Monday, May 20, 2024
Homeराजनीतिक्या 5वीं बार 300+ का रिकॉर्ड बनाएगा यूपी, रूझानों में BJP बहुमत के पार:...

क्या 5वीं बार 300+ का रिकॉर्ड बनाएगा यूपी, रूझानों में BJP बहुमत के पार: कई मिथक तोड़ते दिख रहे हैं CM योगी

माना जाता रहा है कि जो नेता मुख्यमंत्री रहते नोएडा जाता है उसकी कुर्सी सुरक्षित नहीं रहती। सीएम योगी अपने कार्यकाल में करीब 40 बार नोएडा आए थे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की गिनती जारी है। रूझानों में बीजेपी बहुमत के नंबर को पार कर चुकी है। खबर लिखे जाने तक चुनाव आयोग ने 397 सीटों के रूझान जारी किए थे। इनमें से 249 पर बीजेपी आगे थी। इस चुनाव में सबसे महत्वपूर्ण सीट गोरखपुर की है, जहाँ से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनाव लड़ रहे हैं। खबर लिखे जाने वे आगे चल रहे थे। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव करहल से उम्मीदवार हैं, करहल में तीसरे राउंड की गिनती के बाद वे 17000 वोटों से आगे चल रहे हैं।

​2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 312 सीटें मिली थी। इन चुनावों में जो सवाल सबसे ज्यादा पूछा गया वह यह है कि क्या बीजेपी फिर 300 सीटें पार करने में कामयाब रहेगी। इस बार ज्यादातर एग्जिट पोल में बीजेपी इस नंबर के पास पहुंचती नहीं दिखी थी। यदि अंतिम नतीजों में बीजेपी 300 के नंबर को पार करने में कामयाब रही तो यह नया रिकॉर्ड होगा।

कब-कब बना 300 प्लस का रिकार्ड

2017 के विधानसभा चुनाव में 403 सीटों में से 312 सीटें जीतकर भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश के अपने चुनावी इतिहास में सबसे ज्यादा सीटें पाई थी। उत्तर प्रदेश विधानसभा में 300 से ज्यादा सीटें लाने का करिश्मा इससे पहले भी हो चुका है। आजादी के बाद 1951 में हुए सबसे पहले विधानसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस ने 413 सीटों में से 388 सीट पर जीत दर्ज कर सरकार बनाई थी। 25 जून 1975 में भारत में आपातकाल की घोषणा हुई थी, 21 मार्च 1977 को आपातकाल हटाया गया। आपातकाल के बाद 1977 में उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में जनता पार्टी ने 352 सीटें जीतकर सरकार बनाई थी। इस चुनाव में कॉन्ग्रेस की स्थिति बहुत खराब हो गई थी। साल 1980 में कॉन्ग्रेस फिर से मजबूत हुई और 309 सीटों पर जीत दर्ज कर सत्ता में वापसी की

उत्तर प्रदेश की सत्ता में बीजेपी की वापसी सुनिश्चित होते ही राज्य की राजनीति से जुड़े कई मिथक भी टूट जाएँगे। बीते डेढ़ दशक में जो भी राज्य का मुख्यमंत्री बना है वह विधानसभा के बजाय विधान परिषद का सदस्य रहा है। पहले मायावती, फिर अखिलेश यादव और पिछली बार योगी आदित्यनाथ ने इसी परंपरा का निर्वाह किया था। इसी तरह माना जाता रहा है कि जो नेता मुख्यमंत्री रहते नोएडा जाता है उसकी कुर्सी सुरक्षित नहीं रहती। सीएम योगी अपने कार्यकाल में करीब 40 बार नोएडा आए थे।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा की कुल 403 सीटें हैं। बहुमत का आँकड़ा 202 है। 2017 के चुनाव में बीजेपी ने 312 सीटें जीती थी। उसे 39.67% मत मिले थे। कॉन्ग्रेस और सपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था। सपा को 21.82% वोट के साथ 47 तो कॉन्ग्रेस को 6.25% वोटों के साथ 7 सीटें मिली थी। 22.23% वोट हासिल करने के बावजूद बसपा 19 सीटों पर सिमट गई थी। अन्य के खाते में 5 सीटें गई थी। उससे पहले 2012 में सपा और 2007 के विधानसभा चुनावों में बसपा को स्पष्ट बहुमत हासिल हुआ था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -