Sunday, June 23, 2024
Homeराजनीतिमुस्लिमों के लिए स्पेशल पार्क बनाएगी BRS, तेलंगाना में मतदान से पहले इस्लामी तुष्टिकरण...

मुस्लिमों के लिए स्पेशल पार्क बनाएगी BRS, तेलंगाना में मतदान से पहले इस्लामी तुष्टिकरण में जुटे के CM केसीआर

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) ने कहा है कि सत्ता में फिर से लौटने पर वे मुस्लिम युवाओं के लिए एक अलग आईटी पार्क खोलेंगे। उन्होंने गुरुवार (23 नवंबर 2023) को कहा कि उनकी सरकार मुस्लिमों को पेंशन भी दे रही है और उनके लिए आवासीय स्कूल भी खोले हैं। उन्होंने मुस्लिमों से BRS पार्टी को ही वोट देने की अपील की।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) ने सत्ता के लिए तुष्टिकरण की हदें पार कर दी हैं। उन्होंने सत्ता में फिर से लौटने पर मुस्लिम युवाओं के लिए एक अलग आईटी पार्क खोलने की घोषणा की है। उन्होंने गुरुवार (23 नवंबर 2023) को कहा कि उनकी सरकार मुस्लिमों को पेंशन भी दे रही है और उनके लिए आवासीय स्कूल भी खोले हैं। उन्होंने मुस्लिमों से BRS पार्टी को ही वोट देने की अपील की।

तेलंगाना के महेश्वरम में एक रैली को संबोधित करते हुए सीएम केसीआर ने कहा, “हम मुस्लिम युवाओं के बारे में सोच रहे हैं। हैदराबाद के पास उनके लिए एक विशेष आईटी पार्क बनवाएँगे। यह आईटी पार्क पहाड़ी शरीफ के पास बनेगा।” उन्होंने कहा कि तुक्कुगुड़ा क्षेत्र में 52 नए उद्योग लगाए गए हैं। यहाँ फॉक्सकॉन इंडस्ट्री आ गया है और इससे लाखों लोगों को नौकरी मिलेगी।

हिंदू और मुस्लिमों को अपनी दो आँखें बताते हुए भारत राष्ट्र समिति (BRS) पार्टी के प्रमुख और तेलंगाना के सीएम KCR ने कहा, “आज हमारी सरकार मुस्लिमों को भी पेंशन दे रही है। हमने आवासीय स्कूल खोले हैं, जिनमें मुस्लिम छात्र भी पढ़ते हैं। हम मुस्लिम युवाओं के बारे में सोच रहे हैं और उनके लिए हैदराबाद में आईटी पार्क बनाएँगे।”

मुस्लिमों पर तेलंगाना सरकार द्वारा किए जा रहे खर्चों के बारे में बताते हुए KCR ने कहा, “BRS की सरकार ने पिछले 10 सालों में अल्पसंख्यकों के विकास पर 12,000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। वहीं, कॉन्ग्रेस ने अपने 10 साल के कार्यकाल के दौरान अल्पसंख्यकों के विकास पर सिर्फ 2,000 करोड़ रुपए खर्च किए थे।”

उन्होंने कहा कि जब तक केसीआर जिंदा है, तब तक तेलंगाना धर्मनिरपेक्ष राज्य बना रहेगा। केसीआर ने कहा कि तेलंगाना शांतिपूर्ण राज्य है और यहाँ कानून-व्यवस्था की कोई समस्या नहीं है। तेलंगाना को अलग राज्य बनवाने का श्रेय लेते हुए केसीआर ने कहा कि उनकी सरकार में 24 घंटे मुफ्त बिजली दे रही है और हर घर तक नल का पानी पहुँचाया है।

महेश्वरम से BRS के नेता और तेलंगाना के शिक्षा मंत्री सविता इंद्ररेड्डी चुनाव मैदान में हैं। इनके फेवर में चुनाव प्रचार करने के लिए के चंद्रशेखर राव महेश्वरम पहुँचे थे। बता दें कि राज्य में 30 नवंबर 2023 को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान है। वोटों की गिनती 3 दिसंबर 2023 को होगी।

बता दें कि सितंबर 2023 में केसीआर की सरकार ने तेलंगाना में कपड़े धोने वाले और नाई का काम करने वाले मुस्लिमों को हर माह 250 यूनिट बिजली मुफ्त देने की घोषणा की थी। इस तरह की छूट अब तक एससी कम्यूनिटी के लोगों को ही हासिल थी, लेकिन हैदराबाद के सांसद और AIMIM के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी के निवेदन पर राज्य सरकार ने मुस्लिमों के लिए भी ये छूट जारी की।

वहीं, नवंबर 2023 के शुरुआत में यूनाइटेड मुस्लिम फोरम (UMF) ने सदस्यों ने BRS को अपना समर्थन देने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि बीआरएस सरकार ने तेलंगाना में अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए ईमानदारी से काम किया और देश के दूसरे राज्यों की तुलना में अल्पसंख्यकों के लिए सबसे ज्यादा बजट भी आवंटित किया है। उन्होंने कहा था कि ‘शादी मुबारक योजना’ अल्पसंख्यक समुदायों की औरतों की मदद कर रहा है।

दरअसल, शादी मुबारक योजना के माध्यम से केसीआर सरकार प्रत्येक मुस्लिम परिवार को 1,00,116 रुपए की वित्तीय सहायता देती है। साल 2014 में जब यह योजना शुरू की गई थी तो सहायता राशि 51,000 रुपए थी, लेकिन 6 साल में यह राशि लगभग दोगुनी हो गई है। बता दें कि साल 2020 तक 6 सालों में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण से संबंधित योजनओं के लिए सरकारी खजाने से 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी के दिए घरों में रहते हैं, 100% वोट कॉन्ग्रेस को देते हैं’: बोले असम CM सरमा – राज्य पर कब्ज़ा करना चाहते हैं...

सीएम हिमंता ने कहा कि बांग्लादेशी मूल के अल्पसंख्यकों ने कॉन्ग्रेस को इसलिए वोट दिया, क्योंकि अगले 10 सालों में वे राज्य को कब्जा चाहते हैं।

NEET पीपर लीक की जाँच अब CBI के हवाले, केंद्रीय जाँच एजेंसी ने दर्ज की FIR: PG की परीक्षा के लिए नई तारीखों का...

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से बताया गया कि विवाद की समीक्षा के बाद मंत्रालय ने मामले की व्यापक जाँच के लिए इसे सीबीआई को सौंपने का फैसला किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -