Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिचुनाव जीता तो सीलिंग रुकवा दूँगा: सुप्रीम कोर्ट के आदेश को केजरीवाल ने दिखाया...

चुनाव जीता तो सीलिंग रुकवा दूँगा: सुप्रीम कोर्ट के आदेश को केजरीवाल ने दिखाया ठेंगा

इन अपीलों को सुनकर लगता है कि शायद वो अपने पद की गरिमा और माननीय सर्वोच्च न्यायालय की ताकत को भूल रहे हैं। या फिर यह भी हो सकता है कि उन्हें चुनाव जीतने के लिए कोई और मुद्दा न दिख रहा हो।

हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चुनाव प्रचार के दौरान किसी भी राजनैतिक दल का नाम लिए बिना जनता से कहा कि पार्टियाँ पैसे दें तो मना मत करना, लेकिन वोट आम आदमी पार्टी को ही देना। अरविंद केजरीवाल ने दक्षिण दिल्ली के उम्मीदवार राघव चड्ढा के समर्थन में आयोजित रोड शो में इस बात को कहा है। गौरतलब है कि इससे पहले भी चाँदनी चौक में वो इसी तरह की टिप्पणी कर चुके हैं, जिसके कारण निर्वाचन आयोग ने उन्हें कारण बताओ नोटिस भी भेजा था।

इतना ही नहीं ‘पैसे ले लेना, लेकिन वोट AAP को देना’ के अलावा, चुनाव जीतने के लिए अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के व्यापारियों की नब्ज को भी पकड़ा। अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नोटबंदी करने के बाद देश के व्यापारियों में अफरा-तफरी मच गई थी। जब नोटबंदी का प्रभाव कम हुआ तो बिना तैयारी के जीएसटी लागू कर दिया गया। दिल्ली के व्यापारियों पर सीलिंग की भी मार पड़ी, जिसके कारण बड़ी संख्या में रोजगार खत्म हुए।

अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक, पार्टी कार्यालय से हुई मीडिया में बातचीत में उन्होंने आरोप लगाया कि बीते पाँच सालों में केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों ने अर्थव्यवस्था को बर्बाद किया है। इसके कारण व्यापारियों में खासी नाराज़गी है। केजरीवाल ने व्यापारियों से अपील की है कि इस बार अगर वह सातों सीट पर आम आदमी पार्टी को जितवा देंगे, तो केजरीवाल दिल्ली में सीलिंग नहीं होने देंगे। हालाँकि, केजरीवाल के इस दावे पर दिल्ली के कारोबारियों का कहना है कि अरविंद केजरीवाल का यह दावा गलत है क्योंकि यह मामला केंद्र सरकार का है और यह पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में है। ऐसे में जो मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में है, उस पर दिल्ली की सातों सीट जीतकर क्या किया जाएगा इसका पता नहीं है।

वैसे तो चुनाव प्रचार के लिए हर पार्टी और राजनेता अपने-अपने ढंग से मतदाताओं को रिझाने में जुटे हुए हैं। इसी दिशा में अरविंद केजरीवाल भी रैलियाँ करके दिल्ली की जनता से आप को वोट देने की गुहार लगा रहे हैं, लेकिन उनकी इन अपीलों को सुनकर लगता है कि शायद वो अपने पद की गरिमा और माननीय सर्वोच्च न्यायालय की ताकत को भूल रहे हैं। या फिर यह भी हो सकता है कि उन्हें चुनाव जीतने के लिए कोई और मुद्दा न दिख रहा हो।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया है दिल्ली में सीलिंग का आदेश

अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की जनता को पहले ही पूर्ण राज्य का सपना दिखाकर पार्टी के लिए वोटों की माँग कर रहे हैं, और अब सीलिंग रुकवाने का झूठ बोलने लगे हैं। केजरीवाल को जानने-समझने की जरूरत है कि जिस प्रकार दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने का कार्य अकेले केजरीवाल और दिल्ली के 7 लोकसभा सीटों के विधायक नहीं कर सकते हैं, उसी प्रकार दिल्ली में सीलिंग रोकने काम भी वो, और उनके 7 विधायक नहीं कर सकते हैं क्योंकि दिल्ली में हो रही सीलिंग का आदेश  सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिया गया है। केजरीवाल के इस बयान के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर जमकर घेरा जा रहा है। लोग उनसे सवाल कर रहे हैं कि अगर ऐसा हो सकता था, तो उन्होंने अब तक सीलिंग क्यों नहीं रुकवाई? इसके अलावा कुछ लोग केजरीवाल को उनके अधूरे वादों की याद दिला कर भी उनसे जवाब माँग रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -