Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिपहले सुल्तान और अब तापस पॉल, मोदी सरकार के दबाव में मर रहे मेरे...

पहले सुल्तान और अब तापस पॉल, मोदी सरकार के दबाव में मर रहे मेरे लोग: ममता बनर्जी

"मोदी सरकार के दबाव के कारण कई ज़िंदगियाँ गाल के गाल में समा गई हैं। सरकारी एजेंसियों ने दबाव बना कर तीन लोगों की जान ले ली। पूर्व सांसद सुल्तान अहमद, सांसद प्रसून बनर्जी की पत्नी और अब तापस पॉल- इन सभी की मौत की जिम्मेदार मोदी सरकार है।"

तृणमूल कॉन्ग्रेस के पूर्व सांसद व वरिष्ठ बंगाली अभिनेता तापस पॉल की मंगलवार (फरवरी 18, 2020) की सुबह मुंबई के एक अस्पताल में हृदय गति रुकने की वजह से मृत्यु हो गई थी। अब उनकी मौत के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को दोषी ठहराया है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री अब अपनी ही पार्टी के नेताओं की लाश पर राजनीतिक रोटियाँ सेंकने में लग गई है। तापस पॉल को दिसंबर 2016 में रोज वैली चिट फंड घोटाले से तार जुड़े होने के कारण सीबीआई ने गिरफ़्तार किया था।

तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि सरकारी जाँच एजेंसियों द्वारा लगातार बनाए जा रहे दबाव और मोदी सरकार की ‘बदले की राजनीति’ के कारण वरिष्ठ अभिनेता व नेता तापस पॉल की मौत हुई है। पॉल की 61 वर्ष की उम्र में मृत्यु हुई थी। रोज वैली चिट फंड घोटाला मामले में वो 1 वर्ष से भी अधिक समय तक जेल में रहे थे। पॉल को श्रद्धांजलि देते हुए ममता ने अपनी पार्टी के एक अन्य नेता पूर्व संसद सुल्तान अहमद का जिक्र करते हुए कहा कि नारदा टेप स्कैम में उनका नाम घसीटे जाने के कारण वो काफ़ी तनाव में थे और इसी कारण उन्हें हार्ट अटैक आ गया।

मुख्यमंत्री कोलकाता के रवींद्र सदन में में तापस पॉल को श्रद्धांजलि दनी पहुँची थीं, जहाँ उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। ममता बनर्जी ने कहा:

“मोदी सरकार के दबाव के कारण कई ज़िंदगियाँ गाल के गाल में समा गई हैं। सरकारी एजेंसियों ने दबाव बना कर तीन लोगों की जान ले ली। पूर्व सांसद सुल्तान अहमद, सांसद प्रसून बनर्जी की पत्नी और अब तापस पॉल- इन सभी की मौत की जिम्मेदार मोदी सरकार है। हमारे नेताओं को जेल भेजा जा रहा है लेकिन सरकारी एजेंसियाँ अब तक ये साबित नहीं कर पाई हैं कि उन्होंने अपराध क्या किया था। अब तक कुछ साबित नहीं हो सका है। अगर किसी ने अपराध किया है तो उसे सज़ा मिलनी चाहिए। तापस या फिर अन्य नेताओं ने आख़िर अपराध क्या किया था?

ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार ने तापस पॉल पर दबाव बना कर उन्हें मानसिक प्रताड़ना दी थी, जिससे उनकी मृत्यु हो गई। हालाँकि, भाजपा ने तृणमूल के आरोपों को नकारते हुए कहा कि वरिष्ठ अभिनेता ने अपने पापों का फल भोगा और अब उन्हें बंगाल की सत्ताधारी पार्टी ‘बलि का बकरा’ बना रही है।

साल 2014 में सीपीएम की महिलाओं के लिए ‘रेप करवा दूँगा‘ बयान के कारण तापस काफी विवादों में रहे थे। उस समय कॉन्ग्रेस और लेफ्ट समेत सभी पार्टियों ने उन पर सवाल उठाए थे। इसके बाद उनकी पत्नी नंदिनी को इस बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी माँगनी पड़ी थी।

बंगाल: मदरसों पर ममता बनर्जी मेहरबान, मजहबी शिक्षा लेने को हिंदू बच्चे मजबूर

ममता के बंगाल में मेरी किसी भी दिन की जा सकती है हत्या: पद्म पुरस्कार विजेता काजी मासूम अख्तर

बम बनाते हुए फूटने से TMC नेता मुस्ताक शेख ने गँवाए दोनों हाथ, बीजेपी की CAA-समर्थन रैली में फोड़ना था लक्ष्य

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -