के नारे लगाने वाले हस्तमैथुन करने वाले लोग हैं।”

इसको लेकर उनकी तीखी आलोचना हुई और गिरफ्तारी की माँग की जाने लगी। पंकज पुनिया के खिलाफ उत्तर प्रदेश के हजरतगंज और नोएडा पुलिस ने आईटी एक्ट सहित कई मामलो में FIR दर्ज की गई। ये मुकदमा धारा 295ए, 500, 505, 153ए और 66 आईटी एक्ट के तहत दर्ज किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,160FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe