Thursday, September 23, 2021
Homeराजनीतिअकाली दल ने किया था CAA का विरोध, अफगानिस्तान के हालात देख सिरसा के...

अकाली दल ने किया था CAA का विरोध, अफगानिस्तान के हालात देख सिरसा के बदले सुर: गुरुग्रंथ साहिब को सिर पर रख चले मोदी के मंत्री

मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि अफगानिस्तान से आने वाले लोगों की मदद के लिए वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से माँग करते हैं कि CAA के कटऑफ डेट को बढ़ा कर 2021 किया जाए।

अफगानिस्तान में सिखों के लिए आखिरी उम्मीद भी ख़त्म हो गई हैं, क्योंकि वहाँ के गुरुद्वारे भी सुरक्षित नहीं हैं। अफगानिस्तान से सिखों की पवित्र पुस्तक गुरु ग्रन्थ साहिब की तीन प्रतियाँ भारत लाई गई हैं। गुरु ग्रन्थ साहिब को ‘आदिग्रन्थ’ भी कहा जाता है। अफगानिस्तान से कई सिख पहले ही बचा कर भारत लाए गए हैं, जिनमें एक सिख सांसद भी शामिल हैं। केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी इस दौरान मौके पर उपस्थित रहे।

उन्होंने पवित्र गुरु ग्रन्थ साहिब की प्रतियों को नई दिल्ली में रिसीव किया। उन्होंने अपने सिर पर रख कर उन प्रतियों को प्राप्त किया। लोगों का कहना है कि ये घटना अफगानिस्तान में सिख परंपरा के खात्मे की ओर इशारा करती है। इससे पहले 25 मार्च, 2020 को गुरुद्वारा हर राय साहिब में इस्लामिक स्टेट ने हमला कर दिया था। इसमें 25 लोग मरे थे। तब गुरु ग्रन्थ साहिब की 7 प्रतियाँ लाई गई थीं।

इसके बाद अब अफगानिस्तान में गुरु ग्रन्थ साहिब की सिर्फ तीन प्रतियाँ ही रह गई हैं। सिखों ने बताया कि काबुल, गजनी और जलालाबाद के गुरुद्वारों से इन प्रतियों को काफी भारी मन से भारत लाया गया है। गुरु नानक देव ने कभी अफगानिस्तान की यात्रा की थी और शांति, भाईचारे एवं सहिष्णुता का संदेश दिया था। उनके उस दौरे में ही वहाँ सिख परंपरा की नींव पड़ी। तीन सिख इन तीन प्रतियों को लेकर दिल्ली पहुँचे।

इसी बीच मनजिंदर सिंह सिरसा ने CAA के कटऑफ डेट को दिसंबर 2014 से बढ़ा कर 2021 तक करने की माँग की है। ‘अकाली दल’ के नेता और ‘दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी’ के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि अफगानिस्तान से आने वाले लोगों की मदद के लिए वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से माँग करते हैं कि CAA के कटऑफ डेट को बढ़ा कर 2021 किया जाए।

उन्होंने दावा किया कि इससे तालिबान के संकट के बीच अफगानिस्तान से भारत लौटने वाले लोगों को यहाँ सुरक्षित जीवन जीने का अधिकार मिलेगा और साथ ही बच्चों की शिक्षा भी सुनिश्चित हो सकेगी। बता दें कि सिरसा हाल ही में ‘किसान आंदोलन’ में खासे सक्रिय रहे हैं और प्रदर्शनकारियों के लिए आयोजित लंगर में उनकी बड़ी भूमिका रही है। गुरुद्वारा कमिटी ने प्रदर्शनकारियों की काफी मदद की थी।

जहाँ एक तरफ अब उन्हें CAA याद आ रहा है, उनकी पार्टी इस नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करती रही है। अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल कहते हैं कि CAA में मुस्लिमों को भी जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने दावा किया था कि पंजाब में कई पीड़ित मुस्लिम भी भारत की नागरिकता लेना चाहते हैं। उन्होंने ‘ये देश सबका है’ बयान देते हुए कहा था कि हर समुदाय को भारत का हिस्सा महसूस कराने की जिम्मेदारी भारत सरकार की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

100 मलयाली ISIS में हुए शामिल- 94 मुस्लिम, 5 कन्वर्टेड, 1 हिन्दू: ‘नारकोटिक्स जिहाद’ पर घिरे केरल के CM ने बताया

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बुधवार को खुलासा किया कि 2019 तक केरल से ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयालियों में से लगभग 94 मुस्लिम थे।

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe