Saturday, July 31, 2021
HomeराजनीतिUP: 'संघियों' को गाली देने वाले कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया पर FIR, ट्विटर पर...

UP: ‘संघियों’ को गाली देने वाले कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया पर FIR, ट्विटर पर अभी भी उगल रहे जहर

पंकज पुनिया ने अपने ट्वीट में 'संघियों' को बलात्कारी बताया था। श्रीराम के नाम का गलत इस्तेमाल किया और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना करते हुए उनके लिए आपत्तिजनक शब्द लिखे थे।

कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया के खिलाफ उत्तर प्रदेश में केस दर्ज किया गया है। भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। पुनिया के खिलाफ लखनऊ के हज़रतगंज थाने में FIR दर्ज की गई है। उन पर आपत्तिजनक ट्वीट करने और उससे एक धर्म विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का आरोप है।

कपिल मिश्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा, “पंकज पुनिया के खिलाफ यूपी में साइबर क्राइम में आपराधिक केस दर्ज कर लिया गया है। देश भर में अलग अलग थानों में सैकड़ों FIR सुबह से दर्ज हो चुकी हैं। पंकज पुनिया माफी माँग रहा हैं। लेकिन अपराध अक्षम्य हैं। भगवान राम और धर्म का अपमान अस्वीकार्य।”

पुलिस ने FIR में लिखा है कि सोशल मीडिया पर मॉनिटिरिंग के दौरान देखा गया कि पंकज पुनिया के ट्वीट राजनीतिक और धार्मिक आपत्तिजनक ट्वीट, धर्म विशेष, समुदाय विशेष और आराध्य विशेष का नाम लेकर किया गया, जिससे समाज में द्वेष की भावना भड़क रही है।

FIR की कॉपी

उल्लेखनीय है कि कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया ने मंगलवार (मई 19, 2020) को एक ट्वीट किया था, जिस पर हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का आरोप लगाया गया। पंकज पुनिया ने अपने ट्वीट में ‘संघियों’ को बलात्कारी बताया, श्रीराम के नाम का गलत इस्तेमाल किया और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना करते हुए उनके लिए आपत्तिजनक शब्द लिखे थे।

पुनिया ने ट्वीट में लिखा, “कॉन्ग्रेस सिर्फ़ मजदूरों को अपने खर्च पर उनके घरों तक पहुँचाना चाहती थी। बिष्ट सरकार ने राजनीति शुरू की। भगवा लपेटकर नीच काम संघी ही कर सकते हैं। ये कब्र से निकालकर लाशों का बलात्कार करने वाले लोग हैं। बेटियों के सामने पैंट उतारकर जय श्रीराम के नारे लगाने वाले हस्तमैथुन करने वाले लोग हैं।”

इसके बाद से ही ट्विटर पर उनकी आलोचना हुई और पुनिया की गिरफ्तारी की माँग की जाने लगी। FIR और कार्रवाई के डर से पुनीया ने ये ट्वीट तो डिलीट कर दिया था लेकिन इसके बाद भी वो जहर छोड़ते नजर आए। जिस पर कुछ लोगों ने उन्हें परेशान ना होने की सलाह भी दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,242FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe