Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनजबड़ा तोड़ा, खोपड़ी फोड़ी, रॉड से दागा, नाले में बहाया शव... 'पति, पत्नी और...

जबड़ा तोड़ा, खोपड़ी फोड़ी, रॉड से दागा, नाले में बहाया शव… ‘पति, पत्नी और वो’ की कहानी में फैन की एंट्री के बाद कन्नड़ स्टार बना ‘हत्यारा’, इंस्टाग्राम से कनेक्शन

असल में रेणुका स्वामी अपने फेवरिट स्टार दर्शन का नाम पवित्रा से जुड़ने से नाराज़ था। उसने अभिनेत्री के सोशल मीडिया पोस्ट्स पर आपत्तिजनक कमेंट्स किए, जिस बारे में पवित्रा ने अपने बॉयफ्रेंड को बताया।

कर्नाटक में रेणुका स्वामी नामक शख्स की हत्या का मामला पिछले कई दिनों से चर्चा में बना हुआ है, क्योंकि इस हत्याकांड में 27 वर्षों से तेलुगु फिल्म इंडस्ट्री में सक्रिय दर्शन तुगुदीप का नाम आया है। आखिर इतना बड़ा स्टार अपराधी कैसे हो गया? फैंस इसी सवाल का जवाब तलाश रहे हैं। ये पूरा मामला दर्शन तुगुदीप और उसकी गर्लफ्रेंड अभिनेत्री पवित्रा गौड़ा से जुड़ा हुआ है। मृतक रेणुका स्वामी, दर्शन तुगुदीप का बहुत बड़ा फैन भी था। वो अभिनेता के जीवन की गहरी जानकारी रखता था।

दर्शन तुगुदीप शादीशुदा हैं। उन्होंने 2003 में विजयलक्ष्मी से शादी की थी। दर्शन के पिता तुगुदीप श्रीनिवास कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री में विलेन के किरदारों के लिए जाने जाते थे। रेणुका स्वामी हत्याकांड में पुलिस ने 15 लोगों को गिरफ्तार किया है। असल में रेणुका स्वामी अपने फेवरिट स्टार दर्शन का नाम पवित्रा से जुड़ने से नाराज़ था। उसने अभिनेत्री के सोशल मीडिया पोस्ट्स पर आपत्तिजनक कमेंट्स किए, जिस बारे में पवित्रा ने अपने बॉयफ्रेंड को बताया।

पवित्रा और दर्शन उसकी इस हरकत से काफी नाराज़ हुए। फिर 9 जून, 2024 को रेणुका स्वामी की लाश पुलिस को कामाक्षीपाल्या के एक नाले से मिली। इसके बाद 2 लोग थाने पहुँचे और उन्होंने रेणुका स्वामी की हत्या का जुर्म कबूलते हुए कहा कि लेनदेन का विवाद बढ़ने के कारण उन्होंने ऐसा किया। लेकिन, जब पुलिस ने खँगाला तो पाया कि इन दोनों ने कई बार दर्शन से बात की थी। साथ ही हत्या वाले दिन आरोपितों और दर्शन तुगुदीप की लोकेशन सेम मिली।

चित्रदुर्ग में रहने वाला रेणुका स्वामी एक फार्मेसी कंपनी में कार्यरत था। उसे लगता था कि दर्शन तुगुदीप के जीवन में पवित्रा गौड़ा की एंट्री के कारण अभिनेता की शादीशुदा ज़िन्दगी में दिक्कतें आ रही हैं। इसीलिए, उसने पवित्रा को अपनी फेक आईडी से कई बार मैसेज-कमेंट्स कर के कहा कि वो दर्शन को छोड़ दे। दर्शन तुगुदीप ने चित्रदुर्ग के अपने फैन-क्लब कोऑर्डिनेटर रघुवेन्द्र से बात कर के रेणुका स्वामी की डिटेल्स निकलवाई थी। एक कमेंट में रेणुका स्वामी ने पवित्र गौड़ा से पूछा था कि अभिनेता दर्शन तुगुदीप उसके साथ क्यों ट्रेवल नहीं करते?

साथ ही उसने ये तंज भी कसा था कि दर्शन अपनी पत्नी विजयलक्ष्मी के साथ ही अक्सर दिखते हैं। उसने लिखा था, “रहने दो, समाज में तुम रखैल ही रहोगी।” वह गौड़ा को अपनी प्राइवेट पार्ट की तस्वीर भेज कर कहता था कि ये दर्शन से अधिक दमदार है। पत्नी सहाना ने बताया कि रेणुका स्वामी को राघवेंद्र नामक शख्स लेकर गया था और अपहरण कर के एक झोपड़ी में रखा गया। वहाँ दर्शन ने रेणुका को बेल्ट से पीटा। फिर अपने गुर्गों से उसकी हत्या कर देने को कह कर निकल गया।

दर्शन तुगुदीप के जाने के बाद उसके गुर्गों ने रेणुका स्वामी को लोहे की रॉड से दागा, लाठियों से पीटा और दीवार से दे मारा। शाकाहारी रेणुका स्वामी को मांस भी जबरन खिलाया गया। उसका जबड़ा तोड़ा गया, जीभ और नाक काट दी गई। हत्या के बाद शव को नाले में बहा दिया गया। 30 लाख रुपए की सुपारी लेकर गुंडों ने ये काम किया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि रेणुका की कई हड्डियाँ टूटी हुई थीं, 15 घाव थे। खोपड़ी की हड्डी में भी फ्रैक्चर था। पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टरों को भी 1 करोड़ रुपए ऑफर किए गए थे, ताकि इस हत्या को प्राकृतिक मौत दिखाई जा सके।रॉड से

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -