Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतितीरथ सिंह रावत: उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री, कल त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दिया था...

तीरथ सिंह रावत: उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री, कल त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दिया था इस्तीफा

उत्तराखंड में सियासी उलट फेर के बाद राज्य में मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी तीरथ सिंह रावत को दी गई है। वह आज शाम तक पद की शपथ लेंगे. ऐसा कहा जा रहा है।

उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे में सियासी उलट फेर के बाद राज्य में मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी तीरथ सिंह रावत को दी गई है। बुधवार (मार्च 10, 2021) को देहरादून में भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल की बैठक के बाद यह नाम सामने आया। कहा जा रहा है कि वह आज शाम तक पद की शपथ ले लेंगे।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, सीएम की कुर्सी छोड़ने के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत ने यह घोषणा की है कि भाजपा सांसद तीरथ सिंह रावत ही उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री होंगे। तीरथ सिंह, उत्तराखंड के गढ़वाल लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं। वह उत्तराखंड बीजेपी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। फिलहाल बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव हैं।

गौरतलब है कि उत्तराखंड बीजेपी में चल रहे घमासान के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राज्य के मुख्यमंत्री पद से कल इस्तीफा दे दिया था। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार (मार्च 9, 2021) शाम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंपा था। इस इस्तीफे के बाद से अटकलें लग रही थीं सीएम के इस्तीफा देने के बाद पर्यवेक्षकों की देख-रेख में विधायकों की बैठक में नया सीएम चुना जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe