Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजAMU में लगे 'सिर तन से जुदा' के नारे: नूपुर शर्मा के लिए फाँसी...

AMU में लगे ‘सिर तन से जुदा’ के नारे: नूपुर शर्मा के लिए फाँसी की माँग, प्रशासन को 24 घंटे का अल्टीमेटम

AMU के छात्रों ने ही नहीं, प्रोफेसरों ने भी नूपुर शर्मा के बयान का विरोध किया। प्रो. हामिद अली, डॉ. मुबस्सिर अली, अशरफ मतीन जैसे शिक्षकों ने बयान को आपत्तिजनक बताते हुए इसके खिलाफ कैंडल मार्च निकाला।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh, Uttar Pradesh) जिले में स्थित अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में 8 जून 2022 (बुधवार) को पुलिस के सामने ‘सिर तन से जुदा’ और ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के भड़काऊ नारे लगाए गए। ये नारे नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के कथित बयानों के विरोध में जमा कथित छात्रों की भीड़ ने लगाए। इस दौरान जुमे की नमाज को बैन करने की माँग करने वाली महामंडलेश्वर अन्नपूर्णा गिरी के खिलाफ भी नारेबाजी की गई है।

उत्थान न्यूज़ नाम के फेसबुक पेज पर बुधवार की शाम लगभग 5 बजे यह वीडियो LIVE हुआ था। इस वीडियो के 4 मिनट 50वें सेकेण्ड के बाद भीड़ में मौजूद कई लोग ‘गुस्ताख़-ए-नबी की एक सज़ा, सिर तन से जुदा… सिर तन से जुदा’ के नारे लगाते सुनाई दिए।

इस दौरान अलीगढ़ पुलिस प्रशासन भी मौके पर मौजूद था। वीडियो में 7वें मिनट पर दिख रहा रहा है कि हंगामे के दौरान लाउडस्पीकर पर तेज आवाज में अजान शुरू होती है। इसके बाद अजान खत्म होने तक हंगामे को रोक दिया गया। इस दौरान कुछ लोगों द्वारा मौके पर ही बैठ कर नमाज पढ़ने को कहा गया।

अजान खत्म होने के बाद AMU छात्र नेता जानिब हसन ने कहा, “हम अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के छात्र नूपुर शर्मा के अपने पैगंबर पर दिए गए बयान का विरोध करते हैं। ऐसा पहली और अंतिम बार नहीं हुआ है। भारतीय मीडिया और भाजपा नेता आए दिन मुस्लिमों को निशाना बना रहे हैं। हम ऐसे मामलों को सहन नहीं करेंगे।”

दंगाइयों के खिलाफ कार्रवाई करने वाली पुलिस के खिलाफ भी जानिब हसन ने माँग की। उसने आगे कहा, “नूपुर शर्मा ने दंगे जैसे हालत पैदा कर दिए हैं। पूरे देश के मुस्लिमों में गुस्सा है। हम अपने पैगंबर के खिलाफ बोलने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की माँग करते हैं। जल्द-से-जल्द नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की गिरफ्तारी हो। साथ ही उन पुलिस वालों पर भी एक्शन हो, जो सिर्फ मुस्लिमों पर ही कार्रवाई कर रहे हैं।”

इसी वीडियो में एक पत्रकार के सवाल पर प्रदर्शनकरियों ने कहा, “अगर 24 घंटे में जुमे की नमाज पर बैन लगाने की माँग करने वाली महिला (महामंडलेश्वर अन्नपूर्णा भारती) की गिरफ्तारी नहीं हुई तो एक बड़ा मार्च निकलेगा।” प्रदर्शन AMU की मौलाना आज़ाद लाइब्रेरी में हुआ, जो बाद में जुलूस के रूप में जिलाधिकारी कार्यालय की तरफ बढ़ गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, AMU के प्रदर्शनकारियों ने भाजपा की पूर्व नेता नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की गिरफ्तारी के लिए प्रशासन को 48 घंटे का समय दिया है। इस समय सीमा के बाद न सिर्फ AMU, बल्कि पूरे जिले में धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी गई है।

AMU में मुफीद राहिब फरहान जुबैरी, आरिफ त्यागी, सलमान सिद्दीकी, मोहम्मर सारिम, नदीम अख्तर, सरमाज उल हक, अशहद आलम, सलमान गौरी, इखलास आलम, फरहान जैद, आरिफ जैसे छात्र नेताओं ने नूपुर शर्मा की फाँसी की माँग करते हुए जुलूस निकाला। उधर AMU के प्रो. हामिद अली, डॉ. मुबस्सिर अली, अशरफ मतीन जैसे शिक्षकों ने भी नूपुर शर्मा के खिलाफ कैंडल मार्च निकाला है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘228 किलो सोना चोरी होने का सबूत दें शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद, या जाएँ कोर्ट’: मंदिर समिति की दो टूक, पूछा – कॉन्ग्रेस के एजेंडे को...

अजेंद्र अजय ने कहा कि सीएम धामी से साधु-संतों और जनप्रतिनिधियों ने अनुरोध किया था, ऐसे में वो धार्मिक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए, इसमें सरकारी पैसा नहीं लगा है ।

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस सरकार के ‘लोकल कोटा’ पर उठे सवाल, उद्योगपति बोले- प्राइवेट सेक्टर में कन्नड़ भाषियों को रिजर्वेशन भेदभावपूर्ण, बिल रद्द करें

कर्नाटक में निजी नौकरियों में कन्नड़ लोगों को 50-75% आरक्षण देने का निर्णय कारोबारी समुदाय को रास नहीं आया है। उन्होंने इसकी आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -