Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिविदेशी शक्तियों द्वारा प्रोपेगेंडा फैलाकर राष्ट्र को अस्थिर करने का कोई भी कृत्य भारत...

विदेशी शक्तियों द्वारा प्रोपेगेंडा फैलाकर राष्ट्र को अस्थिर करने का कोई भी कृत्य भारत को स्वीकार नहीं: CM योगी

“यह हमारा आंतरिक मामला है और इसे हम अपने किसान भाइयों के साथ बातचीत कर सुलझाएँगे, लेकिन निहित स्वार्थों को लेकर विदेशी शक्तियों द्वारा प्रोपेगेंडा फैलाकर राष्ट्र को अस्थिर करने हेतु किया गया कोई भी कृत्य भारत स्वीकार नहीं करेगा।”

दिल्ली में चल रहे ‘किसान आंदोलन’ को लेकर प्रोपेगंडा फैलाने वाली रिहाना अचानक से पूरे भारतीय मीडिया और सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बन गई हैं। उन्हें लेकर लेख लिखे जा रहे हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस मुद्दे पर अपनी राय रखी है।

उन्होंने एक के बाद एक दो ट्वीट करते हुए लिखा, “यह हमारा आंतरिक मामला है और इसे हम अपने किसान भाइयों के साथ बातचीत कर सुलझाएँगे, लेकिन निहित स्वार्थों को लेकर विदेशी शक्तियों द्वारा प्रोपेगेंडा फैलाकर राष्ट्र को अस्थिर करने हेतु किया गया कोई भी कृत्य भारत स्वीकार नहीं करेगा।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने का अधिकार है, किसान बिल को लेकर कतिपय संगठनों द्वारा दर्ज किए गए विरोध के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में भारत सरकार 11 बार किसानों से वार्ता कर चुकी है।”

बता दें कि रिहाना ने दिल्ली में चल रहे ‘किसान आंदोलन’ का समर्थन करते हुए पूछा था कि लोग इस पर बात क्यों नहीं कर रहे हैं? इस दौरान उन्होंने CNN की एक खबर भी शेयर की थी, जिसमें भारत सरकार पर अनर्गल आरोप लगाए गए थे। इंटरनेट बंद करने और किसानों पर ‘अत्याचार’ की बातें की गई थीं।

रिहाना ने जिस खबर को शेयर किया था, उसमें दावा किया गया है कि दिल्ली में केंद्र सरकार ने इंटरनेट कनेक्शन काट दिया है और किसानों के साथ पुलिस अत्याचार कर रही है। ग्रेटा थनबर्ग ने भी रिहाना के सुर में सुर मिलाया। बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने ‘किसान आंदोलन’ पर रिहाना के सवाल का जवाब दिया।

उन्होंने कहा, “इसके (किसान आंदोलन) बारे में बात इसलिए नहीं हो रही है, क्योंकि वो किसान हैं ही नहीं। वो ऐसे आतंकी हैं, जो भारत को विभाजित करने के प्रयास में लगे हुए हैं। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, ताकि हमारा देश टूट जाए और फिर कमजोर हुए देश पर चीन अपना कब्ज़ा जमा ले। फिर वो इसे अपनी चाइनीज कॉलोनी बना लेगा, USA की तरह।” उन्होंने दिल्ली में हुई हिंसा के प्ररिप्रेक्ष्य में ये बातें कही।

इसके साथ ही बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार, अजय देवगन, सुनील शेट्टी ने भी उन तमाम सेलेब्स को आईना दिखाया। एक्टर ने विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए बयान का समर्थन करते हुए कहा है, “किसान हमारे देश का एक अहम हिस्सा है। उनकी परेशानियों का हरसंभव समाधान निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस प्रयास का समर्थन करना चाहिए। जो भी दूरियाँ पैदा करने की कोशिश कर रहा है, उन पर ध्यान नहीं देना चाहिए।”

अक्षय के अलावा अजय देवगन और सुनील शेट्टी ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट किया है। दोनों ही दिग्गज अभिनेताओं ने एकजुटता का संदेश देते हुए स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी बाहरी प्रपोगेंडा के प्रभाव में नहीं आना है। वहीं ये भी कहा गया है कि आधा सच हमेशा खतरनाक साबित होता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल है या झटका… मीट की दुकान के बाहर लिखो: जयपुर नगर निगम ने जारी किया आदेश, शिव मंदिर के पास और काँवड़ियों के...

जयपुर नगर निगम ने कावंडियों के रास्ते में और शिव मंदिर के निकट खुले में मीट बिक्री पर रोक लगाने की बात कही है।

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -