Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिक्या आयकर पर नई लकीर खींचेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए मोदी सरकार के बजट में...

क्या आयकर पर नई लकीर खींचेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए मोदी सरकार के बजट में क्या-क्या हो सकता है खास

इस बार बजट में सरकार होम लोन पर टैक्स की कटौती की सीमा को 2 लाख की सीमा से बढ़ाकर 5 लाख तक कर सकती है। इसके अलावा हेल्थकेयर सर्विसेज से जीएसटी हटाने पर विचार किए जाने की उम्मीद सरकार से की जा रही है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी 2023 को मोदी सरकार का 11वाँ बजट संसद में पेश करने जा रही हैं। उन्होंने अब तक 5 बार केंद्रीय बजट को पेश किया है। 2023-24 का ये आम बजट आम जनता के साथ-साथ सरकार के लिए भी अहम है। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले ये आखिरी पूर्ण बजट है। लोग उम्मीद लगाकर बैठे हैं कि इसमें हर वर्ग का ध्यान रखा जाएगा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बार बजट में सरकार होम लोन पर टैक्स की कटौती की सीमा को 2 लाख की सीमा से बढ़ाकर 5 लाख रुपए तक कर सकती है। इसके अलावा हेल्थकेयर सर्विसेज से जीएसटी हटाने पर विचार किए जाने की उम्मीद सरकार से की जा रही है। नौकरीपेशा लोग और रियल सेक्टर सेक्टर वाले भी टैक्सेशन में राहत की आस लेकर बैठे हैं। महंगाई से प्रभावित लोगों को इस बजट से राहत मिलेगी ऐसे कयास भी रिपोर्ट्स में लगाए जा रहे हैं। किसानों और ग्रामीण इलाकों को भी ध्यान में रखकर बड़ा ऐलान किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले निर्मला सीतारमण ने बजट सत्र की शुरुआत करते हुए मंगलवार (31 जनवरी, 2023) को संसद में आर्थिक सर्वेक्षण 2023 पेश किया था। इस सर्वे में देश की जीडीपी में तेजी से बढ़ोतरी की उम्मीद जताई गई थी। साथ ही कहा गया था कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा। जारी वित्तीय वर्ष की पहली तीन तिमाही में सरकार ने जीएसटी से 13.40 लाख करोड़ रुपए का राजस्व एकत्रित किया है।

आर्थिक सर्वेक्षण 2023 मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वरन के मार्गदर्शन में आर्थिक मामलों के विभाग (DEA) द्वारा तैयार किया गया। इस सर्वे में कहा गया है कि दुनिया भर में मंदी की आहट के बाद भी आगामी वित्तीय वर्ष (2023-24) में देश की आर्थिक विकास दर 6.5% रहने का अनुमान है। हालाँकि, यह विकास दर मौजूदा वित्त वर्ष के 7% और पिछले वित्त वर्ष यानी 2021-22 के 8.7% से कम है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -