AAP विधायक पर FIR: बुजुर्ग का प्लॉट हथियाने को भेजे थे गुंडे, 2016 में MLA खुद हुए थे अरेस्ट

विधायक महेंद्र यादव के गुंडे दिन-दहाड़े बुजुर्ग के प्लॉट में घुस गए और मेन गेट का ताला तोड़ डाला। बुजुर्ग की जमीन पर महेंद्र यादव की नजर 2006 से ही थी लेकिन विधायक बनने के बाद कोई निर्माण कार्य भी नहीं होने दिया।

विकासपुरी से आम आदमी पार्टी के विधायक महेंद्र यादव पर दिल्ली पुलिस ने प्लॉट कब्जा करवाने के आरोप में मामला दर्ज किया है। 62 वर्षीय बुजुर्ग की शिकायत पर विधायक महेंद्र यादव के अलावा 2 अन्य लोगों के ख़िलाफ़ भी शिकायत दर्ज हुई है, जिन्हें दिल्ली पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। इन 2 युवकों की पहचान प्रदीप और विपिन के रूप में हुई है। इन दोनों को विधायक का करीबी बताया जा रहा है।

विधायक महेंद्र यादव पर विकास नगर इलाके में 150 स्क्वायर गज के प्लॉट पर अवैध कब्जा करने का आरोप है। लेकिन, विधायक का कहना है कि उनका इस मामले से कोई ताल्लुक नहीं है।

अमर उजाला की खबर के मुताबिक पुलिस ने बताया है कि 62 वर्षीय बुजुर्ग ओम प्रकाश शर्मा परिवार के साथ विकास नगर के गुप्ता इंक्लेव में रहते हैं। उन्होंने 2002 में दीप इंक्लेव पार्ट-2 में स्क्वायर 150 गज का एक प्लॉट खरीदा था, लेकिन 2006 में अचानक महेंद्र यादव ने उस प्लॉट को अपना प्लॉट बताना शुरू कर दिया। इसको लेकर कई बार उनके बीच विवाद भी हुआ।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

महेंद्र यादव ने इस बीच प्लॉट पर कोई निर्माण कार्य भी नहीं होने दिया। 2013 में विधायक बनते ही महेंद्र यादव का दबदबा और बढ़ गया। हालाँकि, 2017 के अगस्त में ओमप्रकाश ने प्लॉट की चारदीवारी करवाने के लिए वहाँ एक छोटा कमरा बनवा दिया था, लेकिन इस रविवार (9 जून 2019) को दिन दहाड़े विधायक के इशारे पर कुछ बदमाश उस प्लॉट में घुस गए और मेन गेट का ताला तोड़ डाला और फिर उन्होंने पीछे वाली लकड़ी का दरवाजा तोड़ा।

बुजुर्ग की शिकायत पर पुलिस ने प्रदीप और विपिन को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस दोनों आरोपितों से मामले की पूछताछ कर रही है। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने पिछले 6 साल के दौरान आम आदमी पार्टी के विधायकों पर 100 से अधिक मामले दर्ज किए, जिसमें कोर्ट में सुनवाई के दौरान 60 से अधिक मामले खारिज हो चुके हैं। जबकि कुछ में गिरफ्तारी भी हुई है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि महेंद्र यादव वही विधायक हैं जो 2016 में सरकारी कर्मचारी पर हाथ उठाने के मामले में गिरफ्तार भी हो चुके हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

SC और अयोध्या मामला
"1985 में राम जन्मभूमि न्यास बना और 1989 में केस दाखिल किया गया। इसके बाद सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों का आंदोलन चला। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया जिसके कारण 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी गई।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,623फैंसलाइक करें
15,413फॉलोवर्सफॉलो करें
98,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: